Breaking News
  • पाली: मारवाड़ जंक्शन स्टेशन पर ट्रेन की चपेट में आने से यात्री का पैर कटा
  • पाली: लांपी गांव में करंट लगने से युवक की मौत
  • श्रीगंगानगर:गोल बाजार की दुकान में चोरी,पुलिस ने की नाकाबंदी
  • श्रीगंगानगर:नगर परिषद सभापति और आयुक्त की आकस्मिक जांच,63 सफाई कर्मचारी मिले अनुपस्थित
  • बीकानेर: सांखला फाटक के पास बोलेरो और सेना के ट्रक की टक्कर में चार जने घायल
  • सवाईमाधोपुर: नगर परिषद उप सभापति के चुनाव के लिए मतदान शुरू, नगर परिषद सभागार में हो रही वोटिंग
  • जैसलमेर:रामदेवरा मेले में भिक्षावृत्ति कर रही 14 महिलाओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • चूरू: तारानगर के गांव भलाऊ ताल में शराबबंदी को लेकर बैठक, कलेक्टर से की मतदान की मांग
  • जयपुर:झोटवाड़ा में आंध्रा बैंक एटीएम में तोड़फोड़, कैमरे खंगाल रही पुलिस
  • बीकानेर:वाणिज्य कर विभाग ने कर चोरी की आशंका से जब्त किए माल सहित पांच ट्रक जब्त
  • सिरोही: पंचदेवल में सवारी रिक्शा पलटा, 5 घायल
  • जयपुर: क्राइम ब्रांच ने ऑनलाइन ठगी मामले में पुणे और मुंबई से 6 लोगों को किया गिरफ़्तार
  • दौसा:सिकंदरा के बावनपाडा गांव में छप्परपोश घर में लगी आग, आधा दर्जन मवेशी जले
  • धौलपुर: छावनी गांव के पास लोडिंग टेम्पो ने मारी सवारी टेम्पो को टक्कर पांच घायल
  • रैणी: दहेज प्रताड़ना के मामले में एक जना गिरफ्तार, एक बाईक व एक लाख रूपए की थी मांग
  • साँचोर: आयकर विभाग की कार्रवाई, ढाई लाख रुपए टैक्स वसूला
  • कोटा: पीजी करने के नए नियमों का विरोध, 31 को सरकारी डॉक्टर करेंगे कार्य बहिष्कार
  • पाली:दुजाना गांव में तखतगढ के समीप जोगाराम चतराजी के खेत में आग, गेहूं की फसल जली
  • भीलवाड़ा:सिंहपुरा गांव में कुएं से पानी भरने गई महिला की गिरने मौत
  • भीलवाड़ा: नाला का माताजी क्षेत्र में 30 किलो डोडा पोस्‍त के साथ एक जना गिरफ्तार
  • जैसलमेर: राजस्व विभाग ने डांगरी क्षेत्र में पवन ऊर्जा संयत्र का कंट्रोल रूम किया कुर्क
  • जैसलमेर: फतेहगढ़ के भीमसर में मकान में लगी आग, घरेलू सामान, नगदी और आभूषण स्वाह
  • भीलवाड़ा: सिगपुरा गांव में कुएं मे गिरने से महिला की मौत
  • चूरू: सुजानगढ़ में शांति भंग के आरोप में दो युवक गिरफ्तार
  • प्रतापगढ़ : कुमारवाडा से आठ साल का मासूम लापता, मामला दर्ज
  • भीलवाड़ा: अरवड़- कनेच्छनकला गांव में खेत में आग लगने से तीन बीघा की फसल खाक
  • अजमेर:डिस्कॉम ने तीन दिनों में उपभोक्ताओं से वसूले साढ़े 4 करोड़ रुपए, सौ कनेक्शन काटे
  • अजमेर: रजब के चांद का एलान, ख्वाजा साहब का 805वां उर्स शुरू
  • जयपुर के रामगंज में पुलिस की कार्रवाई, 30 बालश्रमिकों को छुड़ाया, आरोपी मोहम्मद अयूब गिरफ्तार
  • बांसवाड़ा: शहर के हाउसिंग बोर्ड चौराहे पर हुई चेन स्नेचिंग
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

नासा ने खोज निकाला लापता चंद्रयान को, 2009 को टूट गया था इसरो से संपर्क

Patrika news network Posted: 2017-03-10 18:50:18 IST Updated: 2017-03-10 18:50:18 IST
नासा ने खोज निकाला लापता चंद्रयान को, 2009 को टूट गया था इसरो से संपर्क
  • पहले चंद्र मिशन पर भेजे गए भारतीय उपग्रह चंद्रयान-1 को अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला है।

बेंगलूरु।

 पहले चंद्र मिशन पर भेजे गए भारतीय उपग्रह चंद्रयान-1 को अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला है। चंद्रयान-1 को दो साल के मिशन पर अक्टूबर 2008 में भेजा गया था लेकिन 10 महीने बाद 29 अगस्त 2009 को इसरो का इस यान से संपर्क टूट गया। काफी खोजबीन के बाद जब इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली तो इसरो ने उसे खोया हुआ यान मान लिया था। नासा ने कहा है कि जिस चंद्रयान-1 को खोया हुआ माना जा रहा था, वो चंद्रमा की 200 किलोमीटर वाली कक्षा में चक्कर लगा रहा है।


दरअसल, नासा की कैलिफोर्निया स्थित जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (जेपीएल) ने चंद्रयान-1 को जमीनी राडार तकनीक से ढूंढने में कामयाबी हासिल की है। फिलहाल चंद्रयान, चंद्रमा की सतह से 200 किमी ऊपर चक्करलगा रहा है। नासा ने चंद्रयान-1 के साथ अपने एक रोबॉटिक यान लूनर रिकॅनसेंस ऑर्बिटर (एलआरओ) को भी खोज लिया है। वैज्ञानिकों ने एक नए ग्राउंड रडार की मदद से दोनों यानों को खोज निकाला।


वैज्ञानिकों के मुताबिक चंद्रयान-1 को खोजना ज्यादा बड़ी चुनौती थी क्योंकि अगस्त-2009 में ही यह खो गया था और उसका आकार किसी स्मार्ट कार के मुकाबले आधा है। दरअसल, चंद्रयान-1 का आकार 1.5 मीटर के क्यूब (घनाकार) जितना है। इस लिहाज से चंद्रयान-1 को पहचानना और मुश्किल काम था।


जेपीएल में राडार वैज्ञानिक मरीना ब्रोजोविच के मुताबिक 'हमने नासा के लूनर रिकॅनसेंस ऑर्बिटर (एलआरओ) को ढूंढ निकालने में कामयाबी हासिल की है। इसरो का भेजा गया यान चंद्रयान-1 भी चांद की कक्षा में चक्कर लगाते हुए पाया गया है। एलआरओ को ढूंढना हमारे लिए थोड़ा सरल था क्योंकि हम मिशन के नेविगेटर्स के साथ काम कर रहे थे। चंद्रयान का पता लगाना कठिन रहा क्योंकि इससे अगस्त 2009 से संपर्क टूटा हुआ था।'


ऐसे खोजा गया लुप्त यान

चंद्रयान-1 की खोज के लिए अंतर्ग्रहीय रडार का इस्तेमाल किया गया। ये रडार धरती से करोड़ों किमी दूर धूमकेतुओं को देखने में इस्तेमाल होते हैं। हालांकि,चंद्रयान को खोजने के बाद वैज्ञानिकों को यकीन ही नहीं हुआ कि इतने छोटे आकार का कोई ऑब्जेक्ट चंद्रमा के आसपास हो सकता है। चंद्रमा की धरती से दूरी करीब 3 लाख 8 4 हजार किमी है। 


इतनी दूरी पर पहुंचे चंद्रयान को खोजने के लिए नासा ने कैलिफोर्निया स्थित गोल्डस्टोन गहन अंतरिक्ष संचार परिसर के 70 मीटर ऊंचे एंटीना का इस्तेमाल किया। एंटीना ने चंद्रयान-1 की खोज के लिए चंद्रमा की तरफ ताकतवर माइक्रोवेव बीम भेजीं। इसके बाद पश्चिमी वर्जीनिया स्थित 100 मीटर ऊंचे ग्रीन बैंक टेलीस्कोप को चंद्रमा की कक्षा से चंद्रयान-1 की मौजूदगी की तरेंगे मिलीं।


संपर्क टूटने से पहले लगाए 3400 चक्कर

गौरतलब है कि इसरो से संपर्क टूटने के पहले चंद्रयान-1 ने चांद की कक्षा के करीब 3400 चक्कर लगाए थे। इसरो ने इसे 22 अक्टूबर 2008 को श्रीहरीकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पीएसएलवी सी-11 से छोड़ा था। यह 12 नवंबर 2008 को चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश किया और 15 नवंबर को चंद्रयान-1 से निकलकर मून इम्पैक्ट प्रोब (एमआईपी) चांद की धरती से जा टकराया था। मगर, 29 अगस्त 2009 को इसका इसरो से अचानक संपर्क टूट गया था।

rajasthanpatrika.com

Bollywood