Breaking News
  • सिरोही : कारोबारी पर आयकर कार्रवाई, नोटबंदी में अधिक राशि जमा कराने का मामला
  • मारवाड़ : प्रसिद्ध कागा मेले में उमड़ रहा सैलाब, गेर देखने के लिए लोगों में भारी उत्साह
  • अजमेर : फिल्म देखकर लौट रहे दंपती से लूट, कुंदन नगर चौराहे से पर्स छीन भागे बदमाश
  • कोटा : 1 अप्रेल से आंगनबाड़ी हो जाएंगी आंगनबाड़ी पाठशाला, समय में भी होगा बदलाव
  • हनुमानगढ़ : कार पेड़ से टकराई, तीन की मौत, रावतसर नोहर रोड पर हुआ हादसा
  • भरतपुर : हलैना में बाइक रैलिंग से टकराई, मौके पर ही दो की मौत
  • जयपुर- अजमेर रोड पर तेज रफ्तार पिकअप ने साइकिल सवार को कुचला
  • अलवर- जागुवास मोड़ पर बस को डंपर ने मारी टक्कर, एक दर्जन यात्री घायल
  • सीकर- विभिन्न मांगों को लेकर ग्राम सेवक आज करेंगे विधानसभा का घेराव
  • जेसलमेर- पोकरण में अस्पताल परिसर से देर रात बोलेरो चोरी
  • भीलवाड़ा- राजीव गांधी ऑडिटोरियम में चार दिवसीय शिल्प बाजार आज से
  • भीलवाड़ा- यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता सुबह 11 बजे करेंगे कलक्ट्रेट का घेराव
  • अलवर- नीमराणा मोड़ फ्लाईओवर पर तीन ट्रक भिड़े, एक ट्रक चालक घायल
  • बीकानेर- ट्रोले की चपेट में आने से चार गायों की मौत, देर रात बीकानेर-श्रीगंगानगर हाइवे पर हादसा
  • जयपुर- कानोडिया काॅलेज के पास कार में मिला शव
  • झुंझुनूंः माकड़ो पहाड़ी में अवैध खनन करती जेसीबी मशीन जब्त
  • कोटा- 22 ग्राम स्मैक के साथ युवक गिरफ्तार
  • हनुमानगढ़- आयकर सर्वे से कारोबारियों में हड़कंप, तीन दिनों में 4 जगह सर्वे
  • बीकानेर- चार माह के बच्चे पर गिरा गर्म दूध, अस्पताल में भर्ती, छतरगढ़ की घटना
  • बीकानेर- करंट से किसान की मौत, महाजन के 99 आरडी में हादसा
  • कोटा नगर निगम यूडी टैक्स वसूली के लिए लगाएगा शिविर, आयुक्त ने जारी किए दिशा-निर्देश
  • कोटा- ट्रेन से गिरकर युवक की मौत, जीआरपी थाना क्षेत्र का मामला
  • भरतपुर- नाकाबंदी के दौरान पुलिस पर फायरिंग कर फरार हुए गौ तस्कर, कैथवाड़ा के पास गाड़ी पलटी
  • श्रीगंगानगर- काम में लापरवाही पर साधुवाली ग्राम सेवा सहकारी समिति का व्यवस्थापक मुखराम निलंबित
  • श्रीगंगानगर- लापरवाही पर आदर्श गांव 9 एमएल के विकास अधिकारी भंवरलाल स्वामी एपीओ
  • करौली के मचानी गांव में कुएं में गिरी पांच गाय
  • अजमेर के गगवाना स्थित नेशनल हाइवे पर मछलियों से भरा ट्रक पलटा, ड्राइवर घायल
  • पाली- युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, खिंवाड़ा के पास केरली गांव की घटना
  • बीकानेर में बीती रात अलग-अलग हादसों में दो श्रमिकों के हाथ कटे
  • बीकानेर-सड़क हादसे में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कभी पैंथर तो कभी मानव चढ़ रहा बलि, आखिर कब खत्म होगा मानव-वन्यजीव संघर्ष, देखें वीडियो

Patrika news network Posted: 2017-02-15 10:36:31 IST Updated: 2017-02-15 10:36:31 IST
  • जिले में लगातार मानव-वन्यजीव संघर्ष बढ़ता जा रहा है। पिछले एक साल में ऐसी बहुत सी घटनाएं हुई जो मानव और वन्यजीव के संघर्ष को दर्शाती हैं।

राजसमंद.

जिले में लगातार मानव-वन्यजीव संघर्ष बढ़ता जा रहा है। पिछले एक साल में ऐसी बहुत सी घटनाएं हुई जो मानव और वन्यजीव के संघर्ष को दर्शाती हैं। जब घटनाएं होती हैं तो वनविभाग के पास महज पिंजरा लगाने के अलावा दूसरा कोई उपाय नहीं है। यहां तक की एक रेस्क्यू टीम भी नहीं है, जो इस संघर्ष को समाप्त करने में कड़ी का काम कर सके। लोगों को पैंथर के स्वभाव के बारे में समझा सके और संघर्ष की घटना पर तुरंत मौके पर पहुंचकर दोनों का जीवन सुरक्षित कर सके।

READ MORE: फिर हाईवे पर रफ्तार का शिकार हुआ पैंथर, उपचार के लिए लाए उदयपुर


यहां 310 वर्ग किमी का वन्यजीव अभयारण्य है। 15917.76 हेक्टयर अन्य वन भूमि है जिसमें अनगिनत पैंथर, भालू, भेडिय़ा जैसे हिंसक वन्यजीव रहते हैं। आए दिन इंसानों और इनके बीच संघर्ष होता है। कभी यह मारे जाते हैं तो कभी इंसान। लेकिन विभाग दोनों ही स्थिति में पंगु बना रहता है क्योंकि घटना के बाद तुरंत सूचना नहीं मिलती और मिलती भी है तो विभाग के पास रेस्क्यू टीम नहीं होने से वह कोई कदम नहीं उठा पाते। जबकि इनके पास करीब-करीब सभी उपकरण हैं। जाल, पिंजरा, रस्सी, सीढ़ी, यहां तक की ट्रेंकुलाइज गन भी। लेकिन बिना रेस्क्यू टीम के इसका इस्तेमाल नहीं हो पाता। 

READ MORE: झाडिय़ों में छिपे घायल पैंथर को 1 घंटे की मशक्कत के बाद किया रेस्क्यू, पैंथर को देखने लगा मजमा


जब रेस्क्यू की आवश्यकता होती है तब यहां से साजो-सामान लेकर वनविभाग की टीम पहुंचती है, और मौके पर इंतजार करती है कि कब उदयपुर से दल आए और ऑपरेशन आगे बढ़े। यहां वन्यजीवों में सबसे अधिक पैंथर और मानव संघर्ष है। वर्ष में औसत 7 से 8 बार ऐसी घटनाएं होती हैं जिसमें पैंथर मारा जाता है या फिर जनहानि होती है। उसके बाद भी विभाग के पास इस संघर्ष को कम करने की कोई ठोस योजना नहीं है।      


                                                            संघर्ष कम करने उपाय

-लोगों को ज्यादा से ज्यादा पैंथर के स्वाभाव के बारे में जानकारी दी जाए।

-मार्बल खनन के बाद खानों का भराव करवाया जाए। ताकि पैंथर यहां अपना बसेरा नहीं बना सके।

-पैंथर संभावित क्षेत्रों में विभाग को अस्थाई तौर पर ऐसे लोग लगाने चाहिए जो विभाग को पैंथर या संघर्ष की समय पर सूचना दे सके। 

-पैंथर संभावित क्षेत्रों में विशेष जागरूकता कार्यक्रम करवाए जाएं।

-जिले में रेस्क्यू टीम का गठन किया जाए ताकि  लोगों का विभाग के प्रति विश्वास बढ़े। लोग पैंथर से स्वयं निपटने की बजाए विभाग को सूचना दें।

-समय-समय पर विशेषज्ञों को पैंथर सम्भावित क्षेत्रों का दौरा करवाया जाए तथा गांव में उनकी बैठक करवाई जाए। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood