Breaking News
  • जोधपुर: बीआरटीएस बसों के लिए बनेंगे १० नए बस शेल्टर
  • जयपुर: एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने पकड़ा 90 किलो चंदन, एक ​महिला सहित 3 गिरफ्तार
  • जोधपुर: यूडी टैक्स जमा करने के विशेष अभियान में निगम को 76 लाख की आय
  • झुंझुनूं: चूड़ीना(पचेरी)मेले में हुई मारपीट के मामले में दो गिरफ्तार
  • बीकानेर: एसपी मेडिकल काॅलेज में पीजी की 14 सीटें और बढ़ी
  • जयपुर: CCD में कॉकरोच का वीडियो बनाने वाले युवक पर स्टाफ से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज
  • धौलपुर: जारोली गांव में जमीन विवाद के मामले में फायरिंग, 2 लोग घायल
  • डूंगरपुर: हाइवे पर कार गड्ढे में गिरी, 4 लोग घायल
  • करौली: कुड़गांव के सेमरदा गांव के घर में आग लगने से 92 हजार रुपए नकद जले
  • करौली: मासलपुर कस ताली गांव में 11 केवी की लाइन टूटने से लगी आग, 3 खेतों में गेहूं की फसल जली
  • जोधपुर: ट्रेनों में अतिरिक्त कोच की अवधि 30 अप्रेल तक बढ़ाई
  • जोधपुर: मेडिकल कॉलेज में हुआ 87वां देहदान, सरस्वती नगर निवासी मूलचंद भट्टी का आज किया देहदान
  • बांसवाड़ा: नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को दस साल कठोर कारावास की सजा
  • चूरू: सुजानगढ़ में रेलवे गेट के बीच फंसा ट्रक, ट्रक चालक गिरफ्तार और ट्रक जब्त
  • जयपुर: CCD में कॉकरोच का वीडियो बनाने वाले युवक पर स्टाफ से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज
  • टूटा दस साल का रिकॉर्ड, जयपुर का तापमान 41.4 डिग्री पर
  • हनुमानगढ़: टिब्बी तहसील में करीब दो साल पहले हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपी विजय पूनिया को जेल, मुख्य आरोपी विनोद पूनिया अभी तक फरार
  • जैसलमेर: सदर पुलिस थाना ने कई साल से फरार स्थाई वारंटी को किया गिरफ्तार
  • सादुलपुर: गणगौर मेले में उमड़ी भीड़, तीन महिलाओ की अज्ञात चोरों ने तोड़ी सोने की चेन
  • BS-3 वाहनों पर बैन से खरीददारों की मौज, बाइक-स्कूटी पर 22 हजार तक की छूट
  • देशभर में गर्मी ने किया लोगों का बुरा हाल, मार्च में ही बरसने लगी आसमान से आग
  • पाली और जोधपुर में केंद्रीय विद्यालय को स्वीकृति,केंद्रीय विद्यालय संगठन ने जारी की
  • पाली और जोधपुर जिले में केंद्रीय विद्यालय को मिली स्वीकृति
  • मेडिकल कॉलेज के लिए सीकर में एमसीआई की टीम, भवन व एसके अस्पताल का निरीक्षण
  • जयपुर: दौलतपुरा टोल प्लाजा पर 2 लाख 16 हजार रुपए के पुराने नोट पकड़े, 3 गिरफ्तार, कार जब्त
  • सवाईमाधोपुर:सिलेण्डर चोर गिरोह से 21 सिलेण्डर, 3-4 लाख का इलेक्ट्रॉनिक सामान बरामद
  • बांसवाडा: तलवार दिखाकर मोबाइल व पर्स लूटने के मामले में मुख्य आरो​पी सहित दो गिरफ्तार
  • बांसवाडा:बिल्डर ने वृद्धा का हाथ तोड़ा, बेटे का सिर फोड़ा, फ्लेट के कब्जे का मामला
  • भीलवाडा : सुभाषनगर थाना क्षेत्र में चेन लूट की दो वारदात
  • अजमेर: स्मेक के साथ तस्कर मोहम्मद अली गिफ्तार, 600 ग्राम स्मेक की बरामद
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

दो बेटी नेत्रहीन, पहले दोनों को पढ़ाया, अब नेत्रहीनों में जगा रहीं शिक्षा की अलख

Patrika news network Posted: 2016-12-01 19:51:14 IST Updated: 2016-12-01 19:51:40 IST
दो बेटी नेत्रहीन, पहले दोनों को पढ़ाया, अब नेत्रहीनों में जगा रहीं शिक्षा की अलख
  • दो बच्चों से एक वर्ष पहले शुरू किया सफरजिले के अन्य नेत्रहीनों की जिदंगी संवारने के लिए निर्मला व सुरेश जांगिड़ ने दिव्य ज्योति दृष्टिहीन कल्याण समिति का गठन किया। उन्होंने बताया कि शुरुआत में सीकर शहर के दो नेत्रहीन विद्यार्थी मिले। इसके बाद विद्यार्थी जुड़ते गए। इस दौरान कई मुसीबत भी आई।

अजय शर्मा, सीकर.

यदि व्यक्ति के मन में कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो मुसीबत खुद राह से हट जाती है। यह एक महिला और उसकी दो बेटियों की संघर्ष की कहानी है। जन्मजात दो बेटियों के नेत्रहीन होने पर सब चिन्ता मेंथे। लेकिन बसंत विहार निवासी निर्मला शेखावत ने इस परेशानी को संघर्ष के दम पर सफल कहानी बनानी की ठान ली। पहले बेटी रिन्कू शेखावत व आशा को पढ़ाया। लेकिन इस राह में मुसीबत यह थी कि आखिर पढ़ाए कहां जाए। क्योंकि सीकर जिले में एक भी नेत्रहीन स्कूल नहीं था। आखिर में दोनों बेटियों को दिल्ली के एक नेत्रहीन विशेष विद्यालय में दाखिला दिलवाया। बेटियों के नौकरी लगने पर अब निर्मला शेखावत ने कुछ सहयोगियों की मदद से बसंत विहार में जिले का पहला नेत्रहीन विशेष स्कूल खोला है। इससे शेखावाटी के नेत्रहीन विद्यार्थियों में नई उम्मीद जगी है।

फिलहाल विद्यालय में 17 नेत्रहीन विद्यार्थी अध्ययनरत है। इनमे से कई यही छात्रावास में रहते है।

हर महीने 60 हजार का खर्चा

संस्था के कोषाध्यक्ष मुकेश सैनी का कहना है कि छात्रावास व विद्यालय में हर महीने औसत 60 हजार रुपए का खर्चा होता है। फिलहाल कोई सहायता नहीं मिलने के कारण संस्था के पदाधिकारी आपस में बांट लेते है। एक निजी कंपनी में काम करने वाले सैनी खुद नेत्रहीन बच्चों को कम्प्यूटर के जरिए पढ़ाई कराते है। वहीं दो वीआई के विशेष शिक्षक ब्रेललिपि से बच्चों को पढ़ा रहे हैं। दोनों बेटियों ने पाया मुकामसंस्था अध्यक्ष निर्मला शेखावत की बड़ी बेटी आशा शेखावत कई कंपनियों में कार्य कर रही चुकी है। फिलहाल वह रेलवे की तैयारी में जुटी है। वही छोटी बेटी रिन्कू शेखावत जयपुर स्थित एसबीआई बैंक में मैेनेजर के पद पर कार्यरत है। उनका कहना है कि दुनिया के सभी नेत्रहीन पढ़-लिखकर मुकाम हासिल कर सके। इसलिए जिले में विद्यालय संचालित करने का मन बनाया।

पहला नेत्रहीन स्कूल

सीकर में मूक बधिर व मानसिक विकलांग विद्यार्थियों के लिए तो कई सामाजिक संस्थाआें की ओर से विशेष विद्यालय संचालित किए जा रहे है। लेकिन नेत्रहीन विद्यार्थियों के लिए कोई स्कूल नहीं था। एेसे में विद्यार्थियों को मजबूरन श्रीगंगानगर, जोधपुर, अजमेर व दिल्ली सहित अन्य राज्यों पढ़ाई के लिए जाना पड़ता है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood