MICROSOFT ने हिंदुस्तान के इंटरनेट यूज़र्स को लेकर किया सर्वे, नतीजों में आईं चौंकाने वाली बातें

Patrika news network Posted: 2017-02-12 13:10:15 IST Updated: 2017-02-12 13:10:15 IST
MICROSOFT ने हिंदुस्तान के इंटरनेट यूज़र्स को लेकर किया सर्वे, नतीजों में आईं चौंकाने वाली बातें
  • सर्वेक्षण में ऑनलाइन व्यवहार और सम्पर्क के संबंध में लोगों के रवैये और दृष्टिकोण के बारे में पूछताछ की गई थी। यह सर्वेक्षण 13 से 17 वर्ष के किशोरों तथा 18 से 74 वर्ष के व्यस्कों के बीच किया गया।

नई दिल्ली।

इंटरनेट की बढ़ती पैठ और इसके विभिन्न सेवाओं के लिए बढते उपयोग के बीच 63 फीसदी भारतीय साइबर खतरे के शिकार होते हैं और महिलाओं की तुलना में पुरूष इस तरह के खतरे का अधिक शिकार होते हैं। दुनिया की सबसे बड़ी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने डिजिटल सिविलिटी इंडेक्स के जरिए 14 देशों में किए गए सर्वेक्षण के नतीजे जारी किए हैं। 



इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 63 प्रतिशत भारतीयों ने ऑनलाइन खतरे का सामना किया है। 44 प्रतिशत भारतीय ऐसे थे जो पिछले ही महीने ऑनलाइन खतरे से दो चार हुए हैं। इसमें शामिल लोगों में से 69 प्रतिशत भारतीयों ने ऑनलाइन खतरे के प्रति चिंता व्यक्त की। 



रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि असभ्य बर्ताव से निपटने के प्रति युवा ज्यादा आश्वस्त देखे गए हैं और जरूरत पडऩे पर कहां से मदद लेनी है इस बारे में भी उन्हें जानकारी है। हालांकि 50 प्रतिशत युवाओं और 35 प्रतिशत व्यस्कों को ही यह मालूम है कि मदद कहां से मिलेगी।


READ: जियो यूजर्स के लिए खुशखबरीः जियो सिनेमा ऐप पर डाउनलोड करें फ्री फिल्में


इसमें कहा गया है कि इंटरनेट उपयोग करने वाले 64 फीसदी भारतीय पुरुष साइबर हमले के शिकार होते हैं जबकि 61 फीसदी महिलायें भी इससे बच नहीं पाती हैं। ऑनलाइन खतरे से सामना होने के बाद 61 प्रतिशत महिलाओं ने प्राइवेसी कंट्रोल कड़ा कर लिया जबकि पुरुष इस मामले में भी लापरवाह दिखे और मात्र 50 प्रतिशत ने ही इससे बचने के उपाय किये। 



डिजिटल सिविलिटी इंडेक्स माइक्रोसॉफ्ट की मुहिम का हिस्सा है जो ऑनलाइन सम्पर्क को सुरक्षित तथा समावेशी बनाने के लिए काम करती है तथा डिजिटल जगत में जागरुकता लाने का काम करती है। 



माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के ऐसोसिएट जनरल काउंसल मधु खत्री ने कहा कि सर्वेक्षण के खुलासे दुनिया भर में डिजिटल सभ्यता बढ़ाने और इंटरनेट सेवा प्रदाताओं में सुरक्षा को मजबूत करने के लिए स्पष्ट रूप से आधार के तौर पर उपयोगी साबित होंगे। 


Google Play Store : असुरक्षित ऐप्स को हटाने की कर रहा है तैयारी, जानें पूरा मामला


सर्वेक्षण में ऑनलाइन व्यवहार और सम्पर्क के संबंध में लोगों के रवैये और दृष्टिकोण के बारे में पूछताछ की गई थी। यह सर्वेक्षण 13 से 17 वर्ष के किशोरों तथा 18 से 74 वर्ष के व्यस्कों के बीच किया गया। चार श्रेणियों -व्यवहार, प्रतिष्ठा, यौन तथा निजी/हस्तक्षेप- में 17 तरह के ऑनलाइन खतरों से उनका सामना एवं अनुभवों के बारे में सवाल किए गए। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood