Breaking News
  • जयपुर: राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल का तीसरी बार हुआ विस्तार और फेरबदल, दो राज्य मंत्रियों को प्रमोट कर बनाया केबिनेट मंत्री, दो वरिष्ठ विधायकों को केबिनेट और चार विधायकों को राज्यमंत्री की शपथ दिलाई गई।
  • जयपुर: बहरोड़ (अलवर) विधायक डॉ. जसवंत यादव और निंबाहेडा (चित्तौडग़ढ़) विधायक श्रीचंद कृपलानी को बनाया गया कैबिनेट मंत्री।
  • जयपुर: बंसीधर बाजिया, कमसा मेघवाल, धनसिंह रावत, सुशील कटारा बने राज्य मंत्री।
  • जयपुर: शत्रुघ्न गौतम, नरेन्द्र नागर, ओमप्रकाश हुड़ला, भीमा भाई और कैलाश वर्मा बनाये गए नए संसदीय सचिव।
  • जयपुर: राज्यपाल कल्याण सिंह ने मुख्यमंत्री की सिफारिश पर विधि राज्य मंत्री अर्जुन लाल गर्ग और प्रशासनिक एवं मोटर गैराज राज्य मंत्री जीत मल खांट का इस्तीफा किया मंजूर।
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सावधानः 10 लाख से ज्यादा गूगल अकाउंट हैक, जानिए कैसे चेक करें

Patrika news network Posted: 2016-12-01 15:26:41 IST Updated: 2016-12-01 15:26:41 IST
सावधानः 10 लाख से ज्यादा गूगल अकाउंट हैक, जानिए कैसे चेक करें
  • एंड्रॉयड स्मार्टफोन की बढ़ती प्रसिद्धि के चलते दुनिया भर में जीमेल यूजर्स की संख्या भी काफी तेजी से बढ़ी। लेकिन गूगल यूजर्स को अब सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि ताजा रिपोर्ट के मुताबिक 10 लाख से ज्यादा गूगल अकाउंट हैक हो चुके हैं।

एंड्रॉयड स्मार्टफोन की बढ़ती प्रसिद्धि के चलते दुनिया भर में जीमेल यूजर्स की संख्या भी काफी तेजी से बढ़ी। लेकिन गूगल यूजर्स को अब सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि ताजा रिपोर्ट के मुताबिक 10 लाख से ज्यादा गूगल अकाउंट हैक हो चुके हैं।सिक्योरिटी फर्म चेक प्वाइंट सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजीज के मुताबिक माना जा रहा है कि एक नए एंड्रॉयड मैलवेयर 'गूलीगन (gooligan)' ने गूगल के 10 लाख से ज्यादा अकाउंट्स में सेंध लगा दी है। 


यह मैलवेयर एंड्रॉयड डिवाइसों को रूट कर देता है और फिर इन फोन में सुरक्षित ईमेल एड्रेस और पहचान चुरा लेता है। इससे हैकर्स को इन एंड्रॉयड डिवाइस यूजर्स के जीमेल, गूगल फोटोज, गूगल डॉक्स, गूगल प्ले, गूगल ड्राइव और जी सूट जैसे संवेदनशील डाटा को एक्सेस करने का मौका मिल जाता है।


चेक प्वाइंट में मोबाइल प्रोडक्ट के प्रमुख माइकल शौलोव ने कहा, "10 लाख (वन मिलियन) से ज्यादा गूगल अकाउंट डिटेल्स की चोरी बड़े खतरे की घंटी है और यह अगले चरण के साइबर-अटैक्स की ओर ईशारा करती  है। अब हम हैकर्स की रणनीति में बदलाव देख रहे हैं, यह अब मोबाइल डिवाइसों को निशाना बना रहे हैं ताकि उनमें मौजूद संवेदनशील जानकारी को हासिल किया जा सके।"


हालांकि गूगल द्वारा इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। रिपोर्ट बताती है कि इस मैलवेयर ने हर दिन 13,000 डिवाइसों को प्रभावित किया और गूलीगलन ने एंड्रॉयड के जेलीबीन, किटकैट और लॉलीपॉप वर्जन को निशाना बनाया। एंड्रायड डिवाइसों में इन वर्जन की हिस्सेदारी करीब 74 फीसदी है। इनमें से 40 फीसदी डिवाइसें एशियाई मुल्कों जबकि 12 फीसदी यूरोपीय देशों में हैं।


एक बार डिवाइस पर कब्जा होने के बाद यह हैकर्स फर्जी तरह से गूगल प्ले स्टोर से अनचाहे ऐप्स इंस्टॉल कर देते हैं और पीड़ित के खाते से उन्हें रेटिंग देकर मुनाफा कमाते थे।रिपोर्ट में बताया गया, "हैक की गई डिवाइसों पर रोजाना गूलीगन ने कम से कम 30 हजार ऐप्स इंस्टॉल किए या फिर जब से इसकी शुरुआत हुई इसमें 20 लाख से ज्यादा ऐप्स इंस्टॉल किए।"

Latest Videos from Rajasthan Patrika

rajasthanpatrika.com

Bollywood