Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

अनदेखी पड़ रही है भारी, अधिकारियों ने मूंद ली आंखें

Patrika news network Posted: 2017-06-19 07:45:27 IST Updated: 2017-06-19 07:45:27 IST
अनदेखी पड़ रही है भारी, अधिकारियों ने मूंद ली आंखें
  • दो साल में ऐसा पहली बार हो रहा है कि लोग परेशान हैं। और प्रशासनिक अधिकारी आंखें मूंदे बैठे हैं।

टोंक

टोंक. जिला प्रशासन के अधिकारियों की अनदेखी शहर के लोगों पर भारी पड़ रही है। दो साल में ऐसा पहली बार हो रहा है कि लोग परेशान  हैं।  और प्रशासनिक अधिकारी आंखें मूंदे बैठे हैं। बीएसएनएल व विद्युत वितरण निगम की केबल समेत जलदाय विभाग की पाइप लाइनें आए दिन क्षतिग्रस्त हो रही है । 


 अधिकारी इसके समाधान को नजरअंदाज कर रहे हैं। एक बार भी अधिकारियों ने मौका मुआयना कर ये नहीं देखा कि इसका निस्तारण कैसे किया जाए कि ये बार-बार नहीं टूटे। ताकि उपभोक्ताओं को भीषण गर्मी में परेशान नहीं होना पड़े। शहर में रविवार को एक बार फिर खुदाई के दौरान बीएसएनएल की केबल क्षतिग्रस्त हो गई।



 इसके आधे शहर की बीएसएनएल सेवा ठप हो गई। लोग नेटवर्किंग तथा टेलीफोन के लिए परेशान हो गए। बीएसएनएल के ब्रॉडबैंड व लैंडलाइन फोन शो-पीस बन गए।


पहले पटेल सर्किल, अब मेहंदीबाग

दो दिन पहले ही पटेल सर्किल पर जलदाय विभाग की पाइप लाइन टूट गई थी। इससे पहले यहीं बीएसएनएल की केबल कट गई थी। अब शनिवार रात मेहंदीबाग स्थित शिव मंदिर के समीप बीएसएनएल की केबल कट गई। इसके चलते मेहंदीबाग, कलक्टे्रट समेत अन्य इलाकों के करीब 400 कनेक्शन बीएसएनएल से ठप हो गए। 



मजबूरी में लोगों को निजी कम्पनियों की नेटवर्किंग से काम चलाना पड़ा। इधर, बीएसएनएल को एक बार कटने वाली लाइन से कम से कम 20 से 30 हजार रुपए का नुकसान हो रहा है। इसके बावजूद अधिकारी सम्बन्धित ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रह हैं। जबकि वे इस नुकसान का भुगतान उससे कर सकते हैं। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood