Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Video- मदर्स डे विशेष: उदयपुर के इस लाल के इंडिया टॉप करने में हर पल साथ निभाया मां ने, जब तक वो पढ़ता मां जागती रहती

Patrika news network Posted: 2017-05-14 13:42:07 IST Updated: 2017-05-14 13:47:41 IST
  • जेईई मेन एग्जाम में ऑल इंडिया टॉप करने वाले उदयपुर के कल्पित वीरवाल की कामयाबी के पीछे सबसे ज्यादा कोई सपोर्ट रहा तो वह है कल्पित की माँ पुष्पा वीरवाल। कल्पित ने जेईई मेन एग्जाम में 360 में से 360 नम्बर ला कर जो इतिहास रचा उसकी इबारत उसके बचपन से ही छलकती थी।

चन्दन सिंह देवड़ा / उदयपुर

जेईई मेन एग्जाम में ऑल इंडिया टॉप करने वाले उदयपुर के कल्पित वीरवाल की कामयाबी के पीछे सबसे ज्यादा कोई सपोर्ट रहा तो वह है कल्पित की माँ पुष्पा वीरवाल। कल्पित ने जेईई मेन एग्जाम में 360 में से 360 नम्बर ला कर जो इतिहास रचा उसकी इबारत उसके बचपन से ही छलकती थी। कल्पित की माँ पुष्पा वीरवाल बताती है की वो बचपन से ही एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी था। होमवर्क कभी बाकी नहीं छोड़ता था। खुद एक थर्ड ग्रेड शिक्षिका होने के बावजूद वह बेटे को पूरा समय देती रही है। मदर्स डे पर पुष्पा वीरवाल बताती है की बेटे ने देश में जो उनका नाम रोशन किया है उससे बड़ा तोहफा कुछ नहीं हो सकता है। 




READ MORE: मिलिए उदयपुर के ऐसे शख्स से जिसने बच्चों की खातिर उनकी मां बन निभाई दोहरी जिम्मेदारियां




वो बताती है कल्पित जब छोटी क्लास में था तो वो होमवर्क करने में उसका हाथ बढाती थी। यही नहीं उसके खान पान का पूरा ध्यान रखती थी ताकि वो बीमार नहीं पड़ जाए। कल्पित की माँ बताती है की कल्पित के साथ वह हर रोज खेलती रहती क्योंकि स्टडी सिटिंग ज्यादा करने से थकान होती तो वो खेलकूद से ही गायब हो सकती है। पुष्पा बताती है की उन्होंने कल्पित की फिजिकल और मेंटली फिटनेस का पूरा ध्यान रखा। जब कॉम्पिटिशन की तैयारी में वो रात रात भर पढाई करता तो उसके साथ में भी जागती रहती थी। भले ही सुबह मुझे बच्चों को पढ़ाने स्कूल जाना होता था। पुष्पा बताती है वो अभी मावली ब्लॉक के घनोली राजकीय माध्यमिक विद्यालय में सेवारत है। 


जंहा पर भी वह सभी बच्चों को अच्ची शिक्षा के लिए प्रेरित करती है। माँ होने के नाते वो बताती है सभी बच्चे मेरे कल्पित के समान उनको भी वो सही सेहत के साथ पढाई पर ध्यान देने के लिए प्रेरित करती है। पुष्पा बताती है जब कल्पित छोटा था तो उनकी पोस्टिंग भोपाल सागर थी ऐसे में सुबह जल्दी घर से निकलना और रात को देर से घर पहुँचती थी लेकिन उसके बावजूद कल्पित के पास बैठकर उसकी पढाई और सेहत का ध्यान देती। वे बताती है की कोई भी पेरेंट्स अपने बच्चों पर अपनी इच्छा थोपे नहीं केवल बच्चे के इंट्रेस्ट को देखकर उसे फीडबैक दे रिजल्ट आपके सामने होंगे। कल्पित के सवालो के जवाब देने के लिए उसकी माँ खुद पहले तैयारी करती थी ताकि बेटे को सही जवाब दे सके।




READ MORE: #Mother's Day: मां जो चली गई, याद आती है उनकी थपकियां, उनके बिना घर-आंगन सब सूना





 कल्पित के पिता एमबी हॉस्पिटल उदयपुर में ही नर्सिंगकर्मी है जबकि बड़ा भाई एम्स से एमबीबीएस फ़ाइनल कर रहा है। मदर्स डे पर कल्पित ने भी अपनी कामयाबी में माँ का रोल अहम् बताया। कल्पित अभी 21 मई को होने वाले जेईई एडवान्स की तैयारी कर रहा है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood