Breaking News
  • उदयपुर: फर्जी कंडक्टर को पकड़ा,अभिरक्षा में भेजा
  • जैसलमेर : पोकरण में आयकर विभाग की कार्रवाई, दस्तावेजों की जांच में जुटी है टीम
  • भरतपुर: कुबेर में मरीज को दिखाने अस्पताल आए व्यक्ति की बाइक हुई चोरी
  • भीलवाड़ा: करेड़ा कस्बे में फिर बढ़ाई धारा 144, अब 4 अप्रेल तक रहेगी लागू
  • नागौर: कांकरिया पम्प हाउस के विद्युत कनेक्शन में फॉल्ट, आधे शहर में 3 दिन से पेयजलापूर्ति बाधित
  • जोधपुर: मार्च लेखाबंदी के कारण आज से जीरा मंडी में नहीं होगा व्यापार
  • सीकर:खातीवास में पैंथर की सूचना से इलाके में दहशत
  • जयपुर-एसओजी ने गलता गेट स्थित गोदाम पर छापा, पकड़ा भारी मात्रा में विस्फोटक
  • जोधपुर- हाईकोर्ट ने किए तीस न्यायिक अधिकारियों के तबादले
  • बीकानेर- दो साल से कर रहे थे दुष्कर्म, निजी स्कूल के आठ शिक्षकों पर मामला दर्ज
  • धोेलपुर- विशेष निगरानी दल व पुलिस ने ग्वालियर से आगरा जा रही स्कॉर्पियो से पकड़ी 35 लाख की नगदी
  • सीकरः सड़क हादसे में बाइक सवार घायल, नीमकाथाना के टोडा में हादसा
  • हनुमानगढ़- पीलीबंगा में दवा विक्रेता के घर से नशीली दवा बरामद, पुलिस ने आरोपित की दुकान की सीज
  • सीकरः कांवट में बस की चपेट में आने से बाइक सवार घायल, बस चालक मौके से फरार
  • अलवरः लक्ष्मणगढ़ में जनरल स्टोर में लगी आग, दुकान में रखा हजारों रुपए का सामान खाक
  • भुसावर-स्टेट हाइवे पर देर रात बाइक फिसलने पर चार लोग घायल, अस्पताल में भर्ती
  • कोटा- यूडी टैक्स जमा करने के लिए शनिवार-रविवार को भी खुला रहेगा नगर निगम दफ्तर
  • श्रीगंगानगर- महाराष्ट्र के चिकित्सकों के समर्थन में निजी व सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों ने काली पट्टी बांधकर जताया रोष
  • जैसलमेर- पोकरण में अखिल भारतीय पुष्टिकर सेवा परिषद का दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन, देश भर से पंहुचे पुष्करणा समाज के लोग
  • श्रीगंगानगर- पंचायत उपचुनाव कल, दो वार्ड पंचों का होगा निर्वाचन, मतदान दल रवाना
  • ओसियां (जोधपुर)- जनता जल योजना के तहत पांच नलकूपों के लिए 52.46 लाख की मंजूरी
  • वैर (भरतपुर)- गाजे बाजे के साथ रवाना हुए कैला देवी दर्शन के लिए 11वीं पदयात्रा, भजनों की धुनों पर नाचते-गाते करौली जा रहे हैं पदयात्री
  • अजमेरः हटुंडी रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन की चपेट में आने से युवक की मौत
  • कोटाः जगपुरा में डंपर ने बालक को कुचला, मौके पर ही मौत
  • अलवर- सरिस्का के माधोगढ़ में बघेरे को जलाकर मारने के विरोध में वन्यजीव प्रेमियों ने निकाला मौन जुलूस
  • अजमेर- माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के रद्दी घोटाले में लम्बे अरसे से फरार चार आरोपित आगरा से गिरफ्तार
  • कामां-ट्रांसफार्मर में फिर लगी आग, कस्बे के कई हिस्सों में बिजली रही गुल
  • जैसलमेरः नाचना में घर के बाहर खड़ा ट्रैक्टर चोरी
  • बांदीकुई-राजगढ़ रेलमार्ग पर जयसिंहपुरा फाटक के पास मृत मिला सेना का जवान
  • भरतपुर-रूपवास के जगनेर मार्ग पर जीप पलटी, एक की मौत, एक घायल
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

वही पुराना राग

Patrika news network Posted: 2017-03-15 13:39:10 IST Updated: 2017-03-15 13:39:10 IST
वही पुराना राग
  • इन नेताओं को लगता है कि ईवीएम में गड़बड़ी की जा सकती है। लोकतंत्र में हर राजनीतिक दल को अपनी राय रखने का अधिकार है। लेकिन, सवाल ये कि ये मांग इस समय पर ही क्यों उठाई जा रही है।

मायावती और अखिलेश यादव के बाद अरविन्द केजरीवाल ने चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की जगह बैलेट पेपर के इस्तेेमाल की मांग उठाकर नई बहस छेड़ दी है। कांग्रेस के कुछ नेता भी ईवीएम के स्थान पर बैलेट पेपर से चुनाव कराने की वकालत कर रहे हैं। 



इन नेताओं को लगता है कि ईवीएम में गड़बड़ी की जा सकती है। लोकतंत्र में हर राजनीतिक दल को अपनी राय रखने का अधिकार है। लेकिन, सवाल ये कि ये मांग इस समय पर ही क्यों उठाई जा रही है। क्या इसलिए कि उत्तरप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ने अन्य दलों का सफाया कर दिया? 



यदि हां, तो फिर पंजाब में कांग्रेस दो तिहाई बहुमत के साथ चुनाव जीतने में कैसे सफल रही? बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने चुनाव नतीजे आने के तुरंत बाद ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी के गंभीर आरोप लगाते हुए चुनाव रद्द करने तक की मांग कर डाली! 



उत्तर प्रदेश के निवर्तमान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस पर सहमति जता डाली। अखिलेश यादव शायद यह भूल गए हैं कि उत्तर प्रदेश में जब चुनाव हुए तो उनकी पार्टी सत्ता में थी और वे इस सरकार के मुखिया थे। 



चुनाव कराने वाले अधिकारी- कर्मचारी व दूसरी सारी मशीनरी भी उनकी ही थी। पांच साल पहले अखिलेश और दस साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में मायावती को इन्हीं ईवीएम मशीनों ने ही चुनावों में विजय दिलवाई थी। 



राजनेताओं और राजनीतिक दलों में चुनाव हारने के बाद धांधली के आरोप लगाने की आदत कोई नई नहीं है। भले ही यह परिपाटी सी बन गई हो लेकिन समूची चुनाव प्रणाली को कठघरे में खड़ा करने की संभवत:  यह पहली घटना है। 



ईवीएम में गड़बड़ी के आरोप लगाने वाले नेता प्रमुख राजनीतिक दलों के हैं। ऐसे में चुनाव आयोग को इन आरोपों का गंभीरता से लेना चाहिए। हालांकि चुनाव आयोग मायावती के आरोपों को खारिज कर चुका है। 



ऐसे में जब दूसरे दलों ने भी ईवीएम को कठघरे में खड़ा किया है तो आयोग को चाहिए कि वह सर्वदलीय बैठक बुलाकर शंकाओं को दूर करें ईवीएम  पर सवाल उठाने वाले राजनीतिक दलों को भी चाहिए कि आरोप के समर्थन में कोई सबूत पेश करें। 



हार का ठीकरा ईवीएम पर फोडऩे की बात पहले भी उठ चुकी है लेकिन इस बार मामला बहुत ही गंभीर है लिहाजा इसके निराकरण की दिशा में काम भी चुनाव आयोग को ही करना चाहिए। 



rajasthanpatrika.com

Bollywood