Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

video: डिजिटल इंडिया के दौर में उदयपुर के गांवों के हैं ये हाल, हर दिन शहर में पैसे देकर करातेे हैं ये काम

Patrika news network Posted: 2017-06-10 17:29:45 IST Updated: 2017-06-10 17:35:56 IST
  • - गांवों में बिजली कटौती से परेशान ग्रामीणों को नहीं मिलती मोबाइल चार्ज की सुविधा, शहर आकर 10 रुपए देकर मोबाइल की बैट्री चार्ज कराने की मजबूरी

प्रमोद सोनी/उदयपुर.

डिजिटल इंडिया की बात करने वाले देश में कई गांवों में आज भी सरकार बिजली नहीं पहुंचा सकी। जिन गांवों में बिजली पहुंची वहां बिजली कटौती कई घंटों रहती है। ये हाल उदयपुर-झाड़ोल मार्ग पर उंदरी गांव, अलसीगढ़, आड़ गांव व उबेश्वर महादेव से आगे डोडावली, केलेश्वर आदि गावों के हैं। 


यहां गर्मी के दिनों में जब आंधी या तेज हवा से अगर बिजली के तार टूट जाते हैं तो 10 से 15 दिन तक वापस दुरुस्त नहीं होते है । ऐसे में ग्रामीणों के मोबाइल की बैट्रियां चार्ज नहीं हो पातीं। ऐसे में ग्रामीण जो मजदूरी करने शहर आते हैं, वह सुबह शहर में मोबाइल की दुकान पर बैट्री चार्ज के लिए देते हैं। दुकानदार बैट्री चार्ज के 10 रुपए लेता है। कई मजदूर महिला-पुरूष मोबाइल की दो बैट्रियां रखते हैं तो कई मजदूर बैट्री चार्ज के साथ ही दूसरी बैट्री दुकानदार से किराये पर भी लेते हैं। 



READ MORE: बीती रात हुआ कुछ ऐसा कि पूरा गांव आ गया दहशत में, जानें आखिर किस बात का है खौफ...


गांवो में मोबाइल रिचार्ज की दुकानें तो हैं लेकिन बैट्री चार्ज के लिए बिजली नहीं है। इस कारण गांवों से मजदूरी करने आने वाले ग्रामीण चेतक सर्कल पर एक मोबाइल की दुकान पर मोबाइल की बैट्री को चार्ज करने के लिए छोड़ जाते हैं व शाम को वापस गांव जाते वक्त बैट्री लेकर जाते हैं। कई गांवों में इंटरनेट सेवा भी है लेकिन बिजली कटौती के चलते ग्रामीण अपना मोबाइल कम चलाते हैं । उनका मानना है कि इससे मोबाइल की बैट्री जल्दी खत्म हो जाती है।

इन स्थानों पर होती है मोबाइल बैट्री चार्ज

शहर के रामपुरा, मल्लातलाई, चेतक सर्कल, हाथीपोल, फतहपुरा चौराहा, पारस चौराहा, उदयपोल,  हिरणमगरी आदि क्षेत्रों में 10 रुपए मोबाइल की बैट्री चार्ज करते हैं दुकानदार।

rajasthanpatrika.com

Bollywood