Breaking News
  • जयपुर- ऑनलाइन व्यवस्था नहीं कर पाने की वजह से 19 प्रदूषण जांच केंद्रों की मान्यता रद्द
  • जयपुर - बावड़ी मोड़ पर ट्रोले की चपेट में आने से बाइक सवार 2 युवकों की मौत
  • दिल्ली- साहित्य अकादमी के अनुवाद पुरस्कार घोषित, बीकानेर के रवि पुरोहित को राजस्थानी अनुवाद पुरस्कार
  • जयपुर- डिस्कॉम ने लागू की कृषि कनेक्शन पर घटाई बिजली दरें
  • जयपुर-दिल्ली हाईवे पर शंकर कुई स्टैंड के पास 2 कारें भिड़ी, 3 लोग घायल
  • झुंझुनूं: शराब पीकर आने पर अध्यापक को किया निलंबित,खेतड़ी में एक विद्यालय का मामला
  • अजमेर: SP ने पीसांगन SHO को किया लाइन हाजिर, IPS मोनिका सेन को सौंपी जांच,महिला कांस्टेबल आत्महत्या मामला
  • अलवर- नीमली गांव में तिजारा अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई के दौरान पुलिस पर पथराव, 6 बाइक और 2 कम्प्रेशर सहित ट्रैक्टर जब्त, 4 गिरफ्तार
  • जोधपुर: एसीबी ने रिश्वत लेते पटवारी को पकड़ा, पटवारी ने फेंके रुपए
  • चूरू के सुजानगढ़ में देशी शराब सहित कैम्पर पकड़ी
  • (सीकर) रींगस थाना क्षेत्र के दादियारामपुरा ग्राम में दो पक्षों में जमीनी विवाद को लेकर हुई मारपीट,4 लोग हुए घायल
  • जयपुर:हरमाड़ा से अवैध विस्फोटक किया बरामद,400 जिलेटिन की छड़ें,300 किलो अमोनियम नाइट्रेट पकड़ा
  • झुंझुनू: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 6.21 किलो अफीम के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार
  • जोधपुर- जैताणा में अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर को भेजा ज्ञापन
  • जयपुर:JDA कल निकालेगा EWS मकानों की लॉटरी,269 मकान होंगे आवंटित,बक्सावाला योजना
  • एसपी भी हटे और पूरा थाना लाइन हाजिर हो, सीआई और कुछ पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करना पर्याप्त नहीं: विधायक चंद्रकांता मेघवाल
  • जयपुर- चिकित्सा विभाग की ओर से बुधवार को सुबह 8 बजे से होगी तम्बाकू रोकथाम जनजागृति मैराथन दौड़
  • केकड़ी- ग्रामीणों की सजगता से बची 5 मोरों की जान
  • जालोर- सांचोर के डेडवा शरद में पकड़ा गया शराब से भरा ट्रक
  • सिरोही - आबूरोड से दो स्थाई वारंटी गिरफ्तार, 7 साल से चल रहा था फरार
  • हनुमानगढ़- 56656 विद्यार्थी देंगे बोर्ड परीक्षा, जिला परीक्षा संचालन समिति की हुई बैठक
  • करौली:पुलिस ने खनन कार्य के उपयोग का विस्फोटक सामान जब्त किया
  • बीकानेर : सैटेलाइट अस्पताल में बच्चे को पालने में छोड़ गए किन्नर
  • जयपुर : नए खुलने वाले सात मेडिकल कॉलेजों में 711 पदों को मंजूरी
  • जयपुर : मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत प्रदेश में 411 पदों पर होंगी भर्तियां
  • बीकानेर : कैसीनो पर पुलिस का छापा, चार जनों को दबोचा
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

नाज है हमें इन पर

Patrika news network Posted: 2017-02-16 10:31:48 IST Updated: 2017-02-16 10:31:48 IST
नाज है हमें इन पर
  • यह बात सही है कि हम अंतरिक्ष कार्यक्रमों का व्यावसायिक इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके बावजूद सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या हमारा अंतरिक्ष कार्यक्रम दुनिया के फ्रांस, ब्रिटेन जैसे यूरोपीय देशों तथा रूस, चीन और अमरीका से प्रतिस्पर्धा को तैयार है?

भारत ने अंतरिक्ष में नया कीर्तिमान स्थापित किया। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने पोलर सेटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) के जरिए एक साथ 104 उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर विश्व रिकॉर्ड बना दिया।  इस अपूर्व सफलता के लिए इसरो के प्रमुख ए.एस. किरन कुमार सहित सभी वैज्ञानिक और कर्मचारियों को बधाई। देश को गर्व है इन पर। 



पिछले 33 सालों (1994 से) में भारतीय अंतरिक्ष अभियान के तहत 40 मिशन सफलतापूर्वक पूरे कर चुका है। अपने अभियान हाथ में लेने के साथ हम अंतरिक्ष में व्यावसायिक अभियान भी चला रहे हैं जिससे बड़ी मात्रा में राजस्व भी प्राप्त हो रहा है। 



यह बात सही है कि हम अंतरिक्ष कार्यक्रमों का व्यावसायिक इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके बावजूद सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या हमारा अंतरिक्ष कार्यक्रम दुनिया के फ्रांस, ब्रिटेन जैसे यूरोपीय देशों तथा रूस, चीन और अमरीका से प्रतिस्पर्धा को तैयार है? इसका जवाब यही है कि फिलहाल हम काफी पीछे हैं। 



यदि अंतरिक्ष प्रक्षेपण व अनुसंधान के क्षेत्र में हमें इन देशों के समकक्ष आना है तो 4500-5000 किलोग्राम वजनी उपग्रहों को अंतरिक्ष की और ऊंचाई वाली कक्षा में स्थापित करने की क्षमता हासिल करनी होगी क्योंकि पीएसएलवी 2000 किलोग्राम तक ही पेलोड ले जाने में सक्षम है। 



यह भी एक तथ्य है कि 5000 किलो पेलोड  की क्षमता हासिल करने पर ही हमें उतना राजस्व मिल सकता है जिससे कि अभियान खर्च निकालकर लाभ में आ जाए। 300 अरब डॉलर के अंतरिक्ष उद्योग में फ्रांस और चीन से मुकाबले के लिए हमें अपने उन्नत जीएसएलवी कार्यक्रम को शीघ्र पूरा करना होगा। 2014 में जीएसएलवी-डी-5 के जरिए भारत अंतरिक्ष में भारी सेटेलाइट भेजने का प्रयोग सफलतापूर्वक कर चुका है। 



जीएसएलवी-एमके-2 का प्रयोग भी गत सितंबर में सफल रहा था। जीएसएलवी एमके-3 पर काम चल रहा है। यदि यह सफल रहा तो इसरो 2019 तक 50 मिशन में 500 भारी सेटेलाइट अंतरिक्ष में स्थापित करने के लक्ष्य को पा ही लेगा। एक बार फिर पूरे मिशन को देशवासियों की ओर से बधाई।




rajasthanpatrika.com

Bollywood