Breaking News
  • पाली-खारड़ी गांव में युवक की पीट-पीट कर हत्या करने वाला सरपंच फरार
  • जयपुर- आज से पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों के भी बनेंगे आधार कार्ड, अटल सेवा केन्द्रों पर लगेंगे आधार शिविर
  • अजमेर - ब्यावर. पीपलाज रेलवे स्टेशन के समीप लावारिस गोवंश अज्ञात ट्रेन की चपेट में आया
  • बांसवाड़ा - डूंगरपुर। सीमलवाड़ा मार्ग पर दुर्घटना में युवक की मौत।
  • बांसवाड़ा - माण्डवा खापरडा में युवक फंदे पर लटका मिला।
  • जैसलमेर से शाही ट्रेन हुई रवाना, ट्रेन हादसे के बाद सुचारू हुआ ट्रेक
  • पाली-शहर के 293 घरों में सोमवार से 24 घंटे पेयजल आपूर्ति, रूडिप ने की पूरी तैयारी
  • भरतपुर-पुत्र की हत्या में शामिल माँ गिरफ्तार, सेवर पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • कोटा-साढे 16 किलो अवैध गांजा समेत एक तस्कर गिरफ्तार, अनंतपुरा पुलिस की कार्रवाई
  • पाली-बागावास के पास सड़क हादसा,पेड़ से टकराया टैंकर, दो की मौत
  • भरतपुर-पुलिस पर हमला करने के आरोपी को उच्चैन थाना पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • भरतपुर- अलवर हाइवे पर दो बाइक की टक्कर, एक की मौत
  • अलवर - मुण्डावर थाना पुलिस ने अवैध खनन के पत्थर ले जाते एक ट्रैक्टर को पकड़ा
  • भरतपुर- रुपवास थाने पर यूपी चुनाव को लेकर हुई बैठक
  • जालोर- झाब गांव में युवक ने विषाक्त खाकर की खुदकुशी
  • बाड़मेर- पैंथर के डर के चलते दहशत में गुजरी गालाबेरी गांव के लोगों की रात, पैंथर की तलाश में जुटा वन विभाग
  • बाड़मेर- सर्दी के चलते जिला कलेक्टर ने स्कूलों का समय बदला
  • रीता बहुगुणा जोशी को लखनऊ कैंट से बीजेपी ने टिकट दिया
  • मोदी और शाह की नेताओं के रिश्तेदारों को टिकट नहीं देने की घोषणा फेल, राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह को नोएडा से टिकट
  • यूपी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने जारी की 155 उम्मीदवारों की दूसरी सूची
  • कांग्रेस और समाजवादी पार्टी साथ मिलकर यूपी विधानसभा चुनाव लड़ेंगे- नरेश उत्तम
  • जालोर- स्नातकोत्तर महाविद्यालय में छात्रसंघ उद्घाटन कार्यक्रम आज, सांचौर विधायक होंगे मुख्य अतिथि
  • अलवर— गढ़ी सवाईराम में प्रांतीय सम्मेलन में मीणा समाज का फरमान, लड़कियां नहीं रखें मोबाइल
  • अलवर— विधायक ज्ञानदेव आहूजा का विवादित बयान, राजनीति करने वाले लोग लेते हैं पैसा, खुद को बताया पाक—साफ, रामगढ़ से विधायक हैं आहूजा
  • जोधपुर— बायतू से पूर्व विधायक तगाराम चौधरी का निधन, आज सुबह एमडीएम अस्पताल में ली आखिरी सांस
  • जालोर— ओसियां तिंवरी में केन्द्रीय विद्यालय खोलने की स्वीकृति, भवन निर्माण कार्य शुरू,ओसियां विधायक भैराराम सियोल ने लिया जायजा
  • जालोर-केशवना में जैन समाज का प्रतिष्ठा महोत्सव आज से, नौ दिन तक चलेगा कार्यक्रम
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

मिसाल: किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं ये बेटियां, विस्थापित परिवारों की बस्ती में फैला रहीं ज्ञान का उजियारा

Patrika news network Posted: 2016-12-02 13:28:06 IST Updated: 2016-12-02 13:28:06 IST
  • बिलिया में विस्थापित परिवारों की बस्ती में छात्राएं कई उम्रदराज लोगों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं। साक्षर भारत मिशन के तहत ये छात्राएं स्वयंसेवी शिक्षक बनी हैं।

मोहित शर्मा/उदयपुर

बिलिया में विस्थापित परिवारों की बस्ती में छात्राएं कई उम्रदराज लोगों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं। साक्षर भारत मिशन के तहत ये छात्राएं स्वयंसेवी शिक्षक बनी हैं। बस्ती में साक्षर भारत मिशन के तहत दो प्रेरक भी हैं। प्रेरकों के अलावा बस्ती के ही पढ़े-लिखे करीब 10 स्वयंसेवी शिक्षक भी असाक्षरता का कलंक मिटाने में जुटी हैं, जिनमें दो छात्राएं हैं। इन्हें सरकार से कोई मानदेय नहीं मिलता है। ये स्वयंसेवी स्वयं पढ़ाई कर रही हैं और दूसरों को भी पढ़ा रही हैं।

बस्ती में रहने वाली मीरा, माया व अन्य महिलाआें ने बताया कि ये स्वयंसेवी शिक्षक उनके लिए फरिश्ते की तरह हैं। इन्हें सरकार से कोई सहायता नहीं मिलती, फिर भी ये लोगों को पढ़ा रही हैं। रोज करीब 2 घंटे तक ये क्लास लेती हैं। केन्द्र पर बिजली सहित कई सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। एक महिला में तो पढऩे की ललक एेसी है कि उसके दायां हाथ नहीं है तो स्वयंसेवी कुसुम ने उसे बाएं हाथ से लिखना सिखा दिया। महिलाएं अभी हिंदी लिखना-पढऩा और गणित में जोड़-बाकी सीख रही हैं।


READ MORE: उद्योगपति हिंदुजा से बेटियां बोलीं-'नो इंग्लिश सर', हिंदुजा ने कहा अच्छा हिन्दुस्तानी में बात करते हैं...



कराती हैं होमवर्क

महिलाएं जब पढऩे के लिए केन्द्र पर जाती हैं तो उनके साथ बच्चों को भी ले जाती हैं। बच्चों को भी ये स्वयंसेवी बालिकाएं पढ़ाती हैं। केन्द्र पर पुरुष तो कभी-कभार ही आते हैं। पुरुषों में पढ़ाई को लेकर रुझान नहीं हैं।

पढ़ाना एक शौक

स्वयंसेवी कुसुम कुमारी ने बताया कि उन्हें पढ़ाने का शौक है। वह संस्कृत में एमए है और पिताजी कारीगर हैं। इस काम के लिए उन्हें कोई मानदेय भी नहीं मिलता। स्वयंसेवी शिक्षक नेहा सिसोदिया ने बीबीएम कर रखा है और आगे की पढ़ाई करने के साथ बस्ती के लोगों को पढ़ा रही हैं। नेहा के पिताजी ऑटो चालक हैं। उसके इस काम से उन्हें बहुत अच्छा लगता है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood