न पानी पूरा, कट रही बिजली

Patrika news network Posted: 2017-05-19 16:55:12 IST Updated: 2017-05-19 16:55:12 IST
न पानी पूरा, कट रही बिजली
  • गंगापुरसिटी. शहरवासियों को पेयजल किल्लत के साथ बिजली कटौती की पीड़ा भी झेलनी पड़ रही है। पानी की समुचित आपूर्ति के नाम पर शहर में सुबह के समय बिजली कटौती का खेल लम्बे समय से चल रहा है।

गंगापुरसिटी. शहरवासियों को पेयजल किल्लत के साथ बिजली कटौती की पीड़ा भी झेलनी पड़ रही है। पानी की समुचित आपूर्ति के नाम पर शहर में सुबह के समय बिजली कटौती का खेल लम्बे समय से चल रहा है। अंतिम उपभोक्ता तक पानी पहुंचाने के नाम पर रोज सुबह बिजली बंद कर दी जाती है। पहले तो सुबह 6 से 7 बजे तक एक घंटे बिजली कटौती की जा रही थी, लेकिन पिछले दिनों से कटौती का समय बढ़ा कर डेढ़ घंटे कर दिया गया है। अब  5.30 बजे से 7 बजे तक कटौती होने लगी है। यह बात दीगर है कि बिजली कटौती के बाद भी लोगों को भरपूर पानी नहीं मिल पा रहा है। दरअसल जलदाय विभाग के पास न तो पेयजल के पर्याप्त स्त्रोत है और न ही मांग के अनुरूप जल उत्पादन हो रहा है। एक ओर तो पानी नहीं आ रहा दूसरी ओर गर्मी में लोगों को बिजली कटौती का दंश झेलना पड़ रहा है।  

आपूर्ति के बिना भी कटौती

मांग के अनुरूप जल उत्पादन नहीं होने के कारण विभाग द्वारा दो दिन में एक बार जलापूर्ति की जा रही है। इसके लिए जलदाय विभाग की ओर से जोन निर्धारित कर आपूर्ति का समय निर्धारित किया हुआ है। एक दिन एक जोन में तो दूसरे दिन दूसरे जोन में जलापूर्ति की जाती है, लेकिन सुबह के समय समूचे शहर में बिजली कटौती कर दी जाती है। लोगों का कहना है कि जिस दिन जिस क्षेत्र में जलापूर्ति नही की जाती है, उस क्षेत्र में बिजली कटौती का कोई औचित्य नहीं है।

पाइप लाइन नहीं फिर भी कटौती

शहर में अभी भी ऐसे क्षेत्र है जहां पर जलदाय विभाग ने पाइप लाइन ही नहीं डाली हुई है। क्षेत्र के लोग अपने स्तर पर पानी का प्रबंध करते हैं। इसके बावजूद इन क्षेत्रों के लोगों को भी  बिजली कटौती को झेलना पड़ रहा है। 

निगम को रास आ रही कटौती

जलापूर्ति के दौरान की जा रही बिजली कटौती जलदाय विभाग के साथ विद्युत वितरण निगम को भी रास आ रही है। एक ओर विद्युत कटौती से बिजली खपत में कमी आती है। दूसरी ओर से बिजली चोरी के रूप में होने वाली छीजत में भी कम होती है। ऐसे में विद्युत निगम की ओर से कटौती से कोई परहेज और परेशानी नहीं है। 

लोग परेशान

इलाकों में रोजाना बिजली कटौती होने से गर्मी में पंखे- कूलर बंद होते ही लोगों की नींद में खलल पड़ता है। साथ ही दैनिक कामकाज भी प्रभावित  होते हैं। एक साथ डेढ़  घंटे की कटौती लम्बी भी होती है।

विभाग की मांग पर करते है

सुबह के समय बिजली कटौती जलदाय विभाग की मांग पर की जाती है। गर्मी में हर वर्ष डेढ़ घंटे की कटौती की जाती है।

भूपेश शर्मा, कार्यवाहक सहायक अभियंता, विद्युत निगम गंगापुरसिटी

rajasthanpatrika.com

Bollywood