Breaking News
  • धौलपुर: एपीपी ने जज से की शिकायत, कलक्टर दे रहीं धमकी
  • नागौर- कुचामन सिटी में बाइक और ट्रक की टक्कर, युवक की मौत
  • भरतपुर- इब्राहिमका बास गांव में झोपड़ी में लगी आग, 2 साल के बच्चे की मौत
  • हनुमानगढ़-न्यायिक अभिरक्षा में भेजे गए चोरी के दो आरोपी
  • पाली- शादी में डीजे बजाने के नाम पर रिश्वत लेते कोतवाली थाने के रामाराम जाट को पकड़ा, एसीबी की कार्रवाई
  • जयपुर- चाकसू बायपास पर कार की टक्कर से बाइक सवार की मौत
  • बीकानेर- तेहनदेसर गांव में युवक ने पेड़ से लटक कर दी जान
  • बीकानेर से चार नाबालिग लड़कियां गायब, घर से स्कूल के लिए निकली थी
  • हनुमानगढ़ - भादरा कस्बे में ग्राम छानीबड़ी में 6 जुआरी गिरफ्तार
  • जोधपुर- झडासर गांव में कच्चे पड़वे में लगी आग, हजारों का सामान जलकर खाक
  • जयपुर : विधिक सेवा प्राधिकरण की टीम ने SMS के बांगड़ अस्पताल ​के रैन बसेरे का किया दौरा
  • राजस्थान के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों की पोशाक तय, शिक्षा सत्र 2017-18 की पोशाक के लिए निर्देश जारी
  • जोधपुर : युवक की पिटाई के मामले में थानेदार पर एफआईआर दर्ज, एसीपी करेंगे जांच
  • धौलपुर : चलती बाइक में लगी आग, बाल-बाल बचे तीन सवार
  • सूरतगढ़ : बाजार में बिजली के खंभे से टकराई कार, बड़ा हादसा टला
  • बीकानेर : किस्तुरिया गांव के पास दो ट्रकों की टक्कर के बाद लगी आग, एक जिंदा जला
  • भीलवाड़ा : एक ही परिवार के चार जनों ने खाया जहरीला पदार्थ, चिक‍ित्‍सालय में भर्ती मां ने दम तोड़ा
  • रोहट (पाली) : जैन मोहल्ले में घर में घुसा चोर, ग्रामीणों ने पकड़ पुलिस को सौंपा
  • जयपुर : पायलट ने की कोटा मामले की न्यायिक जांच की मांग, डूडी ने सरकार को घेरा
  • उदयपुर : मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय में मार्च में शुरू होगा प्रदेश का पहला एयर कैफे
  • राजसमंद : श्रीनाथ ट्रेवल्स परमिट मामले में आरटीओ ने धांधली की बात मानी
  • सीकर : खाटूवासियों ने चढ़ाया बाबा श्याम को निशान
  • जैसलमेर : नहरों में पानी छोड़ने के बाद किसानों का धरना समाप्त
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जज्बे को सलाम : पहाड़ सी मुश्किलों को भी हराकर कमाल कर दिया सीकर के इन दिव्यांगों ने

Patrika news network Posted: 2016-12-02 11:49:30 IST Updated: 2016-12-02 12:44:49 IST
जज्बे को सलाम : पहाड़ सी मुश्किलों को भी हराकर कमाल कर दिया सीकर के इन दिव्यांगों ने
  • सीकर के इन दिव्यांगों का चयन राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में हुआ है, जो दो से पांच दिसम्बर के बीच जयपुर एसएमएस स्टेडियम में आयोजित होगी।

जोगेंद्र सिंह गौड़/सीकर.

जुनून व जीवन की कठिनाइयों से न हारने की जिद ने इन्हें जिंदगी का फलसफा सीखा दिया...। शारीरिक तौर पर दिव्यांग हैं पर हौसला एवरेस्ट से भी ऊंचा...। जिंदगी की धूप-छांव में न जाने कई ऐसे मौके आए, जब लगा कि संघर्ष की रेस में वे पीछे छूट जाएंगी, पर मजबूत इरादों ने उन्हें हौसला दिया...।

आज घूंघट की ओट में रहने वाली ये बहुएं खेल के मैदान में सफलता की नई इबारत लिख रही हैं। संस्कारों का इल्म सहेजे इनकी सफलता परिवार व गांव का मान बढ़ा रही हैं। हाल ही में इनका चयन राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में हुआ है, जो दो से पांच दिसम्बर के बीच जयपुर एसएमएस स्टेडियम में आयोजित होगी।


व्हीलचेयर पर तैयारी

फतेहपुर गारिंडा की बहू शारदा देवी पोलियो ग्रसित हैं। दोनों पैर खराब होने के कारण खेल की तैयारी व्हीलचेयर पर करती हैं। इनका चयन गोला फेंक, तस्तरी फेंक और भाला फेंक में हुआ है। बतौर, शारदा का कहना है कि पति मजदूरी करते हैं और वह रसोई का काम निपटा कर खेल का अभ्यास करती हैं।


इनके पास 13 मेडल

कूदन की बहू सुमन ढाका एक पैर से विकलांग हैं। लेकिन, गोला फेंक और भाला फेंक में इनका कोई सानी नहीं है। विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा दिखाकर अब-तक 13 मेडल पर कब्जा जमा चुकी हैं। पति खेती कर रहे हैं और ये खेल मैदान पर मेडल बटोर रही हैं। सुबह-शाम अभ्यास की बदौलत इस बार भी उपलब्धि हासिल करने का दम भर रही हैं।


कदम छोटे पर सपने बड़े

बेरी भजनगढ़ के 24 वर्षीय शैतान सिंह  का कद साढे़ तीन फीट है। वर्तमान में एसके अस्पताल में संविदा पर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं। इनका चयन भी दौड़ के लिए किया गया है। बतौर शैतान सिंह का कहना है कि उनका कद भले ही छोटा है लेकिन छोटे कदमों से लंबा सफर तय करना उन्हें आता है। इन्होंने दौड़ में कई मेडल जीते हैं। बतौर शैतान सिंह कहते हैं कि दौड़ उनका जीवन बन चुका है।


मुन्नी साधेगी लक्ष्य

बेरी की बहू मुन्नी देवी का दाहिना हाथ काम नहीं करता है। लेकिन, वह पिछले दो-तीन महीने से गोला फेंक और दौड़ की तैयारी में जुटी हुई हैं। खिलाड़ी मुन्नी का कहना है कि पति बेरोजगार हैं। लेकिन, वह खेल में नाम कमाकर अपना भविष्य बनाना चाहती हैं। ससुराल के लोग भी उनका पूरा सहयोग कर रहे हैं। मुन्नी देवी का कहना है कि शुरुआत में उनके लिए यह सब इतना आसान नहीं था। लेकिन परिजनों व ससुराल पक्ष के सहयोग से आज वे मेडल जितने का सपना देख रही हैं। शुरू में कई बार निराशा हुई लेकिन अब उम्मीद बढ़ी है। मेडल जीतकर गांव व परिजनों का नाम रोशन करना है। वहीं ग्रामीणों का भी कहना है कि गांव की बहू जरूर मान बढ़ाएगी।


13 साल उम्र, दौड़ 10 किमी की...

पंचमुखी बालाजी के पास रहने वाले साबरमल बांवरिया की उम्र महज 13 साल है। लेकिन, प्रतियोगिता में इनका चयन 10 किमी व 500 मीटर की दौड़ में हुआ है। इससे पहले भी ये कई मेडल अपने नाम कर चुके हैं। इस बार इन्हें पूरा भरोसा है कि कोई न कोई मेडल इन्हें जरूर मिलेगा।


हम भी नहीं है कम

पंचायत समिति में बाबू की नौकरी कर रहे भगवानराम को भले ही दृष्टि दोष हो लेकिन, गोला और भाला फेंक में इनकी नजर कभी नहीं चूकती। राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए ये भी आतुर हैं।


आज होंगे रवाना

इनके कोच महेश नेहरा ने बताया कि जयपुर में प्रतियोगिता तीन दिन आयोजित होगी। इसके लिए सभी दिव्यांग खिलाड़ी शुक्रवार को सीकर से रवाना होकर जयपुर एसएमएस स्टेडियम पहुंचेंगे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood