Breaking News
  • भरतपुर- जमीन विवाद को लेकर दो भाई भिड़े, एक महिला सहित आधा दर्जन लोग घायल, नंदेरा गांव की घटना
  • उदयपुर- लोक परिवहन सेवा की बस पलटी, एक दर्जन यात्री घायल, भटेवर के पास हादसा
  • जयपुर- चित्तौड़गढ़ के बूंद-बूंद सिंचाई घोटाले में सहायक निदेशक उद्यान अजय सिंह शेखावत निलम्बित
  • बांसवाड़ा- परीक्षा देने के बाद कल लापता हुर्इ 9वीं कक्षा की छात्रा मिली, स्कूल के पास ही खंडहर में छिपी रही
  • जयपुर: JDA अथॉरिटी की बैठक के एजेंडा में मांगे शामिल नहीं करने पर गुस्साए कर्मचारी
  • जयपुर: ट्रांसपोर्ट नगर में तीन दुकानों के ताले टूटे, थाने पहुंचे पीडि़त
  • हनुमानगढ़- सुरेशिया में शर्मनाक घटना, नाबालिग से वेश्यावृत्ति कराते दो जनों को पकड़ा
  • धौलपुर: सेवारत चिकित्सकों ने को पीजी में प्रवेश के लिए पीएमओ को सौंपा ज्ञापन
  • भरतपुर: नदबई मे फूड पाइजनिंग से एक ही परिवार के पांच जने बीमार
  • धौलपुर: जगदीश टॉकीज के पास बाड़ी रोड पर बाइकों की भिड़ंत में एक गम्भीर घायल
  • धौलपुर: मनिया क्षेत्र के गांव जसुपुरा में बुजुर्ग का सांप ने काटा
  • धौलपुर: बसेड़ी में ट्रैक्टर बाइक की भिड़ंत, बाइक में लगी आग, तीन लोग घायल
  • जयपुर: अल्बर्ट हॉल म्यूजियम में 29 व 30 को नाईट टूरिज्म रहेगा बंद
  • कोटा : दौलतगंज खान में काम करते समय मलबा गिरने से युवक की मौत
  • बूंदी:आनंदी होटल के पीछे जंगल में लगी आग, दमकल व पुलिस पहुंची मौके पर
  • जयपुर: चंदवाजी के ग्राम भुरानपुरा जाटान में आग से दो कच्चे घर जले
  • माउंट आबू: गुजरात के राज्यपाल ओपी कोहली पहुंचे आबूरोड, ब्रह्माकुमारी के सम्मेलन में लेंगे भाग
  • सीकर: भंवर कॉलोनी में मोबाइट टॉवर के विरोध में लोगों ने नगरपरिषद पर किया हंगामा
  • जयपुर: राज विवि के एसोसिएट प्रोफेसर महिपाल का अनशन समाप्त, Hod से मारपीट के बाद थे निलम्बित
  • श्रीगंगानगर: सरकारी या निजी गोदाम से गेहूं परिवहन के लिए पंजीकृत ट्रैक्टर ट्राली ही स्वीकृत
  • हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर रोड पर बाइक सवार बदमाश रुपयों से भरा थैला ले उड़े
  • जयपुर- जयसिंहपुरा गांव के पास सवारियों से भरी जीप पलटी, चालक घायल
  • श्रीगंगानगर:मांझूवास गांव के पास दो ट्रकों की आपस में भिड़ंत, एक की मौत एक घायल
  • जयपुर के कानोता रोड पर ट्रक की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवक घायल
  • भीलवाड़ा: भीलवाड़ा से अजमेर की तरफ जा रही कार से सवा किलोअफीम के साथ 3 गिरफ्तार
  • समय पर पूरी नहीं हुई द्रव्यवती नदी कायाकल्प योजना तो फर्म पर होगा जुर्माना-मंत्री कृपलानी
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव-टिकट बंटवारे को लेकर राहुल गांधी के घर के बाहर प्रदर्शन
  • राज्यसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित
  • आईपीएस प्रोबेशनर एस दीपक आत्माराम को बर्खास्त किया गया
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में मंत्री अब्दुल रहमान वीरी की कार पर पत्‍थर फेंके गए
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

एक विवाह ऐसा भी, यहाँ दुल्हन का दूल्हा बना कुत्ता

Patrika news network Posted: 2017-03-19 18:05:30 IST Updated: 2017-03-21 10:55:07 IST
एक विवाह ऐसा भी, यहाँ दुल्हन का दूल्हा बना कुत्ता
  • समाज के लोगों के मुताबिक इस परंपरा को निभाने से बच्चों पर से सभी प्रकार के ग्रहदोष मिट जाते हैं।

नई दिल्ली।

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में आदिवासी मुंडा समाज में एक अजीबो-गरीब परंपरा आज भी कायम है। यहां ग्रह-दोष मिटाने के लिए बच्चों का विवाह कुत्ते के बच्चे के साथ किया जाता है। मकर संक्रांति के अगले दिन बुधवार को पारंपारिक गीतों के बीच दुधमुंहे बच्चे सहित पांच साल के आठ बच्चों की शादी धूमधाम से की गई। बच्चों के साथ दूल्हे-दुल्हन के रूप में कुत्ते के बच्चे बैठे थे। खुशनुमा माहौल में समाज के लोग गीतों पर थिरक भी रहे थे।





खबरों के अनुसार, समाज में मान्यता है कि दुधमुंहे बच्चों के ऊपरी दांत पहले निकलने पर उसे ग्रहदोष लग जाता है। इसलिए पांच वर्ष से पहले ऐसे बच्चों की शादी कुत्ते से की जाती है। शादी भी पूरे रीति-रिवाज व धूमधाम से होती है। बच्चों को दूल्हा-दुल्हन के रूप में सजाने के साथ कुत्ते के बच्चे को भी सजाया जाता है। उसे माला पहनाई जाती है। बारात निकालकर गांव के आखिरी छोर में बच्चों की शादी की जाती है। बड़े-बुजुर्ग पूजा-अर्चना के साथ ही बच्चों व कुत्ते को हल्दी भी लगाते हैं। 




इसके बाद सामान्य शादी की तरह मांग भरी जाती है, आशीर्वाद लिया जाता है। शादी संपन्न होते ही समाज की महिलाएं पारंपरिक गीत गाते हुए झूमते-नाचते दूल्हा-दुल्हन को घर ले जाती हैं, जहां उनके पैर धुलाकर घर प्रवेश कराया जाता है। कुत्ते को खाना खिलाया जाता है। इसके बाद रातभर जश्न मनाया जाता है। दूल्हा-दुल्हन की देखरेख की जिम्मेदारी बड़े होने तक समाज के लोग ही निभाते हैं। समाज के लोगों के मुताबिक इस परंपरा को निभाने से बच्चों पर से सभी प्रकार के ग्रहदोष मिट जाते हैं। 




खबरों के अनुसार, यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। पूर्वजों के बताए अनुसार जिन बच्चों के ऊपर के दांत पहले निकलते हैं उनकी शादी कुत्ते से कराना अनिवार्य होता है। यहां के कई बड़े-बुजुर्गो की भी बचपन में ऐसी शादी हो चुकी है। बच्चों के परिजन भी रस्म अदा करते हुए कुत्ते का स्वागत करते हैं। उन्हें उपहार में रुपये भेंट किए जाते हैं। उनके भी हाथ-पैर व माथे में हल्दी का लेप किया जाता है। आखिर में दूल्हा कुत्ते का हाथ पकड़कर दुल्हन बच्ची के माथे में सिंदूर लगाया जाता है। 




वहीं दूल्हा बने बच्चे द्वारा दुल्हन कुत्ते के माथे में सिंदूर लगाकर शादी की रस्म पूरी कराई जाती है। कोरबा जिले की सावित्री मुंडा ने बताया कि समाज में सदियों से यह परंपरा चली आ रही है। ऐसा न करने पर युवावस्था में शादी करने वाले जोड़ों को ग्रहदोष घेर लेता है। परिवार के साथ अनिष्ट होने लगता है। यहां तक कि जोड़े में से किसी एक की मौत भी संभावित होती है। कुत्ते से शादी होने पर भविष्य में शादी करने वाले जोड़े सुख-समृद्धि में रहते हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood