Breaking News
  • भरतपुर- जमीन विवाद को लेकर दो भाई भिड़े, एक महिला सहित आधा दर्जन लोग घायल, नंदेरा गांव की घटना
  • उदयपुर- लोक परिवहन सेवा की बस पलटी, एक दर्जन यात्री घायल, भटेवर के पास हादसा
  • जयपुर- चित्तौड़गढ़ के बूंद-बूंद सिंचाई घोटाले में सहायक निदेशक उद्यान अजय सिंह शेखावत निलम्बित
  • बांसवाड़ा- परीक्षा देने के बाद कल लापता हुर्इ 9वीं कक्षा की छात्रा मिली, स्कूल के पास ही खंडहर में छिपी रही
  • जयपुर: JDA अथॉरिटी की बैठक के एजेंडा में मांगे शामिल नहीं करने पर गुस्साए कर्मचारी
  • जयपुर: ट्रांसपोर्ट नगर में तीन दुकानों के ताले टूटे, थाने पहुंचे पीडि़त
  • हनुमानगढ़- सुरेशिया में शर्मनाक घटना, नाबालिग से वेश्यावृत्ति कराते दो जनों को पकड़ा
  • धौलपुर: सेवारत चिकित्सकों ने को पीजी में प्रवेश के लिए पीएमओ को सौंपा ज्ञापन
  • भरतपुर: नदबई मे फूड पाइजनिंग से एक ही परिवार के पांच जने बीमार
  • धौलपुर: जगदीश टॉकीज के पास बाड़ी रोड पर बाइकों की भिड़ंत में एक गम्भीर घायल
  • धौलपुर: मनिया क्षेत्र के गांव जसुपुरा में बुजुर्ग का सांप ने काटा
  • धौलपुर: बसेड़ी में ट्रैक्टर बाइक की भिड़ंत, बाइक में लगी आग, तीन लोग घायल
  • जयपुर: अल्बर्ट हॉल म्यूजियम में 29 व 30 को नाईट टूरिज्म रहेगा बंद
  • कोटा : दौलतगंज खान में काम करते समय मलबा गिरने से युवक की मौत
  • बूंदी:आनंदी होटल के पीछे जंगल में लगी आग, दमकल व पुलिस पहुंची मौके पर
  • जयपुर: चंदवाजी के ग्राम भुरानपुरा जाटान में आग से दो कच्चे घर जले
  • माउंट आबू: गुजरात के राज्यपाल ओपी कोहली पहुंचे आबूरोड, ब्रह्माकुमारी के सम्मेलन में लेंगे भाग
  • सीकर: भंवर कॉलोनी में मोबाइट टॉवर के विरोध में लोगों ने नगरपरिषद पर किया हंगामा
  • जयपुर: राज विवि के एसोसिएट प्रोफेसर महिपाल का अनशन समाप्त, Hod से मारपीट के बाद थे निलम्बित
  • श्रीगंगानगर: सरकारी या निजी गोदाम से गेहूं परिवहन के लिए पंजीकृत ट्रैक्टर ट्राली ही स्वीकृत
  • हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर रोड पर बाइक सवार बदमाश रुपयों से भरा थैला ले उड़े
  • जयपुर- जयसिंहपुरा गांव के पास सवारियों से भरी जीप पलटी, चालक घायल
  • श्रीगंगानगर:मांझूवास गांव के पास दो ट्रकों की आपस में भिड़ंत, एक की मौत एक घायल
  • जयपुर के कानोता रोड पर ट्रक की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवक घायल
  • भीलवाड़ा: भीलवाड़ा से अजमेर की तरफ जा रही कार से सवा किलोअफीम के साथ 3 गिरफ्तार
  • समय पर पूरी नहीं हुई द्रव्यवती नदी कायाकल्प योजना तो फर्म पर होगा जुर्माना-मंत्री कृपलानी
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव-टिकट बंटवारे को लेकर राहुल गांधी के घर के बाहर प्रदर्शन
  • राज्यसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित
  • आईपीएस प्रोबेशनर एस दीपक आत्माराम को बर्खास्त किया गया
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में मंत्री अब्दुल रहमान वीरी की कार पर पत्‍थर फेंके गए
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

किन्नर भी करते हैं एक रात के लिए शादी, दूसरे दिन हो जाते हैं विधवा!

Patrika news network Posted: 2017-03-17 19:17:58 IST Updated: 2017-03-17 19:17:58 IST
किन्नर भी करते हैं एक रात के लिए शादी, दूसरे दिन हो जाते हैं विधवा!
  • श्री कृष्ण पुरुष होते हुए स्त्री रूप में अरावन से शादी रचाते है इसलिए किन्नर, जो की स्त्री रूप में पुरुष माने जाते है, भी अरावन से एक रात की शादी रचाते है और उन्हें अपना आराध्य देव मानते है।

नई दिल्ली।

अरावन एक देवता – जिनसे होती है किन्नरों की शादी,  हमारे देश भारत के तमिलनाडु राज्य में एक देवता, अरावन की पूजा की जाती है। कई जगह इन्हे इरावन के नाम से भी जाना जाता है। अरावन, हिंजड़ो के देवता है इसलिए दक्षिण भारत में हिंजड़ो को अरावनी कहा जाता है। हिंजड़ो और अरावन देवता के सम्बन्ध में सबसे अचरज वाली बात यह है की हिंजड़े अपने आराध्य देव अरावन से साल में एक बार विवाह करते है। हालांकि यह विवाह मात्र एक दिन के लिए होता है। अगले दिन अरावन देवता की मौत के साथ ही उनका वैवाहिक जीवन खत्म हो जाता है। अब सवाल यह उठता है की अरावन है कौन, हिंजड़े उनसे क्यों शादी रचाते है और यह शादी मात्र एक दिन के लिए ही क्यों होती है ? इन सभी प्रशनो का उत्तर जानने के लिए हमे महाभारत काल में जाना पड़ेगा।



महाभारत की कथा के अनुसार..

एक बार अर्जुन को, द्रोपदी से शादी की एक शर्त के उल्लंघन के कारण इंद्रप्रस्थ से निष्कासित करके एक साल की तीर्थयात्रा पर भेजा जाता है। वहाँ से निकलने के बाद अर्जुन उत्तर पूर्व भारत में जाते है जहाँ की उनकी मुलाक़ात एक विधवा नाग राजकुमारी उलूपी से होती है। दोनों को एक दूसरे से प्यार हो जाता है और दोनों विवाह कर लेते है। विवाह के कुछ समय पश्चात, उलूपी एक पुत्र को जन्म देती है जिसका नाम अरावन रखा जाता है। पुत्र जन्म के पश्चात अर्जुन, उन दोनों को वही छोड़कर अपनी आगे की यात्रा पर निकल जाता है। अरावन नागलोक में अपनी माँ के साथ ही रहता है। युवा होने पर वो नागलोक छोड़कर अपने पिता के पास आता है। तब कुरुक्षेत्र में महाभारत का युद्ध चल रहा होता है इसलिए अर्जुन उसे युद्ध करने के लिए रणभूमि में भेज देता है।




महाभारत युद्ध में एक समय ऐसा आता है जब..

पांडवो को अपनी जीत के लिए माँ काली के चरणो में स्वेचिछ्क नर बलि हेतु एक राजकुमार की जरुरत पड़ती है। जब कोई भी राजकुमार आगे नहीं आता है तो अरावन खुद को स्वेचिछ्क नर बलि हेतु प्रस्तुत करता है लेकिन वो शर्त रखता है की वो अविवाहित नहीं मरेगा। इस शर्त के कारण बड़ा संकट उत्त्पन हो जाता है क्योकि कोई भी राजा, यह जानते हुए की अगले दिन उसकी बेटी विधवा हो जायेगी, अरावन से अपनी बेटी की शादी के लिए तैयार नहीं होता है। जब कोई रास्ता नहीं बचता है तो भगवान श्री कृष्ण स्वंय को मोहिनी रूप में बदलकर अरावन से शादी करते है। अगले दिन अरावन स्वंय अपने हाथो से अपना शीश माँ काली के चरणो में अर्पित करता है। अरावन की मृत्यु के पश्चात श्री कृष्ण उसी मोहिनी रूप में काफी देर तक उसकी मृत्यु का विलाप भी करते है। अब चुकी श्री कृष्ण पुरुष होते हुए स्त्री रूप में अरावन से शादी रचाते है इसलिए किन्नर, जो की स्त्री रूप में पुरुष माने जाते है, भी अरावन से एक रात की शादी रचाते है और उन्हें अपना आराध्य देव मानते है।



अरावन के केवल शीश की पूजा होती है..

वैसे तो अब तमिलनाडु के कई हिस्सों में भगवान अरावन के मंदिर बन चुके है पर इनका सबसे प्राचीन और मुख्य मंदिर विल्लुपुरम जिले के कूवगम गाँव में है जो की Koothandavar Temple के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर में भगवान अरावन के केवल शीश की पूजा की जाती है ठीक वैसे ही जैसे की राजस्थान के खाटूश्यामजी में बर्बरीक के शीश की पूजा की जाती है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood