Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

वीडियो: उदयपुर ही नहीं गुजरात तक में प्रसिद्ध है यहां के मिर्चीबड़े, अंबानी परिवार भी चाव से लेते है इसका स्वाद

Patrika news network Posted: 2017-04-12 12:18:03 IST Updated: 2017-04-12 13:24:46 IST
  • उदयपुर से 22 किलोमीटर दूर कैलाशपुरी स्थित एकलिंगजी मंदिर के बाहर वर्षों से प्रसिद्ध मिर्चीबड़े उदयपुर के आसपास ही नहीं गुजरात तक प्रसिद्ध है। दुकानदार भेरूलाल माली के पुत्र चंद्रकांत माली बताते है कि 70 वर्ष से वो यहां मिर्चीबड़े बना रहे है।

प्रमोद सोनी /उदयपुर

उदयपुर से 22 किलोमीटर दूर कैलाशपुरी स्थित एकलिंगजी मंदिर के बाहर वर्षों से प्रसिद्ध मिर्चीबड़े उदयपुर के आसपास ही नहीं गुजरात तक प्रसिद्ध है। दुकानदार भेरूलाल माली के पुत्र चंद्रकांत माली बताते है कि 70 वर्ष से वो यहां मिर्चीबड़े बना रहे है। उनका कहना है कि लोग यहां से मिर्चीबड़े पैक करवा कर भी ले जाते है। यहां पर आलूबड़े या कचौरी कम बनती है, सभी लोग मिर्चीबड़े ही खाते है और ग्राहक भी शौक से मिर्चीबड़े ही मांगते है।    


READ MORE: डिजिटल इंडिया में यह गांव ऐसा भी जहां नहीं है नल कनेक्शन, स्लरी से दूषित पानी पीने को मजबूर है ये लोग


 यहां अधिकांश दुकानदार मिर्चीबड़े ही बनाते है। उदयपुर नाथद्वारा भीलवाड़ा या कहीं से भी कोई भी आए,  इस मार्ग से जो भी गुजरता है वो दो या तीन मिर्चीबडे खा कर ही जाता है।  गुजरात से श्रीनाथ जी नाथद्वारा जाने वाले पर्यटक एकलिगंजी मंदिर के दर्शन करने रुकते है। और यहां के मिर्चीबड़े खाये आगे नही बढ़ते है।


READ MORE: पटरी पर लौटी मदर मिल्क की 'गाड़ी', MB चिकित्सालय उदयपुर में बदली व्यवस्थाएं, पढ़ें पूरी खबर


यहां बनने वाले मिर्चीबड़े की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये तीखे नहीं होते है। इन्हें विशेषतौर पर ऐसा बनाया जाता है। मिर्चीबड़ो का स्वाद तीखा नहीं होकर खट्ठा मीठा होता है। तीखा नहीं होने से गुजराती पर्यटक आराम से इसे खाते है। जब भी अम्बानी परिवार यहां से गुजरता है तो बिना मिर्चीबड़े खाए आगे नहीं बढ़ते है। धीरूभाई अम्बानी भी यहां के मिर्चीबड़े बड़े चाव से खाते है।  

rajasthanpatrika.com

Bollywood