Breaking News
  • पाली: मारवाड़ जंक्शन स्टेशन पर ट्रेन की चपेट में आने से यात्री का पैर कटा
  • पाली: लांपी गांव में करंट लगने से युवक की मौत
  • श्रीगंगानगर:गोल बाजार की दुकान में चोरी,पुलिस ने की नाकाबंदी
  • श्रीगंगानगर:नगर परिषद सभापति और आयुक्त की आकस्मिक जांच,63 सफाई कर्मचारी मिले अनुपस्थित
  • बीकानेर: सांखला फाटक के पास बोलेरो और सेना के ट्रक की टक्कर में चार जने घायल
  • सवाईमाधोपुर: नगर परिषद उप सभापति के चुनाव के लिए मतदान शुरू, नगर परिषद सभागार में हो रही वोटिंग
  • जैसलमेर:रामदेवरा मेले में भिक्षावृत्ति कर रही 14 महिलाओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • चूरू: तारानगर के गांव भलाऊ ताल में शराबबंदी को लेकर बैठक, कलेक्टर से की मतदान की मांग
  • जयपुर:झोटवाड़ा में आंध्रा बैंक एटीएम में तोड़फोड़, कैमरे खंगाल रही पुलिस
  • बीकानेर:वाणिज्य कर विभाग ने कर चोरी की आशंका से जब्त किए माल सहित पांच ट्रक जब्त
  • सिरोही: पंचदेवल में सवारी रिक्शा पलटा, 5 घायल
  • जयपुर: क्राइम ब्रांच ने ऑनलाइन ठगी मामले में पुणे और मुंबई से 6 लोगों को किया गिरफ़्तार
  • दौसा:सिकंदरा के बावनपाडा गांव में छप्परपोश घर में लगी आग, आधा दर्जन मवेशी जले
  • धौलपुर: छावनी गांव के पास लोडिंग टेम्पो ने मारी सवारी टेम्पो को टक्कर पांच घायल
  • रैणी: दहेज प्रताड़ना के मामले में एक जना गिरफ्तार, एक बाईक व एक लाख रूपए की थी मांग
  • साँचोर: आयकर विभाग की कार्रवाई, ढाई लाख रुपए टैक्स वसूला
  • कोटा: पीजी करने के नए नियमों का विरोध, 31 को सरकारी डॉक्टर करेंगे कार्य बहिष्कार
  • पाली:दुजाना गांव में तखतगढ के समीप जोगाराम चतराजी के खेत में आग, गेहूं की फसल जली
  • भीलवाड़ा:सिंहपुरा गांव में कुएं से पानी भरने गई महिला की गिरने मौत
  • भीलवाड़ा: नाला का माताजी क्षेत्र में 30 किलो डोडा पोस्‍त के साथ एक जना गिरफ्तार
  • जैसलमेर: राजस्व विभाग ने डांगरी क्षेत्र में पवन ऊर्जा संयत्र का कंट्रोल रूम किया कुर्क
  • जैसलमेर: फतेहगढ़ के भीमसर में मकान में लगी आग, घरेलू सामान, नगदी और आभूषण स्वाह
  • भीलवाड़ा: सिगपुरा गांव में कुएं मे गिरने से महिला की मौत
  • चूरू: सुजानगढ़ में शांति भंग के आरोप में दो युवक गिरफ्तार
  • प्रतापगढ़ : कुमारवाडा से आठ साल का मासूम लापता, मामला दर्ज
  • भीलवाड़ा: अरवड़- कनेच्छनकला गांव में खेत में आग लगने से तीन बीघा की फसल खाक
  • अजमेर:डिस्कॉम ने तीन दिनों में उपभोक्ताओं से वसूले साढ़े 4 करोड़ रुपए, सौ कनेक्शन काटे
  • अजमेर: रजब के चांद का एलान, ख्वाजा साहब का 805वां उर्स शुरू
  • जयपुर के रामगंज में पुलिस की कार्रवाई, 30 बालश्रमिकों को छुड़ाया, आरोपी मोहम्मद अयूब गिरफ्तार
  • बांसवाड़ा: शहर के हाउसिंग बोर्ड चौराहे पर हुई चेन स्नेचिंग
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

'सैटेलाइट' कैद कर रहा खनन माफियाओं की तस्वीरें, Hi-Tech तरीके से ऐसे कसा जा रहा अवैध खनन पर शिकंजा

Patrika news network Posted: 2017-02-19 13:00:12 IST Updated: 2017-02-19 13:00:12 IST
'सैटेलाइट' कैद कर रहा खनन माफियाओं की तस्वीरें, Hi-Tech तरीके से ऐसे कसा जा रहा अवैध खनन पर शिकंजा
  • अवैध खनन नयी प्रणाली चालू होने से पहले अवैध खनन की गतिविधियों की निगरानी औचक निरीक्षण, स्थानीय लोगों की शिकायतों और अपुष्ट सूचनाओं पर आधारित होती थी।

नई दिल्ली।

उपग्रह के जरिये अवैध खनन पर नजर रखने वाली प्रणाली काफी कारगर साबित हो रही है और इससे देश भर में अवैध खनन के 164 मामलों का अब तक पता लगाया गया है। खान मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक समाचार एजेंसी से साक्षात्कार में बताया कि चार महीने पहले शुरू हुई इस प्रणाली ने 3994. 87 हेक्टेयर क्षेत्र में खनन की कुल 296 गतिविधियों का पता लगाया, जिनमें से 164 खनन के मामले अवैध पाए गए। 


मंत्रालय ने अंतरिक्ष और दूर संवेदी प्रणाली की मदद से खनन निगरानी प्रणाली विकसित की है। यह प्रणाली खानों के आसपास के क्षेत्रों में 90 प्रतिशत से भी ज्यादा खनन गतिविधियों का पता ले रही है जिनमें से 15 प्रतिशत मामलों में अवैध खनन की पुष्टि हुई है। 

READ: खुशखबरी ! देश में लॉन्च हुआ सबसे सस्ता 4G स्मार्टफोन, जानें खास बात


अधिकारी के अनुसार खनिज संपदा से भरपूर राज्यों में अवैध खनन बड़ी समस्या बन गई है। वर्ष 2014-15 में अवैध खनन की 4300 प्राथमिकी के मुकाबले 2015-16 में 6000 प्राथिमकी दर्ज की गई है। इनमें से वर्ष 2014-15 में मुख्य खनिजों के अवैध खनन की 400 प्राथमिकी दर्ज की गई जो 2015-16 में बढकर 700 हो गई जबकि 2014-15 में सामान्य खनिजों के अवैध खनन की 3900 के मुकाबले 2015-16 में 5300 एफआईआर दर्ज की गई।


अवैध खनन के बढते मामलों से साफ है कि इनकी निगरानी प्रणाली कारगर नहीं थी। नयी प्रणाली चालू होने से पहले अवैध खनन की गतिविधियों की निगरानी औचक निरीक्षण, स्थानीय लोगों की शिकायतों और अपुष्ट सूचनाओं पर आधारित होती थी। 

READ: ड्रोन के ऊपर भी लग सकेगा राडार, वैज्ञानिकों को मिली सफलता


इन गतिविधियों में लिप्त लोग अपने रसूख का इस्तेमाल करके कानून के चंगुल से बच निकलते थे। खान मंत्रालय और भारतीय खान ब्यूरो ने गुजरात के गांधीनगर स्थित भाष्कराचार्य इंस्टिच्यूट आफ स्पेस अप्लीकेशन ऐंड जियोइंफारमेटिस तथा इलेक्ट्रानिक तथा सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ मिलकर यह प्रणाली विकसित की है। इसमें सम्बन्धित अधिकारियों और आम जनता की भागीदारी बढाने के लिए एक पोर्टल और मोबाइल ऐप भी है। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood