मेरे इन्दौर जैसा आपका राजसमंद भी बनाएं स्वच्छ: लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन

Patrika news network Posted: 2017-05-17 15:21:52 IST Updated: 2017-05-17 17:16:09 IST
  • लोकसभा अध्यक्ष ने बुधवार दोपहर राजनगर के भिक्षु निलयम में बालिका उत्थान शिविर के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बालिकाओं को जीवन में हुनरमंद बनने और जिम्मेदारियों को निभाने टिप्स दिए और कहा कि यह संकल्प लें कि मैं कुछ हूं, मैं कुछ कर सकती हूं।

राजसमंद.

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने राजसमंदवासियों से आह्वान किया कि वे देश में सबसे स्वच्छ घोषित इंदौर शहर जैसा स्वच्छ इस शहर को भी बनाएं। इन्दौर की स्वच्छता में वहां के महापौर की मेहनत और शहर के लोगों के सहयोग का जिक्र करते हुए कहा कि यहां भी सभापति सुरेश पालीवाल ऐसा काम करेंगे, उन्हें उम्मीद है।

लोकसभा अध्यक्ष ने बुधवार दोपहर राजनगर के भिक्षु निलयम में बालिका उत्थान शिविर के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बालिकाओं को जीवन में हुनरमंद बनने और जिम्मेदारियों को निभाने टिप्स दिए और कहा कि यह संकल्प लें कि मैं कुछ हूं, मैं कुछ कर सकती हूं। कन्या भ्रूण हत्या की एक ताजा घटना में का जिक्र करते हुए आठ साल की बच्ची द्वारा दिखाई गई संवेदनशीलता से सीख लेने और अभी से मातृत्व भाव जगाने का आह्वान किया।




READ MORE: यहां गाये फंस गयी कीचड़ में तो गौरक्षकों का फूटा गुस्सा, लगाया सड़क जाम, कीचड़ साफ करवा कर ही मानें




महाकवि तुलसीदास का जीवन प्रसंग सुना प्रेम और वात्सल्य की महिमा बताई, वहीं घर-परिवार में संस्कार और रिश्तों की स्थापना में उनकी खास भूमिका बताते हुए दहलीज का दीया बनने की बात कही।


 मोबाइल-टीवी से दूर रहने की नसीहत

सुमित्रा महाजन ने बालिकाओं को मोबाइल-टीवी पर वक्त बिताने की बजाय ज्यादा समय किताबों से पढ़ाई में लगाने की नसीहत दी। उन्होंने जिक्र भी किया कि उन्होंने बचपन में अपने गांव की लाइब्रेरी की 80 फीसदी किताबें पढ़ डाली थीं। हालांकि उन्होनें सुबह-सुबह 'गूगल माता' (सर्च इंजन) का भी सहारा लेने की बात कही। 

गिफ्ट लो, मगर सहेली को अपने हाथ से बनाकर लौटाओ

उन्होंने रिश्तों को मजबूती देने छोटे-छोटे टिप्स दिए। कहा कि कोई सहेली उपहार दें, तो हाथ से चार रूमाल कढ़ाई कर बदले में देने से भी प्रेमभाव बढ़ाया जा सकता है। आप घर और परिचितों में आनंद को द्विगुणित कर सकते हैं। यह सब ममत्व का गुण जगाएगा।



 पुरुष रथ है, तो स्त्री सारथी

लोकसभाध्यक्ष ने कहा कि घर-परिवार में पुरुष रथी है। वह रथ पर सवार है, तो स्त्री की भूमिका एक सारथी की है। सारथी रथी को किधर लेकर जाएगा, यह उस पर निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि पाठ्यक्रम के अलावा दूसरे साहित्य और शिक्षाप्रद किताबों को भी पढ़ें। आप समाज का भविष्य हो। समाज को संवारो, उससे पहले आप स्वयं को संवारें। 




मेवाड़ की गुणगान कर हुईं भावुक

लोकसभाध्यक्ष ने अपने सामान्य दिनों में राजस्थान और मेवाड़ में घूमने आने का जिक्र करते हुए कहा कि तब एक गाइड ने उनसे पर्यटन को लेकर सवाल किए थे। जब मेवाड़ की महिमा बताई, तो वे इस मिट्टी को सिर पर लगाकर धन्य महसूस कर रही थीं। जिस प्रतापी राजा ने घास की रोटी खाकर आत्मस्वाभिमान और मातृभूमि की रक्षा की, जहां के लोग आज भी भामाशाहों की तरह समाज में योगदान देते हों, जो इलाका आज भी राष्ट्रसेवा करता हो, वह महान है। रानी पद्मिनी, हाड़ा रानी, पन्नाधाय का जिक्र करती हुईं सुमित्रा महाजन भावुक हो गईं। मेवाड़ की धरती और राजस्थान की संस्कृति-पर्यटन की उन्होंने भरपूर तारीफ की।



READ MORE: VIDEO: देवगढ़ में खतरनाक हादसा, कार-बाईक की टक्कर में 4 लोग घायल, 1 की मौत





ये भी थे मौजूद

कार्यक्रम में सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक, उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, सांसद हरिओम सिंह राठौड़, शनि आश्रम के दांती महाराज, नगर परिषद सभापति सुरेश पालीवाल आदि भी मौजूद थे। अतिथियों का शिविर संयोजिका संगीता माहेश्वरी ने स्वागत किया। 

सहकार भवन का उद्घाटन

इससे पूर्व लोकसभाध्यक्ष ने कलक्ट्रेट के पास सहकार भवन का फीता काटकर और पट्टिका अनावृत कर उद्घाटन किया। इस मौके पर सहकारिता मंत्री किलक ने कहा कि राज्य सरकार गांव-गांव में सुपर मार्केट बनाएगी, जहां सस्ते दामों पर किराणा व घरेलू उत्पाद मिलेंगे। प्रदेश में ५० सुपर मार्केट बनाए जा रहे हैं। उन्होंने युवाओं के लिए व्यायामशालाएं बनाकर उचित शुल्क पर उपलब्ध कराने की भी योजना बताई। जमीन आवंटन के लिए स्थानीय निकायों का सहयोग मांगा। दोपहर डेढ़ बजे लोकसभाध्यक्ष दिल्ली के लिए उदयपुर एयरपोर्ट रवाना हो गईं। 

सांसद को नहीं मिला बोलने का मौका

मंत्र किरण और सांसद हरिओम सिंह के बीच की गुटबाजी इस कार्यक्रम में भी नजर आईं। बालिका उत्थान शिविर को लोकसभाध्यक्ष, मंत्री और दांती महाराज ने सम्बोधित किया, वहीं सहकार भवन उद्घाटन समारोह को सहकारिता मंत्री ने सम्बोधित किया, लेकिन दोनों कार्यक्रमों में मौजूदगी के बावजूद सांसद को भाषण देने के लिए नहीं बुलाया गया। मंच पर लगी प्रचार सामग्री में से भी सांसद का नाम व फोटो गायब था। सांसद की अनदेखी की काफी चर्चा रही।

rajasthanpatrika.com

Bollywood