Breaking News
  • जयपुर- ऑनलाइन व्यवस्था नहीं कर पाने की वजह से 19 प्रदूषण जांच केंद्रों की मान्यता रद्द
  • जयपुर - बावड़ी मोड़ पर ट्रोले की चपेट में आने से बाइक सवार 2 युवकों की मौत
  • दिल्ली- साहित्य अकादमी के अनुवाद पुरस्कार घोषित, बीकानेर के रवि पुरोहित को राजस्थानी अनुवाद पुरस्कार
  • जयपुर- डिस्कॉम ने लागू की कृषि कनेक्शन पर घटाई बिजली दरें
  • जयपुर-दिल्ली हाईवे पर शंकर कुई स्टैंड के पास 2 कारें भिड़ी, 3 लोग घायल
  • झुंझुनूं: शराब पीकर आने पर अध्यापक को किया निलंबित,खेतड़ी में एक विद्यालय का मामला
  • अजमेर: SP ने पीसांगन SHO को किया लाइन हाजिर, IPS मोनिका सेन को सौंपी जांच,महिला कांस्टेबल आत्महत्या मामला
  • अलवर- नीमली गांव में तिजारा अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई के दौरान पुलिस पर पथराव, 6 बाइक और 2 कम्प्रेशर सहित ट्रैक्टर जब्त, 4 गिरफ्तार
  • जोधपुर: एसीबी ने रिश्वत लेते पटवारी को पकड़ा, पटवारी ने फेंके रुपए
  • चूरू के सुजानगढ़ में देशी शराब सहित कैम्पर पकड़ी
  • (सीकर) रींगस थाना क्षेत्र के दादियारामपुरा ग्राम में दो पक्षों में जमीनी विवाद को लेकर हुई मारपीट,4 लोग हुए घायल
  • जयपुर:हरमाड़ा से अवैध विस्फोटक किया बरामद,400 जिलेटिन की छड़ें,300 किलो अमोनियम नाइट्रेट पकड़ा
  • झुंझुनू: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 6.21 किलो अफीम के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार
  • जोधपुर- जैताणा में अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर को भेजा ज्ञापन
  • जयपुर:JDA कल निकालेगा EWS मकानों की लॉटरी,269 मकान होंगे आवंटित,बक्सावाला योजना
  • एसपी भी हटे और पूरा थाना लाइन हाजिर हो, सीआई और कुछ पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करना पर्याप्त नहीं: विधायक चंद्रकांता मेघवाल
  • जयपुर- चिकित्सा विभाग की ओर से बुधवार को सुबह 8 बजे से होगी तम्बाकू रोकथाम जनजागृति मैराथन दौड़
  • केकड़ी- ग्रामीणों की सजगता से बची 5 मोरों की जान
  • जालोर- सांचोर के डेडवा शरद में पकड़ा गया शराब से भरा ट्रक
  • सिरोही - आबूरोड से दो स्थाई वारंटी गिरफ्तार, 7 साल से चल रहा था फरार
  • हनुमानगढ़- 56656 विद्यार्थी देंगे बोर्ड परीक्षा, जिला परीक्षा संचालन समिति की हुई बैठक
  • करौली:पुलिस ने खनन कार्य के उपयोग का विस्फोटक सामान जब्त किया
  • बीकानेर : सैटेलाइट अस्पताल में बच्चे को पालने में छोड़ गए किन्नर
  • जयपुर : नए खुलने वाले सात मेडिकल कॉलेजों में 711 पदों को मंजूरी
  • जयपुर : मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत प्रदेश में 411 पदों पर होंगी भर्तियां
  • बीकानेर : कैसीनो पर पुलिस का छापा, चार जनों को दबोचा
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कभी पैंथर तो कभी मानव चढ़ रहा बलि, आखिर कब खत्म होगा मानव-वन्यजीव संघर्ष, देखें वीडियो

Patrika news network Posted: 2017-02-15 10:36:31 IST Updated: 2017-02-15 10:36:31 IST
  • जिले में लगातार मानव-वन्यजीव संघर्ष बढ़ता जा रहा है। पिछले एक साल में ऐसी बहुत सी घटनाएं हुई जो मानव और वन्यजीव के संघर्ष को दर्शाती हैं।

राजसमंद.

जिले में लगातार मानव-वन्यजीव संघर्ष बढ़ता जा रहा है। पिछले एक साल में ऐसी बहुत सी घटनाएं हुई जो मानव और वन्यजीव के संघर्ष को दर्शाती हैं। जब घटनाएं होती हैं तो वनविभाग के पास महज पिंजरा लगाने के अलावा दूसरा कोई उपाय नहीं है। यहां तक की एक रेस्क्यू टीम भी नहीं है, जो इस संघर्ष को समाप्त करने में कड़ी का काम कर सके। लोगों को पैंथर के स्वभाव के बारे में समझा सके और संघर्ष की घटना पर तुरंत मौके पर पहुंचकर दोनों का जीवन सुरक्षित कर सके।

READ MORE: फिर हाईवे पर रफ्तार का शिकार हुआ पैंथर, उपचार के लिए लाए उदयपुर


यहां 310 वर्ग किमी का वन्यजीव अभयारण्य है। 15917.76 हेक्टयर अन्य वन भूमि है जिसमें अनगिनत पैंथर, भालू, भेडिय़ा जैसे हिंसक वन्यजीव रहते हैं। आए दिन इंसानों और इनके बीच संघर्ष होता है। कभी यह मारे जाते हैं तो कभी इंसान। लेकिन विभाग दोनों ही स्थिति में पंगु बना रहता है क्योंकि घटना के बाद तुरंत सूचना नहीं मिलती और मिलती भी है तो विभाग के पास रेस्क्यू टीम नहीं होने से वह कोई कदम नहीं उठा पाते। जबकि इनके पास करीब-करीब सभी उपकरण हैं। जाल, पिंजरा, रस्सी, सीढ़ी, यहां तक की ट्रेंकुलाइज गन भी। लेकिन बिना रेस्क्यू टीम के इसका इस्तेमाल नहीं हो पाता। 

READ MORE: झाडिय़ों में छिपे घायल पैंथर को 1 घंटे की मशक्कत के बाद किया रेस्क्यू, पैंथर को देखने लगा मजमा


जब रेस्क्यू की आवश्यकता होती है तब यहां से साजो-सामान लेकर वनविभाग की टीम पहुंचती है, और मौके पर इंतजार करती है कि कब उदयपुर से दल आए और ऑपरेशन आगे बढ़े। यहां वन्यजीवों में सबसे अधिक पैंथर और मानव संघर्ष है। वर्ष में औसत 7 से 8 बार ऐसी घटनाएं होती हैं जिसमें पैंथर मारा जाता है या फिर जनहानि होती है। उसके बाद भी विभाग के पास इस संघर्ष को कम करने की कोई ठोस योजना नहीं है।      


                                                            संघर्ष कम करने उपाय

-लोगों को ज्यादा से ज्यादा पैंथर के स्वाभाव के बारे में जानकारी दी जाए।

-मार्बल खनन के बाद खानों का भराव करवाया जाए। ताकि पैंथर यहां अपना बसेरा नहीं बना सके।

-पैंथर संभावित क्षेत्रों में विभाग को अस्थाई तौर पर ऐसे लोग लगाने चाहिए जो विभाग को पैंथर या संघर्ष की समय पर सूचना दे सके। 

-पैंथर संभावित क्षेत्रों में विशेष जागरूकता कार्यक्रम करवाए जाएं।

-जिले में रेस्क्यू टीम का गठन किया जाए ताकि  लोगों का विभाग के प्रति विश्वास बढ़े। लोग पैंथर से स्वयं निपटने की बजाए विभाग को सूचना दें।

-समय-समय पर विशेषज्ञों को पैंथर सम्भावित क्षेत्रों का दौरा करवाया जाए तथा गांव में उनकी बैठक करवाई जाए। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood