Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

वीडियो: आनंदपाल के एनकाउंटर से लेकर अंतिम संस्कार तक पढि़ए एक रिपोर्ट..

Patrika news network Posted: 2017-07-13 21:48:25 IST Updated: 2017-07-13 22:34:47 IST
  • पत्रिका खास रिपोर्ट: राजस्थान प्रदेश की पुलिस के लिए सिर दर्द बन चुके गैंगस्टर आनंदपाल का पुलिस के साथ लुका छिपी का खेल आखिर 24 जून 2017 देर रात साढे 11 बजे खत्म हो गया।

nagaur

नागौर. सितम्बर 2015 में पुलिस की गिरफ्त से भागे आनंदपाल का पुलिस ने चुरू जिले के मालासर स्थित एक मकान में  24  जून 2017 देर रात साढे 11 बजे एनकाउंटर कर दिया। आनंदपाल के परिजनों, राजपूत व रावणा राजपूत समाज ने एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए सीबीआई जांच की मांग की। 24 जून से 12 जुलाई तक 19 दिनों तक परिजन सीबीआई जांच की मांग पर अड़े रहे।

आखिर हो गया आनंदपाल का अंतिम संस्कार

 बुधवार सुबह रैली के बाद शाम को भीड़ द्वारा पुलिस पर हमला कर हथियार लूटने व रेलवे ट्रेक उखाडऩे की वारदात में एक जने की मौत व दो दर्जन से ज्यादा पुलिसकर्मियों के घायल होने के बाद एनकाउंटर के 20वें दिन पुलिस ने राज्य मानवाधिकार आयोग के निर्देश पर परिजनों को अन्त्येष्टि करने के लिए नोटिस दिया।

गुरुवार शाम करीब साढे छह बजे आनंदपाल के शव की अन्त्येष्टि कर दी गई। हालांकि आनंदपाल की बड़ी बेटी चीनू दुबई से नहीं लौटी। उधर, छोटी बेटी योगिता ने ऑडियो जारी कर कहा कि पुलिस ने उसके पिता के शव का जबरन अंतिम संस्कार किया है। 

आनंदपाल एनकाउंटर से लेकर अंतिम संस्कार तक

24 जून- चुरू, नागौर, बीकानेर पुलिस व एसओजी टीम ने चुरू के मालासर में देर रात साढे ११ बजे किया आनंदपाल का एनकाउंटर।

25 जून- पुलिस ने रतनगढ़ के अस्पताल में कराया पोस्टमार्ट्म, शव परिजनों को सौंपा, परिजनों का अन्त्येष्टि से इनकार। गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया का बयान-मुझे एनकाउंटर की जानकारी नहीं, मुख्यमंत्री ने रात को फोन कर आनंदपाल के एनकाउंटर की बधाई दी। एसओजी आईजी दिनेश एमएन ने कहा, उन्हें नहीं थी आनंदपाल के साथ मुठभेड़ की जानकारी।  

26 जून- एनकाउंटर को लेकर एफबी पर सनसनी फैलाने का प्रयास, आरोपित युवक जोधपुर में धरा गया। चार मांगों पर अड़े आनंदपाल के परिजन। 

27 जून- परिजनों ने तीसरे दिन भी नहीं लिया शव। विरोध-प्रदर्शन रहा जारी।

28 जून- सोशल मीडिया में चल रहे सवालों का एसपी परिस देशमुख ने दिया जवाब। करणी सेना ने दिया ज्ञापन। 

29 जून- सांवराद में गतिरोध बरकरार, सीबीआई जांच समेत अन्य मांगों पर अड़े रहे परिजन। 

30 जून-कोर्ट के आदेश पर चुरू स्थित जिला अस्पताल में सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के अनुसार दुबारा हुआ आनंदपाल के शव का पोस्टमार्ट्म। जाब्ते के साथ चुरू ले जाया गया शव। 

01 जुलाई- पुलिस ने परिजनों को सौंपा आनंदपाल का शव। मांगों पर अड़े रहे परिजन, नहीं किया अंतिम संस्कार। 

02 जुलाई-नहीं हुआ आनंदपाल का अंतिम संस्कार, ड्रोन कैमरे से हुई आनंदपाल के घर की निगरानी। आनंदपाल की बेटी योगिता ने अपनी चाची के साथ की प्रशासन से वार्ता। 

03 जुलाई- राजपूत समाज के लोकेन्द्र सिंह कालवी पहुंचे सांवराद। समाज ने कहा, मांगें नहीं मांगी तो भाजपा का बहिष्कार करेगा राजपूत समाज। 

04 जुलाई- पुलिस ने आखिर लौटाया जब्त किया गया डी फ्रिजर। कोर्ट ने मंजीतपाल की जमानत को लेकर कहा, पहले दाह संस्कार का दिन व समय बताओ। इसी दिन आनंदपा की दादी ने कहा, दुखी हूं। 

05 जुलाई- सांवराद में स्थिति तनावपूर्ण, नहीं हुआ अंतिम संस्कार। चर्चा में रहे  आनंदपाल के वकील व कांग्रेस नेताओं के ऑडियो

06 जुलाई- चुरू पहुंची आनंदपाल की पत्नी, बेटी व बहन। परिजनों ने एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिस अधिकारियों के खिलाफ रतनगढ थाने में दिया परिवाद। आनंदपाल से पीडि़त परिवार पहुंचा राजपूत सभा भवन-कहा, न्याय दिलाओ। 

07 जुलाई- कुछ बातें मानने को राजी, सीबीआई जांच को लेकर राजी नहीं हुई सरकार।  जयपुर एसएमएस में भर्ती कमांडो सोहनसिंह दिल्ली रैफर। 

08 जुलाई- कांग्रेस नेता प्रतापसिंह खाचरियावास पहुंचे सांवराद। सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल।  

09 जुलाई- सांवराद में कम किया पुलिस जाब्ता। 

10 जुलाई-नागौर जिले में इंटरनेट सेवाएं १२ जुलाई तक बंद। 

11 जुलाई-कुचामन में आधा दर्जन रोडवेज बसें फूंकी। 

12 जुलाई- राजपूत समाज की श्रद्धांजलि सभा, पुलिस पर हमला, फायरिंग में एक की मौत, ३२ पुलिसकर्मी व अन्य घायल। इंटरनेट पर प्रतिबंध अवधि बढाई। 

13 जुलाई- पुलिस ने राज्य मानवाधिकार आयोग के आदेश पर आनंदपाल के परिजनों को दिया अंतिम संस्कार करने का नोटिस। शाम को निकट के रिश्तेदारों ने पुलिस की मौजूदगी में की अन्त्येष्टि। इसी बीच कथित रूप से आनंदपाल की छोटी बेटी योगिता ने ऑडियो जारी कर कहा, पुलिस ने जबरदस्ती करवाया दाह संस्कार।

rajasthanpatrika.com

Bollywood