सोशल मीडिया ने पहुंचाया 5 माह की बच्ची के लिए दूध, मैसेज हुआ वायरल

Patrika news network Posted: 2017-03-15 08:25:27 IST Updated: 2017-03-15 08:25:27 IST
सोशल मीडिया ने पहुंचाया 5 माह की बच्ची के लिए दूध, मैसेज हुआ वायरल
  • सोशल मीडिया के जरिए यात्रियों को मदद पहुंचाने के मामले में भारतीय रेलवे ने एक और उदाहरण पेश किया है। एक दंपती अपने 5 महीने की बच्ची के साथ गुजरात से तिरुनेलवेली के लिए हापा तिरुनेलवेली एक्सप्रेस से सफर कर रहे थे।

मुंबई।

सोशल मीडिया के जरिए यात्रियों को मदद पहुंचाने के मामले में भारतीय रेलवे ने एक और उदाहरण पेश किया है। एक दंपती अपने 5 महीने की बच्ची के साथ गुजरात से तिरुनेलवेली के लिए हापा तिरुनेलवेली एक्सप्रेस से सफर कर रहे थे। बच्ची कार्तिकी को भूख लगी और वो रोने लगी। 


कार्तिकी की मां ने उसके लिए बैग से दूध की बोतल निकाली, लेकिन गर्मी की वजह से दूध फट चुका था। ट्रेन की कैंटीन में भी दूध नहीं था। ऐसे में दंपती के पास कोई विकल्प नहीं था। कार्तिकी भूख से लगातार रोए जा रही थी। इस बीच उनकी सहयात्री नेहा बापट ने सोशल मीडिया पर स्टेटस पोस्ट किया और अपने दोस्तों से हेल्प करने को कहा। फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सऐप के जरिए मैसेज बहुत लोगों तक पहुंच गया। रेलवे ने तुरंत जवाब दिया और ट्रेन को कोलाड पर रोका गया। स्टेशन पर एक रेलवे कर्मचारी ने मिल्क बैग उपलब्ध कराया।


मैसेज हुआ वायरल

अगला स्टेशन रत्नागिरी था, जहां पहुंचने में कुछ घंटे लग जाते। दंपति की सहयात्री नेहा बापट ने सोशल मीडिया पर स्टेटस पोस्ट किया। उसके बाद नेहा के मुंबई, पुणे, रत्नागिरी और नासिक के दोस्तों ने बच्ची के लिए दूध की व्यवस्था करने की कोशिश शुरू कर दी। सोशल मीडिया के जरिए मैसेज बहुत तेजी से वायरल हो होने लगा। 


रत्नागिरी से अनाघा निकम-मकदुम और प्रजाकता ओक और नासिक से रत्ना चावला और नितिन पांडे ने अथॉरिटी को इस बारे में सूचना दी। इस बीच अनाघा निकम-मकदुम ने रेलवे और कोंकण रेलवे को ट्वीट कर इस समस्या के बारे में बताया। इसके बाद रेलवे कर्मचारी बच्चे के लिए दूध लेकर पहुंचा।


सोशल मीडिया पर सक्रिय है रेलवे

सोशल मीडिया के माध्यम से भारतीय रेलवे यात्रियों की मदद करता रहा है। खासतौर पर बुजुर्गों और बच्चों की मदद के लिए रेलवे आगे आता रहा है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु सोशल मीडिया पर बहुत सक्रिया हैं।  सुरेश प्रभु ने सभी डीआरएम और जनरल मैनेजर्स को यह निर्देश दिया था कि वे अपने-अपने सोशल मीडिया के पेज बनाएं। इस तरह सोशल मीडिया पर रेल विभाग के दर्जनों अकाउंट खुले हुए हैं। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood