Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

17 जुलाई को एक बार फिर लगेगा कर्फ्यू, नहीं मिलेगा दूध अनाज और सब्जी, स्कूल बाजार रहेंगे बंद...

Patrika news network Posted: 2017-07-14 11:13:24 IST Updated: 2017-07-14 11:20:47 IST
17 जुलाई को एक बार फिर लगेगा कर्फ्यू, नहीं मिलेगा दूध अनाज और सब्जी, स्कूल बाजार रहेंगे बंद...
  • अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले 17 जुलाई को जिलेभर में किसान कर्फ्यू होगा।

सीकर

अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले 17 जुलाई को जिलेभर में किसान कर्फ्यू होगा। इस दौरान सुबह आठ से दोपहर बारह बजे जिलेभर में आमजन को दूध, सब्जी व अनाज नहीं मिलेगा। किसानों ने इस दिन घर से कोई भी सामान मंडी नहीं लेने का निर्णय लिया है। किसान कफ्र्यू के चलते मंडी, शिक्षण संस्था, बाजार भी बंद रहेंगे। पूर्व विधायक पेमाराम ने बताया कि जिले में 44 स्थानों पर किसान कर्फ्यू रहेगा। इसमें फतेहपुर के देवास, मल्डाटू, हरसावा, रोलसाहबसर, तनाणा जोहड़ा, लक्ष्मणगढ़ के काछवा, दंतुजला, बलारा, डूडवा, खूड़ी, धोद के रसीदपुरा, नानी बाईपास चौराहा, फागलवा, कासली, धोद, मूण्डवाडा, खूड, लोसल, सिहोट बड़ी, फतेहपुरा, मोरडूंगा, तासर बड़ी, नागवा, नेतडवास चौराहा, चरण सिंह सर्किल, सांवली, बोसाना, दांतारामगढ़ के अखेपुरा, खाटूश्यामजी, दांता, खाचरियाबास, सुरेरा, बाय, धीगरपुर, खंडेला के रींगस, खंडेला, कांवट, श्रीमाधोपुर के थोई, अजीतगढ़, खटकड़ मोड, ब्रह्मचारी आश्रम व नीमकाथाना के पाटन व सिरोही बाईपास क्षेत्र में किसान कफ्र्यू रहेगा। इधर, माकपा सचिव किशन पारीक ने बताया कि अखिल भारतीय किसान सभा के आंदोलन को माकपा ने भी समर्थन दिया है। किसान कर्फ्यू को लेकर गुरुवार को भी किसान सभा के नेताओं ने गांव-ढाणियों में जनसम्पर्क किया। किसान सभा के महासचिव सागर खाचरिया ने बताया कि आंदोलन के तहत किसान चौकियों पर 17 जुलाई को किसानों की सभा भी होगी।


यह किसानों की मांग

पूर्व विधायक व किसान सभा के नेता पेमाराम ने बताया कि किसानों की मुख्य तौर पर सम्पर्ण कर्जा माफ करने, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश लागू करने, पशु क्रूरता कानून 2017 को वापस लेने, प्याज की सरकारी खरीद के भाव बढ़ाने, बछड़ों की विक्री से रोक हटाने और सहकारी समिति के कर्जो में कटौती बंद करने की मांग है।






Read also:

सीकर: एक खाट पर गुमशुम बैठी जिंदगी, पैरों में पड़ी बेडिय़ां, इस मां के दुख को हर कोई महसूस कर सकता है...





सांवराद की घटना चिन्ताजनक


माकपा के राज्य सचिव व पूर्व विधायक अमराराम व जिला सचिव किशन पारीक ने प्रेस बयान जारी कर बताया कि सांवराद की घटना चिन्ताजनक है। उन्होंने इस मामले की सीबीआई से जांच कराने और प्रदेश में कानून व्यवस्था बनाने की मांग की है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood