Breaking News
  • जोधपुर : फलौदी की तस्लीमा को तीन तलाक नहीं था कुबूल, हिंदू लड़के के साथ लिए सात फेरे
  • बीकानेर : गैंगरेप केस पर मंत्री भदेल बोलीं-ये नहीं है रेप, झूठी है FIR
  • जयपुर के दौलतपुरा टोल पर 1.10 लाख के पुराने नोट बरामद, तीन गिरफ्तार
  • भरतपुर- बयाना में कैला देवी का लक्खी मेला आज से, कलक्टर डॉ एन के गुप्ता करेंगे घट स्थापना
  • सवाई माधोपुर: नगर परिषद के वार्ड 35 के उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी जैन प्रकाश 46 मतों से जीते
  • जयपुर- मुहाना थाना पुलिस ने शराब की तस्करी करते एक को पकडा
  • जयपुर- शिवदासपुरा पुलिस ने धोखाधडी के मामले में वांछित अपराधी को पकड़ा
  • जयपुर के प्रतापनगर में बाइक सवार बदमाशों ने किशोरी को किया अगवा
  • जयपुर-2 दिन बाद खुलेगा कुलिश स्मृति वन का गेट
  • भरतपुर- भुसावर के छोंकरवाड़ा के पास ट्रक पलटा, खलासी की मौत, चालक घायल
  • जयपुर- बगरू थाना पुलिस ने देर रात टैंकर से तेल चोरी करते पांच जनों को पकड़ा 10 हजार लीटर जब्त, दो टैंकर जब्त
  • बांदीकुई- नगरपालिका वार्ड 19 में उपचुनाव में भाजपा के राधामोहन डंगायच ने जीत दर्ज की
  • भीलवाड़ा: शाहपुरा पंचायत समिति के वार्ड 7 के उप चुनाव में भाजपा की इंद्रा बैरवा विजयी
  • टोंक: जिला परिषद वार्ड नंबर दो के उपचुनाव में भाजपा के रूपचं​द आकोदिया विजयी
  • करौली: भाजपा के थान सिंह पंचायत समिति के वार्ड 24 से निर्वाचित
  • दौसा- बांदीकुई के गुढ़लिया में सेल्समैन को बंधक बना दो लाख की शराब लूटी
  • बांसवाड़ा- उदयपुर रोड पर डागपाड़ा के पास पलटी कार, बच्ची को आई हल्की चोट, कार चालक की धुनाई
  • केकड़ी में अवैध रूप से बजरी परिवहन करते तीन ट्रैक्टर जब्त
  • जयपुर- जगतपुरा में शाॅर्ट सर्किट से एसी में लगी आग, कोई जनहानि नहीं
  • जयपुर- नवजात बच्ची का क्षत-विक्षत शव मिला, जगतपुरा में शहीद की मोरी के पास रेलवे ट्रेक की घटना
  • भरतपुर- जमीन विवाद को लेकर दो भाई भिड़े, एक महिला सहित आधा दर्जन लोग घायल, नंदेरा गांव की घटना
  • उदयपुर- लोक परिवहन सेवा की बस पलटी, एक दर्जन यात्री घायल, भटेवर के पास हादसा
  • जयपुर- चित्तौड़गढ़ के बूंद-बूंद सिंचाई घोटाले में सहायक निदेशक उद्यान अजय सिंह शेखावत निलम्बित
  • बांसवाड़ा- परीक्षा देने के बाद कल लापता हुर्इ 9वीं कक्षा की छात्रा मिली, स्कूल के पास ही खंडहर में छिपी रही
  • जयपुर: JDA अथॉरिटी की बैठक के एजेंडा में मांगे शामिल नहीं करने पर गुस्साए कर्मचारी
  • जयपुर: ट्रांसपोर्ट नगर में तीन दुकानों के ताले टूटे, थाने पहुंचे पीडि़त
  • हनुमानगढ़- सुरेशिया में शर्मनाक घटना, नाबालिग से वेश्यावृत्ति कराते दो जनों को पकड़ा
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

हमारी इस कामयाबी की दुनिया में धाक

Patrika news network Posted: 2017-02-16 10:53:22 IST Updated: 2017-02-16 10:53:38 IST
हमारी इस कामयाबी की दुनिया में धाक
  • अंतरिक्ष अनुसंधान को हमारे यहां कितना महत्व दिया जाता है इसका अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि आम तौर पर अंतरिक्ष अनुसंधान से संबंधित महकमा प्रधानमंत्री की सीधी निगरानी में रहता आया है।

पल्लव बागला

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह प्रक्षेपित कर विश्व कीर्तिमान बनाया है। हम याद करें कि इसरो ने जब अपना पहला उपग्रह छोड़ा था तो उसे  प्रक्षेपण स्थल पर बैलगाड़ी से लाना पड़ा था। बैलगाड़ी से शुरू हुआ यह सफर उपग्रह प्रक्षेपण के शतक तक पहुंच गया है। 



अंतरिक्ष अनुसंधान को हमारे यहां कितना महत्व दिया जाता है इसका अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि आम तौर पर अंतरिक्ष अनुसंधान से संबंधित महकमा प्रधानमंत्री की सीधी निगरानी में रहता आया है। आज जो उपग्रह छोड़े गए उनमें भारत के सिर्फ तीन ही हैं बाकी अन्य देशों के हैं जिनमें इजरायल, अमरीका और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देश शामिल हैं। 



यह मानना ही होगा कि अंतरिक्ष के व्यावसायिक बाजार में भारत की धाक जमी है और वह पिछले कुछ समय में ही अंतरिक्ष बाजार में भरोसेमंद खिलाड़ी बन कर उभरा है। इसका बड़ा कारण यह भी है कि भारत कम से कम लागत में उपग्रह प्रक्षेपित करता है। 



हालांकि चीन, भारत से भी सस्ते में  उपग्रह भेज रहा है। इसकी वजह चीन का अंतरिक्ष अभियान सेना के द्वारा संचालित होना है। चीन भी अब बाजार की दृष्टि से अंतरिक्ष अभियान संचालित कर रहा है। उसके पास सैटेलाइट लांच करने की क्षमता भारत से अधिक है। 



शुरू में हमारी गति धीमी रही, आज हालत यह है कि कई निजी कंपनियां भारत से ही उपग्रह प्रक्षेपित करा रही हैं क्योंकि भारत का लॉन्चर पीएसएलवी काफी भरोसेमंद है। एक तरह से भारत ने इस मामले में चीन को भी चुनौती दे रखी है। निजी कंपनियां चीन की बजाए भारत की तरफ आकर्षित हो रही हैं। आने वाले समय में चीन और भारत के बीच अंतरिक्ष के लिए वही होड़ देखने को मिल सकती है जो किसी समय अमरीका -सोवियत संघ के बीच हुआ करती थी। 



अभी भेजे गए उपग्रहों में ज्यादातर छोटे आकार के हैं जिनका वजन 2-2.5 टन का है। व्यावसायिक बाजार बड़े उपग्रहों का है जिनका वजन 5-6 टन का होता है। भारत को इसमें भी पकड़ बनानी होगी। आने वाले समय में 2-3 किलोग्राम तक के छोटे उपग्रहों का बाजार होगा। 



इसका कारण यह है कि एक तो इनकी लागत कम आती है और दूसरा ये नष्ट हो जाएं तो ज्यादा नुकसान नहीं उठाना पड़ता। इसरो को अतंरिक्ष बाजार में अपनी स्थिति और मजबूत करने के लिए निजी क्षेत्र की सहभागिता भी करनी होगी। इस तरह का सहयोग व्यावसायिक बाजार में इसरो के लिए और अधिक कामयाबी की संभावनाओं के द्वार खोल सकता है।




rajasthanpatrika.com

Bollywood