video: नशा मुक्ति केंद्र में रोगियों से मारपीट, चिकित्सा विभाग की कार्यवाही

Patrika news network Posted: 2017-05-20 07:13:27 IST Updated: 2017-05-20 07:17:34 IST
  • शहर से कुछ दूरी पर स्थित ओशों नशा मुक्ति केंद्र पर सब कुछ मनमर्जी से चल रहा है। यहां पर केंद्र की गाइड-लाइन के अनुसार नशा छुड़वाने के लिए भर्ती किए गए रोगियों को माकुल सुविधाएं नहीं मिल रही है।

श्रीगंगानगर.

शहर से कुछ दूरी पर स्थित ओशों नशा मुक्ति केंद्र पर सब कुछ मनमर्जी से चल रहा है। यहां पर केंद्र की गाइड-लाइन के अनुसार नशा छुड़वाने के लिए भर्ती किए गए रोगियों को माकुल सुविधाएं नहीं मिल रही है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सीएमएचओ डॉ.अजय कुमार सिंगला व संदीप जाखड़ की संयुक्त टीम ने शुक्रवर को इस नशा मुक्ति केंद्र का दोपहर बाद औचक निरीक्षण किया गया है। मौका पर केंद्र पर 11 रोगी भर्ती किए गए हैं। 


Video: जिला चिकित्सालय में प्रसूता व परिजनों के लिए बनेगी कैंटिन


इनमें गुरविंद्र सिंह,सन्नी, प्रमोद कुमार और जयदेव ने आरोप लगाया कि केंद्र संचालक नशेडियों से बहुत मारपीट करते है और अच्छा खाना तक नहीं दिया जा रहा है। डिप्टी सीएमएचओ डॉ.सिंगला ने बताया कि गुरविंद्र सिंह ने केंद्र में मेरे साथ मारपीट की जा रही है। इसके पीठ पर मारपीट करने के निशान तक दिखा गए। भर्ती रोगियों ने बताया कि यहां पर कोई डॉक्टर या अन्य कार्मिक जांच करने के लिए नहीं आता है। यहां पर नशा मुक्ति केंद्र के संचालक बलवीर जाखड़ खुद रोगियों को गोलियां देते हैं। डॉ.सिंगला ने बताया कि केंद्र पर ना कोई डॉक्टर की सुविधा है और ना विजिंटिंग रजिस्ट्रर लगा रखा है। इसमें कोई काउंसलर या डॉक्टर का नाम अंकित तक नहीं किया गया है। इनडोर रोगी और मेडिसन कौन-कौन सी भर्ती रोगियों को दी गई है 



चार माह बीते शुरू नहीं हुई डायलिसिस मशीन


इसका केंद्र पर कोई रिकॉर्ड तक नहीं मिला है। डॉ. सिंगला ने कहा कि इसकी रिपोर्ट जिला कलक्टर ज्ञानाराम को दे दी गई और पुलिस को भी इसकी सूचना दी गई है। अब जांच में हो रहा है खुलासा--जांच अधिकारी ने बताया कि अब जांच में खुलासा हो रहा है कि नशा मुक्ति केंद्रो पर भर्ती रोगियों से मारपीट कर शारीरिक यातनाएं दी जाती है। प्रशासन ने पहले कभी इन नशा-मुक्ति केंद्रों की जांच नहीं करवाई गई। इस कारण नशा-मुक्ति केंद्र संचालक मनमर्जी से इनसे फीस की वसूली और मारपीट तक करते हैं। 



नशा मुक्ति केंद्र पर डॉक्टर मिला न मूल रिकॉर्ड


अब टीम को नशा मुक्ति केंद्र के पंजीयन,नियुक्त स्टाफ की संख्या,योग्यता, केंद्र पर दी जानी वाली सुविधाओं के बारे में विस्तृत जानकारी जुटाई जा रही है। इस बीच भर्ती रोगियों के बयान तक लिए जा रहे हैं। नशा छुड़वाने के लिए क्या-क्या तरीका अपनाएं जा रहे हैं इनकी भी जानकारी प्राप्त की जा रही है। भोजन की गुणवत्ता आदि की पड़ताल भी करनी होती है। इसमें निर्धारित मापदंडों की पालना नहीं की जा रही है। रोगी की मौत के बाद हो ही है जांच--5 मई को कालियां रोड पर नए खुले गुरुकृपा नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती एक मरीज से मारपीट इतनी की गई की उसकी मौत तक हो गई। 



सब्जी विक्रेता ने जताया विरोध


केंद्र संचालक पांच सी छोटी निवासी प्रदीप सिंह, उसके दोस्त नौ जैड निवासी सुखजिंद्र सिंह और अमृतसर के पट्टी गांव निवासी जितेंद्र शर्मा ने नशा छोडऩे के लिए भर्ती मरीज आजमवाला निवासी सुखदेव सिंह की बुरी तरह से पिटाई की गई। इसके बाद सिंह की मौत हो गई। इसके बाद जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने जिले के सभी नशा मुक्ति केंद्रों का निरीक्षण करने के लिए सीएमएचओ और एसपी की एक संयुक्त जांच कमेटी गठित कर नशा मुक्ति केद्रों का निरीक्षण किया जा रहा है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood