Breaking News
  • पाली: मारवाड़ जंक्शन स्टेशन पर ट्रेन की चपेट में आने से यात्री का पैर कटा
  • पाली: लांपी गांव में करंट लगने से युवक की मौत
  • श्रीगंगानगर:गोल बाजार की दुकान में चोरी,पुलिस ने की नाकाबंदी
  • श्रीगंगानगर:नगर परिषद सभापति और आयुक्त की आकस्मिक जांच,63 सफाई कर्मचारी मिले अनुपस्थित
  • बीकानेर: सांखला फाटक के पास बोलेरो और सेना के ट्रक की टक्कर में चार जने घायल
  • सवाईमाधोपुर: नगर परिषद उप सभापति के चुनाव के लिए मतदान शुरू, नगर परिषद सभागार में हो रही वोटिंग
  • जैसलमेर:रामदेवरा मेले में भिक्षावृत्ति कर रही 14 महिलाओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • चूरू: तारानगर के गांव भलाऊ ताल में शराबबंदी को लेकर बैठक, कलेक्टर से की मतदान की मांग
  • जयपुर:झोटवाड़ा में आंध्रा बैंक एटीएम में तोड़फोड़, कैमरे खंगाल रही पुलिस
  • बीकानेर:वाणिज्य कर विभाग ने कर चोरी की आशंका से जब्त किए माल सहित पांच ट्रक जब्त
  • सिरोही: पंचदेवल में सवारी रिक्शा पलटा, 5 घायल
  • जयपुर: क्राइम ब्रांच ने ऑनलाइन ठगी मामले में पुणे और मुंबई से 6 लोगों को किया गिरफ़्तार
  • दौसा:सिकंदरा के बावनपाडा गांव में छप्परपोश घर में लगी आग, आधा दर्जन मवेशी जले
  • धौलपुर: छावनी गांव के पास लोडिंग टेम्पो ने मारी सवारी टेम्पो को टक्कर पांच घायल
  • रैणी: दहेज प्रताड़ना के मामले में एक जना गिरफ्तार, एक बाईक व एक लाख रूपए की थी मांग
  • साँचोर: आयकर विभाग की कार्रवाई, ढाई लाख रुपए टैक्स वसूला
  • कोटा: पीजी करने के नए नियमों का विरोध, 31 को सरकारी डॉक्टर करेंगे कार्य बहिष्कार
  • पाली:दुजाना गांव में तखतगढ के समीप जोगाराम चतराजी के खेत में आग, गेहूं की फसल जली
  • भीलवाड़ा:सिंहपुरा गांव में कुएं से पानी भरने गई महिला की गिरने मौत
  • भीलवाड़ा: नाला का माताजी क्षेत्र में 30 किलो डोडा पोस्‍त के साथ एक जना गिरफ्तार
  • जैसलमेर: राजस्व विभाग ने डांगरी क्षेत्र में पवन ऊर्जा संयत्र का कंट्रोल रूम किया कुर्क
  • जैसलमेर: फतेहगढ़ के भीमसर में मकान में लगी आग, घरेलू सामान, नगदी और आभूषण स्वाह
  • भीलवाड़ा: सिगपुरा गांव में कुएं मे गिरने से महिला की मौत
  • चूरू: सुजानगढ़ में शांति भंग के आरोप में दो युवक गिरफ्तार
  • प्रतापगढ़ : कुमारवाडा से आठ साल का मासूम लापता, मामला दर्ज
  • भीलवाड़ा: अरवड़- कनेच्छनकला गांव में खेत में आग लगने से तीन बीघा की फसल खाक
  • अजमेर:डिस्कॉम ने तीन दिनों में उपभोक्ताओं से वसूले साढ़े 4 करोड़ रुपए, सौ कनेक्शन काटे
  • अजमेर: रजब के चांद का एलान, ख्वाजा साहब का 805वां उर्स शुरू
  • जयपुर के रामगंज में पुलिस की कार्रवाई, 30 बालश्रमिकों को छुड़ाया, आरोपी मोहम्मद अयूब गिरफ्तार
  • बांसवाड़ा: शहर के हाउसिंग बोर्ड चौराहे पर हुई चेन स्नेचिंग
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जयललिता का बेटा बताने वाले को हाईकोर्ट ने फटकारा, जेल भेजने की दी चेतावनी

Patrika news network Posted: 2017-03-17 17:57:38 IST Updated: 2017-03-17 17:58:14 IST
जयललिता का बेटा बताने वाले को हाईकोर्ट ने फटकारा, जेल भेजने की दी चेतावनी
  • न्यायाधीश आर. महादेवन ने चेतावनी देते हुए शुक्रवार को कहा, 'मैं इस युवक को सीधे जेल भेज सकता हूं। मैं पुलिस अधिकारियों से कहूंगा कि इसे जेल में डाल दें।'

चेन्नई।

न्यायाधीश आर. महादेवन ने चेतावनी देते हुए शुक्रवार को कहा, 'मैं इस युवक को सीधे जेल भेज सकता हूं। मैं पुलिस अधिकारियों से कहूंगा कि इसे जेल में डाल दें।' यह शख्स कोई और नहीं बल्कि दो दिन पहले खुद को स्व. मुख्यमंत्री जे. जयललिता का बेटा बताने वाला जे. कृष्णमूर्ति था। जयललिता का 5 दिसम्बर 2016 को लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया था। उनकी वारिस की जंग के बीच जे. कृष्णमूर्ति ने स्वयं को जयललिता का बेटा बताया था।


उसने कोर्ट में शपथपत्र में दावा किया था कि उसका जन्म जे. जयललिता और तेलुगू फिल्म अभिनेता सोहन बाबू से हुआ। उसने कई दस्तावेज हाईकोर्ट को दिए जिसमें गोद लेने का संविदा पत्र भी था। कृष्णमूर्ति ने कोर्ट से गुहार लगाई थी कि उसे जयललिता का पुत्र घोषित किया जाए ताकि उसे पोएस गार्डन स्थित उनके आवास समेत अन्य सम्पत्तियों पर मालिकाना हक नसीब हो।


कृष्णमूर्ति ने हाईकोर्ट से यह भी निवेदन किया था कि पुलिस महानिदेशक को निर्देश देकर उनको सुरक्षा मुहैया कराई जाए क्योंकि उनको जयललिता की नजदीकी और एआईएडीएमके महासचिव वी. के. शशिकला के परिजनों से खतरा है।


कोर्ट रजिस्ट्री ने एक सप्ताह तक इस मामले को संख्या नहीं दी थी। आखिरकार यह याचिका शुक्रवार को जज के सामने आई ताकि इसकी वैधता का निर्धारण किया जा सके।


न्यायाधीश महादेवन ने कहा कि पेश किए गए दस्तावेज पूरी तरह जाली हैं। अगर ये कागजात एलकेजी के छात्र के सामने भी रखे जाते तो वह भी इनको फर्जी बता देता। आपने पब्लिक डोमेन से फोटो उठाकर यहां चस्पा की है। आपको क्या लगता है कोई भी आकर जनहित याचिका लगा सकता है? इस व्यक्ति ने कागजात से छेड़छाड़ की है। कहां है असली कागजात?


पुलिस आयुक्त करें कागजात का सत्यापन

जज ने कृष्णमूर्ति से कहा कि वह चेन्नई सिटी पुलिस कमिश्नर के सामने शनिवार को पेश हो और असली दस्तावेज देकर सत्यापन कराए। उन्होंने चेताया, कोर्ट के साथ मत खेलो। जज ने अपर लोक अभियोजक एमिलियास को निर्देश दिया कि वे पेश किए गए दस्तावेजों की प्रामाणिकता जांचें। उनको पुलिस आयुक्त के समक्ष रखा जाए। पुलिस आयुक्त को इन कागजातों का सत्यापन करने दिया जाए।


रामास्वामी से सवाल

जज ने ट्रेफिक के. आर. रामास्वामी जो याची के संग थे से पूछा, क्या आपने कागजात देखे थे? आपकी इसमें क्या भूमिका है। आपने तो कई अच्छी पीआईएल लगाई हैं। याची का दावा है कि उसका जन्म 1985 में हुआ। एक साल बाद उसे ईरोड की वसंतमणि को गोद दे दिया गया जो 80 के दशक में स्व. एमजीआर के घर काम करती थी। 


कृष्णमूर्ति के अनुसार गोद देने की संविदा पर जयललिता और सोहन बाबू का फोटो व दस्तखत हैं जबकि इस संविदा में साक्ष्य के रूप में एमजीआर ने दस्तखत किए। जज का इस पर कटाक्ष था कि उस वक्त एमजीआर हाथ हिलाने की स्थिति में भी नहीं थे, लेकिन दस्तावेज के अनुसार उन्होंने दस्तखत किए हैं जिस पर यकीन नहीं किया जा सकता।

rajasthanpatrika.com

Bollywood