Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सेवानिवृत इंजीनियर की पुत्री ने स्वयं को गरीब बताकर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पाई सुविवि के पर्यावरण विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर की नौकरी, मजिस्ट्रेट ने दिए बर्खास्तगी के आदेश

Patrika news network Posted: 2017-06-16 01:59:07 IST Updated: 2017-06-16 01:59:07 IST
सेवानिवृत इंजीनियर की पुत्री ने स्वयं को गरीब बताकर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पाई सुविवि के पर्यावरण विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर की नौकरी,  मजिस्ट्रेट  ने दिए बर्खास्तगी के आदेश
  • सेवानिवृत इंजीनियर की पुत्री ने स्वयं को गरीब बताकर फर्जी नॉन क्रिमीलेयर जाति प्रमाण पत्र के आधार पर सुविवि में नौकरी हासिल कर दी।

उदयपुर .

सेवानिवृत इंजीनियर की पुत्री ने स्वयं को गरीब बताकर फर्जी नॉन क्रिमीलेयर जाति प्रमाण पत्र के आधार पर सुविवि में नौकरी हासिल कर दी। चार साल से पर्यावरण विज्ञान विभाग में सहायक आचार्य पद पर कार्यरत अनुया वर्मा को जिला मजिस्ट्रेट न्यायालय ने बर्खास्त करने का आदेश दिया है। तीन दिन पूर्व जारी हुए आदेश में जिला कलक्टर ने संबंधित विभाग को बर्खास्तगी के संबंध में नियमानुसार कार्रवाई कर अवगत कराने के निर्देश दिए।



READ MORE : उदयपुर के प्रदीप मालवीय की अनूठी कारीगरी, वेस्ट से बनाते है ऐसी बेस्ट चीजें कि हर कोई देखता रह जाता है



सुविवि के पर्यावरण विज्ञान विभाग की अगस्त 2011 में हुई भर्तियों में अनुया के फर्जी दस्तावेजों से नौकरी हासिल करने पर एक परिवादी ने आरटीआई में उसकी नियुक्ति के संबंध में जानकारी मांगी थी। दस्तावेज में गड़बड़ी सामने आने पर परिवादी ने जिला कलक्टर से शिकायत की थी। मामले में जिला स्तरीय कमेटी ने जांच में प्रमाण फर्जी होने की पुष्टि की। मामले में कार्रवाई होने पर परिवादी ने जिला मजिस्ट्रेट न्यायालय में बर्खास्तगी के संबंध में अपील पेश की। न्यायालय ने पत्रावली में मिले साक्ष्यों के आधार पर अनुया को बर्खास्तगी के आदेश दिए हैं।

यह कहता है नियम

केन्द्र सरकार के नियमानुसार उम्मीदवार के सम्पन्न वर्ग का निर्धारण, उसके माता पिता के दर्जे के आधार पर किया जाता है न कि आवेदक की अपनी आय, हैसियत, उसके पति या पत्नी की आय के आधार पर नॉन क्रिमीलेयर प्रमाण पत्र के लिए आय का निर्धारण किया जाता है। अनुया ने ओबीसी का प्रमाण पत्र बनवाने के लिए अपनी आय को आधार बनाया। केन्द्र सरकार के उक्त नियमानुसार बिन्दु संख्या 6 के अनुसार माता पिता के सेवा स्तर के आधार पर बच्चों को भी हर परिस्थिति में सम्पन्न वर्ग में ही माना जाएगा। अनुया के पिता कार्यकारी इंजीनियर पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood