Breaking News
  • उदयपुर : सेना के कैम्पस एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग, दमकल पहुंचीं
  • जोधपुर : पांच दिन से नहीं चल रही बस, फिर भी दिया एडवांस टिकट, रोडवेज की कारगुजारी
  • उदयपुर:सेना की एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग,एसपी-कलक्टर मौके पर
  • सीकर : देह व्यापार में शामिल नेपाल की कॉल गर्ल, दलाल एवं होटल मैनेजर को जेल
  • किशनगढ़ : 50 लाख की अवैध शराब जब्त, चालक-खलासी हिरासत में
  • करौली : कई स्थानों पर आयकर की कार्रवाई, हिंडौन सिटी में भी छापे
  • नागौर : पैदल सड़क पार कर रहे पंजाब निवासी ट्रक चालक को बोलेरो ने मारी टक्कर, मौके पर ही मौत
  • जोधपुर:पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण
  • बांसवाड़ा : गर्मी ने किया हाल बेहाल, मार्च में ही पारा 44 के पार
  • अलवर : ज्वैलरी खुर्द-बुर्द करने वाली मां गिरफ्तार, रेलवे में है कर्मचारी, मोहम्मद नूर हत्याकांड मामला
  • बांसवाड़ा : कार की चपेट में आने से बालिका घायल, उदयपुर लिंक रोड पर कर रही थी सड़क पार
  • उदयपुर : मसाज पार्लर संचालक के खिलाफ 20 घंटे में चालान पेश, ऑस्ट्रिया की महिला से छेड़छाड़ का मामला
  • भीलवाड़ा : सवा किलो अफीम के साथ गिरफ्तार किए गए तीन जनों को किया कोर्ट में पेश, लिया रिमांड पर
  • दौसा : राजस्थान स्थापना दिवस को लेकर कलक्ट्रेट से गेटोलाव तक निकाली साइकिल रैली
  • जोधपुर : पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण, फैली दहशत
  • जयपुर : विधानसभा ने बनाया इतिहास, 2010 के बाद चला सबसे लंबा सदन, 16 घंटे 27 मिनट चला
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शीतलामाता का यह मंदिर है रहस्यमयी, लाखों लीटर पानी से भी नहीं भरता मंदिर का ये घड़ा

Patrika news network Posted: 2017-03-20 12:30:53 IST Updated: 2017-03-20 12:30:53 IST
शीतलामाता का यह मंदिर है रहस्यमयी, लाखों लीटर पानी से भी नहीं भरता मंदिर का ये घड़ा
  • माना जाता है कि इस घड़े में डाले जाने वाले पानी को राक्षस पी जाता है। वैज्ञानिक इसके बारे में कोई पता नहीं लगा पाए है कि ऐसा क्यों और कैसे होता है...

जयपुर।

राजस्थान के पाली जिले में एक शीतला माता का एक रहस्यमयी मंदिर है, जहां एक ऐसा चमत्कारी घड़ा है, जिसे दर्शन के लिए साल में केवल दो बार सामने लाया जाता है। ऐसा पिछले 800 सालों से लगातार किया जा रहा है। मंदिर का यह चमत्कारी घड़ा आधा फीट गहरा और आधा फीट चौड़ा है।


घड़े के पानी को पी जाता है राक्षस

इस घड़े के बारे में एक प्राचीन मान्यता है कि इसमें कितना भी पानी भरा जाए, यह कभी नहीं भरता है। ऐसा माना जाता है कि इस घड़े में डाले जाने वाले पानी को राक्षस पी जाता है। हैरानी की बात यह है कि आज भी वैज्ञानिक इसके बारे में कोई पता नहीं लगा पाए है कि ऐसा क्यों और कैसे होता है।


साल में केवल दो बार खोला जाता है ये घड़ा 

इस घड़े के बारे में लोगों का कहना है कि यह परंपरा पिछले 800 सालों से ऐसे ही चली आ रही है। इस घड़े को साल में केवल दो बार ही खोला जाता है, इस पर रखे हुए पत्थर को शीतला सप्तमी पर और ज्येष्ठ माह की पूनम पर ही हटाया जाता है। दोनों ही समय गांव की सभी महिलाएं घड़े में पानी भरने का प्रयत्न करती हैं, लेकिन कितना भी पानी डाला जाए पर यह घड़ा भरता ही नहीं है। मान्यतानुसार मंदिर का पुजारी आखिर में माता के चरणों में दूध का भोग लगाता है, जिसके बाद ही घड़ा भर जाता है। दूध का भोग लगाने के बाद घड़े को बंद कर दिया जाता है।


वैज्ञानिक भी हैं हैरान

इस घड़े के पर कई बार वैज्ञानिकों द्वारा शोध किया जा चुका है, लेकिन अभी तक इसके बारे में कोई भी पता नहीं लगा पाया है। जो भी पानी डाला जाता है वह कहां चला जाता है, इसके रहस्य को वैज्ञानिक भी जानने में नाकामयाब रहे हैं।


800 साल पहले रहता था एक राक्षस

गांव वालों के अनुसार आज से लगभग 800 साल पहले बाबरा नाम का एक राक्षस रहता था। इस राक्षस के आतंक से गांव वाले बहुत दुखी थे, वह किसी भी ब्राह्मण के घर होने वाली शादी के दिन दुल्हे को मार देता था। राक्षस के प्रकोप से बचने के लिए गांव के सभी ब्राह्मणों ने शीतला माता की तपस्या की, इसके बाद एक ब्राह्मण के सपने में शीतला माता आई और बताया कि जब उसकी बेटी का विवाह होगा, उसी दिन वह राक्षस को मार देंगी।


बच्ची के रूप में प्रकट हुई शीतला माता

समय बीता और विवाह का दिन नजदीक आया, उस दिन माता एक छोटी बच्ची के रूप में प्रकट हुई और अपने घुटनों से दबोंचकर राक्षस का अंत कर दिया। राक्षस ने माता से वरदान मांगा कि उसे बहुत ज्यादा प्यास लगती है, इसलिए उसे साल में दो बार ढेर सारा पानी पिलाया जाए। शीतला माता ने उसे वरदान दे दिया, उसी दिन से गांव में यह परंपरा चल रही है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood