एसएमएस अस्पताल करेगा क्राउड मैनेजजेंट, कम करेंगे 30 हजार लोगों की आवाजाही

Patrika news network Posted: 2017-05-16 18:05:08 IST Updated: 2017-05-16 18:05:08 IST
एसएमएस अस्पताल करेगा क्राउड मैनेजजेंट, कम करेंगे 30 हजार लोगों की आवाजाही
  • डॉक्टर्स की टीमें करेंगी सफाई की मॉनिटरिंग, ठप हुए ऑनलाइन सिस्टम फिर होंगे जीवित- एसएमएस अस्पताल ने बनाया अर्ली विजन डाक्यूमेंट

जयपुर।

सवाई मानसिंह अस्पताल में क्राउड मैनेजमेंट और सफाई प्रबंधन के लिए सुविधाओं को विभाजित किया जाएगा। सफाई पर बड़े डॉक्टर निगाह रखेंगे। हर भवन और फ्लोर के हिसाब से डॉक्टर्स की टीमें यहां बनाई गई हैं। क्राउड मैनेजमेंट के लिए ओपीडी पंजीकरण काउंटर मुर्दाघर के पास खाली कराए गए स्टाफ क्वार्टर्स वाले स्थान पर शिफ्ट होंगे। 




मरीज के साथ एक ही परिजन को अंदर जाने की मिलेगी अनुमति...

पंजीकरण के लिए मरीज और परिजन को धन्वन्तरि आउटडोर के अंदर नहीं आना पड़ेगा। अंदर वही जा सकेगा, जिनके हाथ में आउटडोर की पर्ची होगी। मरीज के साथ एक परिजन को अंदर जाने की अनुमति होगी। माना जा रहा है कि इस व्यवस्था से ही रोजाना करीब 20 हजार की भीड़ को अंदर आने से रोका जा सकेगा। 



पहचान पत्र भी होंगे अनिवार्य...

अस्पताल में डॉक्टर्स सहित पूरे स्टाफ के लिए अब गणवेश और पहचान पत्र भी अनिवार्य कर दिया गया है। एसएमएस अस्पताल प्रशासन ने आगामी कुछ माह के अर्ली विजन डॉक्यूमेंट को मंगलवार को जारी करते हुए ये जानकारी दी।



रेफरेंस और ऑनलाइन सिस्टम फिर होंगे जीवित... 

करीब चार साल पहले अस्पताल में एक से दूसरे विभाग में मरीज को दिखाने के लिए भेजे जाने वाले रेफरेंस सिस्टम को ऑनलाइन किया गया था। पंजीकरण की व्यवस्था भी ऑनलाइन व ई मित्रों से की जा चुकी है। लेकिन बाद में ये ठप कर दिए गए। इन सिस्टम को भी पुर्नजीवित किया जाएगा। 



ये मिलेंगी सौगातें...

- अस्पताल में विभिन्न जांचों व उपचार के लिए किए जाने वाले भुगतान को कैशलेश किया जायेगा। 

- आईपीडी मरीजों के सैंपल वार्ड ब्वाय जांच केन्द्र लेकर जाएंगे। अभी परिजन खुद लेकर जाते हैं, जिससे वे परेशान तो होते ही हैं, वहीं अस्पताल में अनावश्यक आवाजाही बढ़ती है। 

- आयुष ओपीडी को बांगड़ बेसमेंट से शिफ्ट कर उसके मूल स्थान धन्वन्तरि ओपीडी में योगा ओपीडी के पास जगह मिलेगी। एंडोक्रायनोलोजी ओपीडी भी जांच केन्द्र के पास शिफ्ट होगा। 

- बांगड़ के गलियारे में स्थित टूडीईको और सोनोग्राफी जांच बांगड़ बेसमेंट में जाएगी। डेक्सा जांच धन्वन्तरि ओपीडी के नवनिर्मित इन्वेस्टमेंट ब्लॉक में होगी। अभी बांगड के गलियारे में ही ये तीनों जांचें होने से भारी भीड़ रहती है, लेकिन इनकी शिफ्टिंग के बाद यहां रोजाना करीब 5 हजार की भीड़ कम होगी। 

- सुरक्षा के लिहाज से ऐसे दरवाजे बंद होंगे, जो अवांछित लोगों के प्रवेश के आसान रास्ते हैं। अस्पताल के मूल दरवाजों से ही प्रवेश व निकास की व्यवस्था होगी। 

- पास सिस्टम सख्ती से लागू होगा। अस्पताल के मुख्य भवन स्थित पूछताछ कक्ष भवन के बाहर शिफ्ट करने पर विचार किया जा रहा है।




डॉ.डी.एस.मीणा ( एसएमएस अस्पताल अधीक्षक )  ने कहा... 

वर्जन हम अगले कुछ महीने में ही भीड़ कम करने का प्रयास कर रहे हैं। अस्पताल में मरीजों की संख्या कम नहीं की जा सकती, लेकिन भीड़ को नियंत्रित किया जा सकता है, सफाई व्यवस्था पर डॉक्टर खुद नजर रखेंगे तो निश्चित तौर पर इसमे सुधार आएगा। जो ऑनलाइन सिस्टम बने हुए हैं, उन्हें सख्ती से लागू करेंगे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood