Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Video: शिवपुर हैड पर नहीं गेज, अंदाजा लगा नापते हैं पानी की मात्रा

Patrika news network Posted: 2017-07-15 12:02:17 IST Updated: 2017-07-15 13:30:33 IST
  • गंगनहर के शिवपुर हैड पर पानी की सही मात्रा का पता लगाने के लिए गेज ही नहीं है। गंगनहर के जीर्णोद्धार के बाद यहां नई गेज पट्टी नहीं लगाई गई। जो पुरानी गेज पट्टी है वह आधी अधूरी और टूटी-फूटी है, जिससे हैड पर तैनात गेज रीडर और बेलदारों को पानी की मात्रा अंदाजा लगा कर पता करनी पड़ रही है।

श्रीगंगानगर.

किसान संघर्ष समिति का एक दल शुक्रवार को 17 जुलाई के बंद के सिलसिले में गांवों में जनसंपर्क करते हुए शिवपुर हैड पर पहुंचा तो गेज के रहस्य से पर्दा उठा। समिति के अमरसिंह बिश्नोई ने बताया कि गेज वेल में गेज पट्टी की हालत देखकर जब उन्होंने वहां तैनात बेलदार से पानी की मात्रा का पता लगाने के बारे में पूछा तो उसने बताया कि गेज सही नहीं होने से वे अंदाजा लगाकर पानी की मात्रा निकालते हैं। 


Video: इस गांव में सुख शांति के लिए निकली जाती है कलश यात्रा

बेलदार ने समिति के सदस्यों को बताया कि खखां हैड, साधुवाली हैड और कालूवाला हैड पर पानी की मात्रा का पता लगाकर वे शिवपुर हैड पर पानी की मात्रा तय करते हैं। समान वितरण कैसे किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता सुभाष सहगल, रिछपाल सिंह और विजय रेवाड़ ने बताया कि 17 जुलाई के बंद को लेकर समिति की एक मांग समान जल वितरण की है। लेकिन जब शिवपुर हैड पर गेज ही नहीं है तो समान जल वितरण कैसे हो रहा होगा। 


अजब- गजब Video: सो रहे व्यक्ति के पेट पर बना त्रिशूल, सब हो गए आष्चर्यचकित

एेसी स्थिति में तो किसी नहर में तीस तो किसी नहर में बीस प्रतिशत अधिक पानी जा रहा होगा। गेज के अभाव में पानी में हो रहे गोलमाल से किसान ही नहीं हैडों पर तैनात जल संसाधन विभाग के कर्मचारी ही नहीं अधिकारी भी परेशान हैं। जल वितरण में पारदर्शिता के लिए शिवपुर हैड पर गेज लगाना जरूरी है, क्योंकि गंगनहर प्रणाली की 22 में से सत्रह नहरें शिवपुर हैड से नीचे है। 


Video: बरानी खेतो को हुआ फायदा, करीब एक दर्जन मकान गिरे

पता लग जाता है गंगनहर रेग्यूलेशन खंड के अधिशासी अभियंता सुरेश कुमार सुथार से जब शिवपुर हैड पर गेज नहीं होने के बारे में पूछा गया तो उनका जवाब गोलमाल था। बिना गेज के पानी की मात्रा का पता लगाने के बारे में पूछने पर उनका कहना था कि शिवपुर हैड से नीचे के हैडों पर गेज की सुविधा है। वहां से छोड़े जा रहे पानी के आधार पर शिवपुर हैड पर मिल रहे पानी का आंकलन हो जाता है।


Video: एक ऐसा मन्दिर जो पहुंच गया जीर्ण-शीर्ण अवस्था में, गांव के सहयोग से हुआ जीर्णोद्धार

rajasthanpatrika.com

Bollywood