Breaking News
  • जयपुर: राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल का तीसरी बार हुआ विस्तार और फेरबदल, दो राज्य मंत्रियों को प्रमोट कर बनाया केबिनेट मंत्री, दो वरिष्ठ विधायकों को केबिनेट और चार विधायकों को राज्यमंत्री की शपथ दिलाई गई।
  • जयपुर: बहरोड़ (अलवर) विधायक डॉ. जसवंत यादव और निंबाहेडा (चित्तौडग़ढ़) विधायक श्रीचंद कृपलानी को बनाया गया कैबिनेट मंत्री।
  • जयपुर: बंसीधर बाजिया, कमसा मेघवाल, धनसिंह रावत, सुशील कटारा बने राज्य मंत्री।
  • जयपुर: शत्रुघ्न गौतम, नरेन्द्र नागर, ओमप्रकाश हुड़ला, भीमा भाई और कैलाश वर्मा बनाये गए नए संसदीय सचिव।
  • जयपुर: राज्यपाल कल्याण सिंह ने मुख्यमंत्री की सिफारिश पर विधि राज्य मंत्री अर्जुन लाल गर्ग और प्रशासनिक एवं मोटर गैराज राज्य मंत्री जीत मल खांट का इस्तीफा किया मंजूर।
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

मिसाल: किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं ये बेटियां, विस्थापित परिवारों की बस्ती में फैला रहीं ज्ञान का उजियारा

Patrika news network Posted: 2016-12-02 13:28:06 IST Updated: 2016-12-02 13:28:06 IST
  • बिलिया में विस्थापित परिवारों की बस्ती में छात्राएं कई उम्रदराज लोगों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं। साक्षर भारत मिशन के तहत ये छात्राएं स्वयंसेवी शिक्षक बनी हैं।

मोहित शर्मा/उदयपुर

बिलिया में विस्थापित परिवारों की बस्ती में छात्राएं कई उम्रदराज लोगों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं। साक्षर भारत मिशन के तहत ये छात्राएं स्वयंसेवी शिक्षक बनी हैं। बस्ती में साक्षर भारत मिशन के तहत दो प्रेरक भी हैं। प्रेरकों के अलावा बस्ती के ही पढ़े-लिखे करीब 10 स्वयंसेवी शिक्षक भी असाक्षरता का कलंक मिटाने में जुटी हैं, जिनमें दो छात्राएं हैं। इन्हें सरकार से कोई मानदेय नहीं मिलता है। ये स्वयंसेवी स्वयं पढ़ाई कर रही हैं और दूसरों को भी पढ़ा रही हैं।

बस्ती में रहने वाली मीरा, माया व अन्य महिलाआें ने बताया कि ये स्वयंसेवी शिक्षक उनके लिए फरिश्ते की तरह हैं। इन्हें सरकार से कोई सहायता नहीं मिलती, फिर भी ये लोगों को पढ़ा रही हैं। रोज करीब 2 घंटे तक ये क्लास लेती हैं। केन्द्र पर बिजली सहित कई सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। एक महिला में तो पढऩे की ललक एेसी है कि उसके दायां हाथ नहीं है तो स्वयंसेवी कुसुम ने उसे बाएं हाथ से लिखना सिखा दिया। महिलाएं अभी हिंदी लिखना-पढऩा और गणित में जोड़-बाकी सीख रही हैं।


READ MORE: उद्योगपति हिंदुजा से बेटियां बोलीं-'नो इंग्लिश सर', हिंदुजा ने कहा अच्छा हिन्दुस्तानी में बात करते हैं...



कराती हैं होमवर्क

महिलाएं जब पढऩे के लिए केन्द्र पर जाती हैं तो उनके साथ बच्चों को भी ले जाती हैं। बच्चों को भी ये स्वयंसेवी बालिकाएं पढ़ाती हैं। केन्द्र पर पुरुष तो कभी-कभार ही आते हैं। पुरुषों में पढ़ाई को लेकर रुझान नहीं हैं।

पढ़ाना एक शौक

स्वयंसेवी कुसुम कुमारी ने बताया कि उन्हें पढ़ाने का शौक है। वह संस्कृत में एमए है और पिताजी कारीगर हैं। इस काम के लिए उन्हें कोई मानदेय भी नहीं मिलता। स्वयंसेवी शिक्षक नेहा सिसोदिया ने बीबीएम कर रखा है और आगे की पढ़ाई करने के साथ बस्ती के लोगों को पढ़ा रही हैं। नेहा के पिताजी ऑटो चालक हैं। उसके इस काम से उन्हें बहुत अच्छा लगता है।

Latest Videos from Rajasthan Patrika

rajasthanpatrika.com

Bollywood