Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

#CAMPAIGN: आखिर कैसे जाएं पर्यटन स्थल परिवहन सुविधा की दरकार, आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हष पर्वत

Patrika news network Posted: 2017-07-10 11:49:37 IST Updated: 2017-07-10 11:49:37 IST
#CAMPAIGN: आखिर कैसे जाएं पर्यटन स्थल परिवहन सुविधा की दरकार, आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हष पर्वत
  • धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण बनते जा रहे हर्ष पर्वत की अनदेखी खुद प्रशासनिक अधिकारी कर रहे है। हाल यह है कि हर्ष पर्वत स्थल के लिए सरकारी स्तर पर परिवहन की कोई सुविधा नहीं है।

सीकर

धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण बनते जा रहे हर्ष पर्वत की अनदेखी खुद प्रशासनिक अधिकारी कर रहे है।  हाल यह है कि हर्ष पर्वत स्थल के लिए सरकारी स्तर पर परिवहन की कोई सुविधा नहीं है। खास बात यह है कि हर्ष पर्वत पर रोपवे, गेस्ट हाउस सरीखे आश्वसान भी सब्ज बाग ही बन कर रह गए हैं। ग्रामीणों ने बताया कि एक ओर सरकार पर्यटन स्थलों के विकास के लिए कटिबद्ध होने का दावा कर रही है। बावजूद किसी जनप्रतिनिधि या अधिकारी ने रोडवेज बस चलाने के लिए पहल तक नहीं की है। वहां जाने के लिए पर्यटकों को निजी वाहनों के भरोसे रहना पड़ता है।






Read also:

#CAMPAIGN: सैलानी अंधेरे में, चैकपोस्ट पर सोलर प्लांट, पर्यटकों की परवाह नहीं...आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हर्ष पर्वत...







पहले चलती थी बस बिना कारण बंद की


सीकर से कुचामन वाया हर्ष, मंडावरा, खोरी, चोखा का बास, मांडेता होते हुए कुचामन के लिए निजी बस चलती थी। करीब डेढ दशक पहले से इस बस को बंद कर निजी बस संचालकों ने रूट को ही बदल दिया। 

हर्ष गांव के तुलसीराम शर्मा ने बताया कि बस अब सीकर, दूजोद, चोखा का बास होते हुए कुचामन रूट पर जा रही है। इससे हर्ष गांव तक जाने के लिए परिवहन की सुविधा नहीं मिलती है। जिससे लोगों को परेशानी होती है।

सुरक्षा भगवान भरोसे


सीकर से हर्ष पर्वत की दूरी करीब 16 किलोमीटर है। इस सड़क पर सरकारी या निजी क्षेत्र में परिवहन की सुविधा नहीं है। परिवहन के लिए सुविधा नहीं होने से लोगों को निजी वाहनों में सफर करना पड़ रहा है। दाताराम पुजारी व ग्रामीणों का कहना है कि हर्ष पर्वत तक परिवहन की सुविधा हो जाए तो पर्यटकों की संख्या में खासा इजाफा होगा। साथ ही पर्यटक बढऩे पर आस-पास के गांव हर्ष, मंडावरा, खोरी, बिडोली, भोया, दूजोद के लोगों को रोजगार मिलेगा। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood