Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

मास्टर प्लान में आवासीय राजस्व रिकॉर्ड में चारागाह

Patrika news network Posted: 2017-06-20 11:02:13 IST Updated: 2017-06-20 11:02:13 IST
मास्टर प्लान में आवासीय राजस्व रिकॉर्ड में चारागाह
  • सरकारी लापरवाही भी मास्टर प्लान पर भारी पड़ रही है। शहर के जिन क्षेत्रों में वर्षो पहले आवासीय क्षेत्र विकसित हो गई। वहां भी राजस्व रिकॉर्ड में भूमि को चारागाह दर्शाया हुआ है। यह लापरवाही अब यूआईटी अमले पर भी भारी पड़ रही है। क्योकि यूआईटी की पूरी जमीन चारागाह किस्म की है।

सीकर

यूआईटी ने चार आवासीय कॉलोनियों का प्रोजेक्ट साढ़े तीन वर्ष पहले तैयार किया था। लेकिन भूमि की किस्म परिवर्तन नहीं होने के कारण आमजन का आशियाने का सपना भी टूटता जा रहा है। लेकिन यह मामला फिलहाल कानूनी दाव-पेंचों में उलझा हुआ है। एेसे में वह आवासीय कॉलोनी भी डवलप नहीं कर पा रहा है। इस मामले में अब यूआईटी ने राज्य सरकार को पत्र भी लिखा है।



लापरवाही अब पढ़ रही भारी

यूआईटी के गठन से पहले शहर का  पेराफेरी क्षेत्र भी नगर परिषद के पास था। यहां जिन मार्गो पर व्यावसायिक योजनाएं स्वीकृत है। वहां आवासीय कॉलोनी कट चुकी है। इसके लिए यूआईटी ने नोटिस भी जारी किए है।

यूआईटी के पास ज्यादातर जमीन चारागाह किस्म की है। किस्म परिवर्तन के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा है। इससे मास्टर प्लान की पालना हो सकेगी।

हरिराम रणवां, चेयरमैन, यूआईटी सीकर

rajasthanpatrika.com

Bollywood