Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

ये किस बात की सजा मिली इस बच्ची को? पढ़कर अपका मन भी बच्ची के लिए द्रवित हो उठेगा

Patrika news network Posted: 2017-07-09 16:42:14 IST Updated: 2017-07-09 16:42:14 IST
ये किस बात की सजा मिली इस बच्ची को? पढ़कर अपका मन भी बच्ची के लिए द्रवित हो उठेगा
  • ये मां-बाप की मजबूरी रही होगी या फिर उन्होंने उसकी अपंगता को देख उसे छोड़ दिया होगा।

उदयपुर .

ये मां-बाप की मजबूरी रही होगी या फिर उन्होंने उसकी अपंगता को देख उसे छोड़ दिया होगा। उदयपुर एमबी चिकित्सालय के पालनागृह में दस दिन पूर्व तीन साल की एक एेसी बच्ची आई जो न देख सकती है, न चल सकती है। वह गंभीर चर्म रोग से पीडि़त है जिससे उसके शरीर पर फफोले हैं।

शुरुआत में अस्पताल प्रबंधन ने बालिका को स्वस्थ बताते हुए बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी )की अध्यक्ष प्रीति जैन को सूचना दी। उन्होंने हाथोंहाथ बच्ची को राजकीय शिशुगृह भिजवाया। 



READ MORE: खान मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी ने उदयपुर में कही राहत पहुंचाने वाली ये बात, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर



अधीक्षिका ने बच्ची को देखते ही उसे अस्वथ्य बताते हुए पुन: सीडब्ल्यूसी को जानकारी दी। बच्ची चर्म रोग ग्रसित होने पर अन्य बच्चों को भी संक्रमण की आशंका के चलते सीडब्ल्यूसी ने बच्ची को एकबारगी नारायण सेवा संस्थान में अस्थायी आश्रय दिलाया। 6 जुलाई को समिति अध्यक्ष जैन ने सदस्य बी.के.गुप्ता व डॉ.राजकुमारी भार्गव के साथ बच्ची को देखने गए तो उसके चर्म रोग में सुधार नहीं हुआ था। 



READ MORE: सुविवि के पर्यावरण विज्ञान में सहायक आचार्य पद पर कार्यरत अनुया वर्मा का इस वजह से हुआ ओबीसी प्रमाण पत्र निरस्त, पढ़ें पूरी खबर




संस्थान प्रबंधक संजय दवे ने बालिका को तुरंत ही चिकित्सा आवश्यकता बताई तो सीडब्ल्यूसी ने उसे अस्पताल भिजवाई। इधर, अस्पताल प्रबंधन ने बच्ची के संबंध में हाथीपोल थाने में मामला दर्ज करवाया। बताया जा रहा है कि अब तक पालने में नवजात ही आए लेकिन तीन साल की बच्ची का यह पहला मामला है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood