Breaking News
  • जोधपुर- कापरड़ा के पास गैस टैंकर पलटने का मामला, एचपीसीएल के अधिकारियों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कराया
  • सीकर- खाटूश्यामजी का लक्खी मेला शुरू, उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब
  • पूर्व चिकित्सा मंत्री डॉ. राजकुमार शर्मा ने कहा, भामाशह योजना में लुट रहे हैं मरीज
  • स्टंट की कम कीमत के नाम पर निजी अस्पताल लूट रहे मरीजों को
  • शेरगढ़ (जोधपुर)- हिम्मतपुरा के पास निजी बस पलटी, 35 यात्री घायल
  • सीकरः बाबा श्याम का फाल्गुनी लक्खी मेला आज से, श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू
  • जयपुर- बरकत नगर में तेज रफ्तार कार ने छात्र को कुचला
  • भीलवाड़ा- 6 वर्षीय बालिका के साथ दुष्कर्म, बागोर के पास गूंदली गांव का मामला
  • मुरादाबाद के पास रानीखेत एक्सप्रेस का ब्रेक फेल, 10 यात्री घायल
  • अलवर- राजगढ के टहला मार्ग पर कुण्डरोली गांव के जंगल में बघेरा ने बकरी का किया शिकार
  • जैसलमेर- कोल्ड ड्रिंक पीने से तीन लोगों की तबियत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती
  • विधानसभा में युनूस खान और राजकुमार शर्मा उलझे, स्वीकृत सड़कों को निरस्त करने का मामला
  • हिंडौन सिटी-  सड़क हादसे में दो किशोर घायल, जयपुर रेफर, बरगमा के पास हादसा
  • अलवर- एनएच 8 पर शेरपुर के पास कंटेनर पलटा, जनहानि की सूचना नहीं
  • सीकर- रींगस में आरटीओ ऑफिस के सामने खड़ी कार में लगी आग, जनहानि की सूचना नहीं
  • सिरोहीः जिला स्तरीय विज्ञान मेला सेंट पाल स्कूल में शुरू, बाल वैज्ञानिको ने प्रदर्शित किए आकर्षक मॉडल
  • सीकरः एडीजी हेमंत प्रियदर्शी ने किया रींगस में पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय का निरीक्षण
  • सोना देवी ने कहा रायसिहनगर में आरयूबी न बनने से आक्रोश।
  • सीकरः नीमकाथाना में लोक परिवहन सेवा बस ने बाइक सवार को कुचला, बाइक सवार ने तोड़ा अस्पताल में दम
  • बूंदीः डाबी क्षेत्र के पराना गांव में सूखी खान में कूद कर मध्यप्रदेश निवासी युवक ने की आत्महत्या
  • दौसाः सर्व समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलन में सात जोड़े बंधे परिणय सूत्र में
  • टोंक- नगरफोर्ट के पास कार पलटी, दो की मौत, तीन घायल, मृतक सतवाड़ा गांव के रहने वाले थे
  • गोविन्द सिंह डोटासरा ने उठाया विद्यार्थी मित्रों की नियुक्ति का मामला
  • मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री पर लगाया विद्यार्थी मित्रों को बरगलाने का आरोप
  • डोटासरा ने कहा, सरकार नहीं देना चा​हती विद्यार्थी मित्रों को नियुक्ति
  • दौसा-स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल में विज्ञान प्रदर्शनी ​का आयोजन
  • विधानसभा में किरोड़ी लाल मीणा ने बघेरे से हुई मौत पर सरकार को घेरा
  • मीणा बोले, बिना डीएनए जांच के कैसे छोड़ दिया बघेरा
  • जवाब में मंत्री खींवसर ने कहा कि बघेरा आदमखोर है या नहीं, अभी पुष्टि नहीं
  • भीलवाड़ा- मांडल पंचायत समिति क्षेत्र के 42 ग्राम पदेन सचिवों को चार्जशीट, काम में लापरवाही बरतने का मामला
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सपना हुआ पूरा तो बिन पंख उड़े अरमान, दिल्ली यात्रा कर लौटे बच्चे

Patrika news network Posted: 2016-11-30 15:55:08 IST Updated: 2016-11-30 18:53:42 IST
  • दिल्ली घूमने के बाद बच्चे बुधवार को उदयपुर लौट आए।

उदयपुर.

अब तक आसमान में उड़ते हवाई जहाज को देखकर उसमें सवार होने के सपने संजोने वाले 31 मेधावी बच्चों के अरमान आखिर पूरे हो गए। उन्होंने बिना पंखों के भी आसमां में उड़ान भरी। दिल्ली  घूमने के बाद बच्चे बुधवार को उदयपुर लौट आए। जरूरतमंद परिवार के प्रतिभाशाली बच्चों के सपनों को साकार करने की यह अनूठी पहल की राजस्थान पत्रिका और राउंड टेबल इंडिया के उदयपुर चैप्टर ने। 'फ्लाइट ऑफ फैन्टेंसी' कार्यक्रम के तहत दिल्ली से सुबह फ्लाइट में बैठकर बच्चे डबोक एयरपोर्ट पहुंचे।  दिल्ली में कोहरा होने के कारण फ्लाइट अपने नियत समय से देरी से उदयपुर पहुंची।

जाना मेवाड़ का इतिहास भी 

दिल्ली में सैर-सपाटा करने के बाद उदयपुर लौटे बच्चों को सिटी पैलेस ले जाया गया। यहां  दरबार हॉल में बच्चों का स्वागत किया गया। यहां आयोजित कार्यक्रम में न केवल उनके अनुभवों को साझा किया गया, बल्कि महाराणा मेवाड़ चेरिटेबल फाउंडेशन की ओर से सबको मेवाड़ के गौरवशाली इतिहास से भी रूबरू कराया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एचआरएच होटल समूह के कार्यकारी निदेशक लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ थे।



READ MORE: Flight Of Fantasy: बच्चों के सपनों को मिले पंख, उत्साह सातवें आसमान पर, हर पल बना यादगार



सुरेश ने पहली बार देखा उदयपुर

राजस्थान वनवासी कल्याण परिषद की पिण्डवाड़ा शाखा से आए सुरेश ने बताया कि  पहली बार ही उसने उदयपुर देखा। उसके लिए हवाई जहाज किसी सपने से कम नहीं था। एक बार मुख्यमंत्री को पिण्डवाड़ा में हैलीकॉप्टर  से आते देखा था, तब उसकी भी इसमें उडऩे की इच्छा हुई थी। एेसे ही अनुभव कई बच्चों के रहे जिन्होंने पहली बार देश के बड़े शहरों को देखा।

बच्चों ने दिल्ली के ऐसे बांटे अनुभव

- इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर बहुत सारे हवाई जहाज खड़े देखकर बच्चे रोमांचित हो गए।

- दिल्ली के जाम में फंसे तो कहा कि इतनी गाडि़यां पहली बार देखीं।

- कनाट पैलेस पर बच्चों ने करीब डेढ़ किमी की वॉक की, जो उनके लिए यादगार रही।

- कनाट पैलेस पर लहराते विशालकाय ध्वज को देखकर वे खुश हुए और तिरंगे को सैल्यूट किया। 

- दिल्ली के उद्योगपति राज कपूर ने यादगार उपहार भी दिए।

rajasthanpatrika.com

Bollywood