Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सावधान! क्या आप भी जा रहे हैं छाछ और दही लेने तो ये खबर कर देगी हैरान

Patrika news network Posted: 2017-04-14 17:56:25 IST Updated: 2017-04-14 17:56:25 IST
सावधान! क्या आप भी जा रहे हैं छाछ और दही लेने तो ये खबर कर देगी हैरान
  • शहर में जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है, वैसे ही दही और छाछ की बिक्री भी बढ़ती जा रही है। दुकानदार भी अपनी मनमानी करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। दुकानदार छाछ और दही के पैकेट पर प्रिन्ट रेट से तीन से पांच रुपए तक ज्यादा वसूल रहे हैं।

सीकर

शहर में जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है, वैसे ही दही और छाछ की बिक्री भी बढ़ती जा रही है। दुकानदार भी अपनी मनमानी करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। दुकानदार छाछ और दही के पैकेट पर प्रिन्ट रेट से तीन से पांच रुपए तक ज्यादा वसूल रहे हैं। जब दुकानदार से प्रिन्ट से अधिक रुपए वसूले जाने पर पूछा जाता है तो जवाब मिलता है लेना है तो लो, वरना आगे देख लो। ऐसा नहीं कि शहर में यह एक दुकान का मामला है। शहर की कई दुकानों पर धड़ल्ले से तय मूल्य से अधिक रुपए वसूले जा रहे हैं। जयपुर रोड, शांतिनगर औद्योगिक क्षेत्र में यह मामला ज्यादा देखने को मिल रहा है। 


Read:

क्या आप भी कराना चाहते हैं बच्चे का Admission तो ये खबर जरूर पढ़ें


गर्मी ने बढ़ाई पेय पदार्थों की चार गुना खपत


भीषण गर्मी के कारण पेय पदार्थों की मांग बढ़ गई है। छाछ, दही का सेवन प्रतिदिन खान-पान में शामिल हो गया है। सबसे अधिक खपत छाछ व दही की बढ़ी है। खपत का आंकड़ा इतना ज्यादा बढ़ गया है कि कई डेयरी बूथ पर दोपहर तक स्टॉक खत्म हो जाता है। डेयरी क्षेत्र से जुडे लोगों ने बताया कि पिछले एक सप्ताह में गर्मी के तीखे तेवरों के छाछ व दही की खपत चार गुना बढ़ी है। कमोबेश यही स्थिति आइसक्रीम और गन्ने के जूस की है।


Read:

खेजड़ी के पेड़ पर फंदे से लटक गया शराबी, मौत



जिले के प्रतिदिन लाखों की छाछ व दही पी जाते हैं। यह हम नहीं निजी व सहकारी क्षेत्र की विभिन्न डेयरियों से लिए गए आंकड़े बता रहे हैं। आंकड़ो के अनुसार यह खपत इस समय प्रतिदिन 10 हजार लीटर से अधिक है। निजी क्षेत्र की एक बड़ी डेयरी की ओर से जिले में एक सप्ताह पहले तक छाछ 1800 लीटर व दही के कप 500 बेचे जा रहे थे। जबकि श्रीखंड की खपत 1500 कप तक थी। महज एक सप्ताह में यह खपत प्रतिदिन 3500 लीटर व दही के कप करीब एक हजार कप से अधिक हो गई है। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood