Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

चार गांवों व तीन ढाणियों के ग्रामीणों की जवाई के पानी से बुझेगी प्यास

Patrika news network Posted: 2017-06-20 10:40:02 IST Updated: 2017-06-20 10:46:27 IST
  • 262.30 लाख रुपए के प्रोजेक्ट को स्वीकृति

पाली. जिले के चार गांवों और तीन ढाणियों में निवास करने वाले 3540 लोगों को अगले करीब 30 वर्ष तक पानी की किल्लत का सामना नहीं करना होगा। इन गांवों में अब तक जवाई का एक लाख लीटर पानी ही रोजाना पहुंच रहा था। वहीं कुछ समय बाद 2 लाख 25 हजार लीटर पानी रोजाना सप्लाई किया जाएगा। इसके लिए जलदाय विभाग ने 262.30 लाख रुपए के प्रोजेक्ट को मंजूरी मिलने के बाद टेंडर भी निकाल दिए है। अब इंतजार सिर्फ टेंडर प्रक्रिया पूरी होने के बाद पाइप लाइन और जल संग्रहण की टंकी का कार्य शुरू होने का है।

read more : बुजुर्ग और बच्चे, दोनों के चेहरों पर इबादत का नूर

इन गांवों के लिए बनी योजना

क्षेत्रीय जलप्रदाय योजना खेतावास-भांगेसर नाम की यह योजना चार गांवों व तीन ढाणियों के लिए है। इनमें खेतावास, सांपा, सोवणिया व भांगेसर गांव तथा कालादांत की ढाणी, महादेव की ढाणी व सोसायटी की ढाणी शामिल है।

यह होंगे कार्य

योजना के तहत एक 1.50 लाख लीटर का उच्च जलाशय खेतावास गांव में बनाया जाएगा। इसे भरने के लिए 25 एमएम के लोहे के 4600 मीटर व 100 एमएम के लोहे के 400 मीटर पाइप लगाए जाएंगे। इसके अलावा पांच किलोमीटर की पाइप लाइन भी बिछाई जाएगी। उच्च जलाशय के आगे 90 एमएम प्लास्टिक के पाइप की 7600 मीटर, 110 एमएम की 4605 मीटर, 125 एमएम की 5175 मीटर और 140 एमएम प्लास्टिक पाइप की 150 मीटर पाइप लाइन भी बिछाई जाएगी।

see PICS : बच्चों ने क्यों कहा-स्वस्थ रहने के लिए साइकिल चलाएं 

नया गांव से जाएगा पानी

इस योजना के तहत पानी नया गांव फिल्टर प्लांट से भेजा जाएगा। अभी इन गांवों व ढाणियों में बोमादड़ा से पानी भेजा जा रहा है, जो पर्याप्त नहीं है। गांवों की अतिरिक्त आवश्यकता के लिए ट्यूबवेल से भी पानी लिया जाता है, लेकिन यह प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद सभी गांवों व ढाणियों को जवाई का पानी ही मिलेगा।

2046 की जनसंख्या बनी आधार

यह योजना बनाने में जलदाय विभाग ने चार गांवों व तीन ढाणियों में वर्ष 2046 की जनसंख्या को आधार बनाया है। विभाग के अनुसार उस समय गांवों की जनसंख्या 4725 होगी। इसी को ध्यान में रखकर पानी की टंकी और पाइप लाइन बिछाई जाएगी।

सार्वजनिक नल लगेंगे

इस योजना के तहत गांवों व ढाणियों में सार्वजनिक नल लगाए जाएंगे। गांवों व ढाणियों में इसके अलावा जीएलआर से जलापूर्ति की व्यवस्था रहेगी। गांवों व ढाणियों में पानी की किल्लत नहीं होगी।

राजेश अग्रवाल, अधिशासी अभियंता, जलदाय विभाग, पाली 

rajasthanpatrika.com

Bollywood