Breaking News
  • पाली: मारवाड़ जंक्शन स्टेशन पर ट्रेन की चपेट में आने से यात्री का पैर कटा
  • पाली: लांपी गांव में करंट लगने से युवक की मौत
  • श्रीगंगानगर:गोल बाजार की दुकान में चोरी,पुलिस ने की नाकाबंदी
  • श्रीगंगानगर:नगर परिषद सभापति और आयुक्त की आकस्मिक जांच,63 सफाई कर्मचारी मिले अनुपस्थित
  • बीकानेर: सांखला फाटक के पास बोलेरो और सेना के ट्रक की टक्कर में चार जने घायल
  • सवाईमाधोपुर: नगर परिषद उप सभापति के चुनाव के लिए मतदान शुरू, नगर परिषद सभागार में हो रही वोटिंग
  • जैसलमेर:रामदेवरा मेले में भिक्षावृत्ति कर रही 14 महिलाओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • चूरू: तारानगर के गांव भलाऊ ताल में शराबबंदी को लेकर बैठक, कलेक्टर से की मतदान की मांग
  • जयपुर:झोटवाड़ा में आंध्रा बैंक एटीएम में तोड़फोड़, कैमरे खंगाल रही पुलिस
  • बीकानेर:वाणिज्य कर विभाग ने कर चोरी की आशंका से जब्त किए माल सहित पांच ट्रक जब्त
  • सिरोही: पंचदेवल में सवारी रिक्शा पलटा, 5 घायल
  • जयपुर: क्राइम ब्रांच ने ऑनलाइन ठगी मामले में पुणे और मुंबई से 6 लोगों को किया गिरफ़्तार
  • दौसा:सिकंदरा के बावनपाडा गांव में छप्परपोश घर में लगी आग, आधा दर्जन मवेशी जले
  • धौलपुर: छावनी गांव के पास लोडिंग टेम्पो ने मारी सवारी टेम्पो को टक्कर पांच घायल
  • रैणी: दहेज प्रताड़ना के मामले में एक जना गिरफ्तार, एक बाईक व एक लाख रूपए की थी मांग
  • साँचोर: आयकर विभाग की कार्रवाई, ढाई लाख रुपए टैक्स वसूला
  • कोटा: पीजी करने के नए नियमों का विरोध, 31 को सरकारी डॉक्टर करेंगे कार्य बहिष्कार
  • पाली:दुजाना गांव में तखतगढ के समीप जोगाराम चतराजी के खेत में आग, गेहूं की फसल जली
  • भीलवाड़ा:सिंहपुरा गांव में कुएं से पानी भरने गई महिला की गिरने मौत
  • भीलवाड़ा: नाला का माताजी क्षेत्र में 30 किलो डोडा पोस्‍त के साथ एक जना गिरफ्तार
  • जैसलमेर: राजस्व विभाग ने डांगरी क्षेत्र में पवन ऊर्जा संयत्र का कंट्रोल रूम किया कुर्क
  • जैसलमेर: फतेहगढ़ के भीमसर में मकान में लगी आग, घरेलू सामान, नगदी और आभूषण स्वाह
  • भीलवाड़ा: सिगपुरा गांव में कुएं मे गिरने से महिला की मौत
  • चूरू: सुजानगढ़ में शांति भंग के आरोप में दो युवक गिरफ्तार
  • प्रतापगढ़ : कुमारवाडा से आठ साल का मासूम लापता, मामला दर्ज
  • भीलवाड़ा: अरवड़- कनेच्छनकला गांव में खेत में आग लगने से तीन बीघा की फसल खाक
  • अजमेर:डिस्कॉम ने तीन दिनों में उपभोक्ताओं से वसूले साढ़े 4 करोड़ रुपए, सौ कनेक्शन काटे
  • अजमेर: रजब के चांद का एलान, ख्वाजा साहब का 805वां उर्स शुरू
  • जयपुर के रामगंज में पुलिस की कार्रवाई, 30 बालश्रमिकों को छुड़ाया, आरोपी मोहम्मद अयूब गिरफ्तार
  • बांसवाड़ा: शहर के हाउसिंग बोर्ड चौराहे पर हुई चेन स्नेचिंग
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

राजस्थानी भाषा: सपना अधूरा है संवैधानिक मान्यता का

Patrika news network Posted: 2017-03-18 10:40:31 IST Updated: 2017-03-18 10:40:57 IST
राजस्थानी भाषा: सपना अधूरा है संवैधानिक मान्यता का
  • यह विडंबना है कि राजस्थानी को भाषा के रूप में राजस्थान में ही मान्यता नहीं है, वहीं अमरीकन लाइब्रेरी इस भाषा को सम्मान देती है। आज जरूरत इस बात की है कि केन्द्र पर राजस्थानी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने का दबाव बनाया जाए।

मेघराज श्रीमाली

कुछ वर्ष पहले एक समाचार पढऩे को मिला था। इसके अनुसार अमरीका की लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस ने राजस्थानी को तेरह समृद्धतम भाषाओं की सूची में रखते हुए 'धरती धोरां री' के रचयिता कवि कन्हैयालाल सेठिया (अब दिवंगत) की रचनाओं की उनके ही स्वर में रिकार्डिंग की। 



यह विडंबना है कि राजस्थानी को भाषा के रूप में राजस्थान में भी मान्यता नहीं है, वहीं अमरीकन लाइब्रेरी इस भाषा को इतना सम्मान देती है। यह तो तब है जब राजस्थान की विधानसभा ने 2009 में ही राजस्थानी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शािमल करने का प्रस्ताव पारित कर केन्द्र सरकार को भिजवा दिया था। 



वर्ष 2001 की जनगणना में राजस्थानी को मायड़ भाषा में अंकित करने की अपील भी सत्ता व विपक्ष में बैठे नेताओं ने नहीं की थी। राजस्थानी आंदोलन के लेखक और साहित्यकर्मियों की इस दिशा में चुप्पी भी आश्चर्यजनक है। 



सवाल यह है कि राजस्थानी भाषा को संवैधानिक मान्यता के लिए कब तक प्रतीक्षा की जाए?  राजस्थानी को समृद्ध बनाने वाले रचनाकारों में कई आज भी संघर्षशील हैं लेकिन इसकी संवैधानिक मान्यता के सपने को चूर-चूर होते देखने को मजबूर है। 



यह सही है कि राजस्थानी का निर्माण छह प्रमुख बोलियों से हुआ है। इनमें मारवाड़ी, मेवाड़ी, ढूंढाड़ी शेखावाटी, हाडौती व बागड़ी शामिल है। राजस्थानी इन भाषाओं में वार्तालाप करने वाले 94 फीसदी लोगों को अपने में समाहित ही नहीं करती बल्कि एक स्वतंत्र भाषा का निर्माण कर लेती है। 



भाषा वैज्ञानिकों का भी मानना है कि राजस्थानी, हिन्दी से नहीं निकली बल्कि एक स्वतंत्र अस्तित्व वाली भाषा है। भाषायी सर्वे में भी कहा गया है कि राजस्थान निर्माण के बाद इसका नामकरण राजस्थानी कर दिया गया। 



अब तक भले ही इस दिशा में काम को गति नहीं मिली। लेकिन अभी राज्य विधानसभा व संसद के सत्र चल रहे हैं। केन्द्र पर राजस्थानी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने को दबाव बनाने का यह सही वक्त है।




rajasthanpatrika.com

Bollywood