Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

विंबलडन 2017: रोजर फेडरर ने आठवें विंबलडन ताज के साथ रचा इतिहास

Patrika news network Posted: 2017-07-16 20:37:29 IST Updated: 2017-07-16 20:42:22 IST
विंबलडन 2017: रोजर फेडरर ने आठवें विंबलडन ताज के साथ रचा इतिहास
  • ग्रास कोर्ट के बेताज बादशाह स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने करिश्माई प्रदर्शन करते हुए क्रोएशिया के मारिन सिलिच को रविवार को 6-3, 6-1, 6-4 से ध्वस्त कर रिकॉर्ड आठवीं बार विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप का पुरूष एकल खिताब जीतकर नया इतिहास रच दिया।

लंदन।

ग्रास कोर्ट के बेताज बादशाह स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने करिश्माई प्रदर्शन करते हुए क्रोएशिया के मारिन सिलिच को रविवार को 6-3, 6-1, 6-4 से ध्वस्त कर रिकॉर्ड आठवीं बार विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप का पुरूष एकल खिताब जीतकर नया इतिहास रच दिया। 


35 वर्षीय फेडरर विंबलडन को आठ बार जीतने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए। 11वीं बार विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप का पुरुष एकल फाइनल खेल रहे तीसरी सीड फेडरर ने सातवीं सीड सिलिच को एक घंटे 41 मिनट में मात दे दी। फेडरर ने अपने आठवें विंबलडन खिताब के साथ ब्रिटेन के विलियम रेनशॉ और अमेरिका के पीट सम्प्रास को पीछे छोड़ दिया।


 रेनशॉ ने 1968 में ओपन युग शुरु होने से पहले सात बार यह खिताब जीता था जबकि सम्प्रास ने ओपन युग में सात बार यह खिताब अपने नाम किया था। अब फेडरर इन दोनों दिग्गज खिलाड़यिों से आगे निकल गए है। फेडरर का यह 19वां ग्रैंड स्लेम खिताब भी है। उन्होंने इस साल के शुरू में ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब भी जीता था। 


स्विस मास्टर ने ङ्क्षवबलडन की तैयारी के लिए इस साल खुद को फ्रेंच ओपन सहित पूरे क्ले कोर्ट सत्र से दूर रखा था। उनका यह फैसला सही साबित हुआ और उन्होंने अपना 19 वां ग्रैंड स्लेम खिताब जीत लिया। पहली बार विंबलडन चैंपियनशिप का खिताबी मुकाबला खेल रहे सिलिच अपना दूसरा ग्रैंड स्लेम खिताब जीतने से कोसों दूर रह गए। वर्ष 2014 में यूएस ओपन चैंपियन रहे सिलिच के पास फेडरर के मास्टर क्लास का कोई जवाब नहीं था। 


35 वर्ष की उम्र में ओपन युग में विंबलडन के दूसरे सबसे उम्रदराज फाइनलिस्ट बने फेडरर ने सिलिच के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 7-1 का कर लिया है। यह माना जा रहा था कि सिलिच ने फाइनल में पहुंचने तक जैसा प्रदर्शन किया है वह फेडरर के सामने कुछ चुनौती पेश कर सकेंगे लेकिन ग्रास कोर्ट ङ्क्षकग फेडरर ने उन्हें मैच में कोई मौका नहीं दिया।


फेडरर ने मैच में आठ एस और 23 विनर्स लगाए। उन्होंने 10 मौकों में पांच बार सिलिच की सर्विस तोड़ी। जोरदार सर्विस करने वाले सिलिच 16 विनर्स ही लगा पाए और उन्होंने 23 बेजां भूले की। पूरे मैच के दौरान सिलिच को मात्र एक बार फेडरर की सर्विस तोडऩे का मौका। लेकिन वह उसका फायदा नहीं उठा पाए।

rajasthanpatrika.com

Bollywood