Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

किसानों ने दिखाया गुस्सा, लगाया जाम

Patrika news network Posted: 2017-07-17 22:40:10 IST Updated: 2017-07-17 22:40:10 IST
किसानों ने दिखाया गुस्सा, लगाया जाम
  • भाजपा सरकार के खिलाफ गरजे किसान चक्का जाम कर किया प्रदर्शन सडक़ जाम

मौलासर.

कर्जा माफी समेत अन्य मांगों को लेकर अखिल भारतीय किसान सभा एवं माकपा के आह्वान पर क्षेत्र के किसानों ने सोमवार को सडक़ जाम कर सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। भारत सरकार द्वारा 23 मई 2017 को देश में लागू किए गए पशु विक्री कर कानून के विरोध में किसानों ने डीडवाना-लोसल सीकर मार्ग पर केन्द्र व राज्य की भाजपा सरकार को जमकर कोसा। इस दौरान नुंवा-पायली चौराहे पर तकरीबन चार घंटे तक किसानों ने सडक़ पर डेरा जमाए रखा। हालांकि मौलासर थानाधिकारी शम्भूसिंह शेखावत व एएसआई चुन्नीलाल कुमावत व उपखण्ड अधिकारी उत्तमसिंह शेखावत ने किसानों को समझाकर उठाने का प्रयास किया लेकिन वे नही मांने। चक्का जाम के कारण डीडवाना- लोसल मार्ग पर वाहनों का जाम लग गया। वही कई वाहन चालक लिंक रास्तों पर भटकते रहे। इस अवसर पर अखिल भारतीय किसान सभा अध्यक्ष भागीरथ नेतड़ ने कहा कि राज्य व केन्द्र में विराजमान भाजपा सरकार की नीतियां दमनकारी है। उन्होंने कहा कर्ज के बोझ से दमा किसान रोज आत्महत्या करने को मजबूर है, लेकिन सरकार को इससे कोई ताल्लुक नही है। सीपीएम के जिला सचिव भागीरथ यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार किसान विरोधी सरकार है।

इन मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

धरने पर बैठे किसान नेताओं ने बताया कि राजस्थान के किसानों का कर्ज माफ किया जाए, क्योंकि उपज के अनुपात में किसानों को लागत पर ज्यादा खर्च हो रहा है, वहीं प्राकृतिक आपदा आदि भी किसानों की कमर तोड़ रही है ऐसे में प्रदेश का किसान कर्ज में डूबा हुआ है, सरकार तत्काल किसानों का कर्ज माफ करें। दूसरी मांग के तहत स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट तत्काल प्रभाव से सरकार लागु करें, ताकी किसानों को लाभ मिल सके। वही तीसरी मांग थी कि हाल ही में केन्द्र सरकार द्वारा भारत में लागू किए गए पशु विक्री कर को सरकार वापस ले। जानकारी के अनुसार पशु विक्री कर लागू होने से किसान पशुओं को मेले आदि में ने तो बैच सकते है ओर न ही खरीद सकते है। यदि ऐसा करते है तो किसान को अपने ही पशु पर सरकार को विक्री कर पेटे टेक्स देना पड़ेगा।

यातायात को किया डायवर्ट

अपनी मांगों को लेकर किसान बड़ी संख्या में नुवां-पायली चौराहे पर विरोध-प्रदर्शन कर रहे थ्से। इससे पहले आसपास के गांवों से सैकड़ों किसान चौराहे पर एकत्रित हुए। किसान कफ्र्यू चक्का जाम के तहत सुबह आठ बजे किसान डीडवाना-लोसल मार्ग को जाम कर धरने पर बैठ गए। किसानों का धरना दोपहर १२ बजे तक चला इस दौरान पुलिस ने मार्ग से आने-जाने वाले वाहनों को अन्य लिंक रास्तों से डायवर्ट कर निकाला गया।

ये रहे मौजूद

मांगों को लेकर किए गए चक्का जाम के दौरान किसान नेता भागीरथ नेतड़, भागीरथ यादव, एसएफआई के जिलाध्यक्ष जगदीश गोदारा, किसान सभा के अध्यक्ष देवाराम मांडिया, तहसील सचिव रामकरण जाखड़, रामचन्द्र बरड़वा, गोपीराम गोदारा, बरड़वा सरपंच बाबूलाल अग्रवाल, पूर्व सरपंच रामेश्वर भाकर, रामचन्द्र कुंट, गजानन्द स्वामी, फूले खां, महेन्द्र नेतड़ सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।

वीडियो : आनंदपाल के फार्म हाउस को देखकर हैरान रह गए पुलिस अधिकारी

गुस्सा फूट पड़ा

 जिलिया के ग्राम राजपुरा में किसानों के अन्दर कर्ज माफी को लेकर गुस्सा फूट पड़ा। किसानों ने हाईवे व अन्य मुख्य सडक़ पर चक्का जाम कर दिया। ऐसे में मार्गों पर ही वाहनों की कतारें लग गई। 

लाडनूं. लाडनूं तहसील कमेटी की ओर से विभिन्न मांगों को लेकर उपखण्ड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में किसानों के कर्ज माफ करने, किसानों को उसकी उपज का उचित मूल्य देने, स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने, बछड़ों की बिक्री पर लगी रोक को हटाने, आवारा पशुओं का प्रबंध कर किसानों की फसल को बचाने की मांग की गई। ज्ञापन देने वालों में लाडनूं ब्लॉक अध्यक्ष दुर्गाराम खींचड़, सचिव श्रवण दास, मदन लाल बेरा, पन्नाराम प्रजापत, रूपाराम गोरा, अर्जुन सिंह शेखावत, जगदीश बेरा, हरिराम खींचड़, सतपाल सिंह, जगदीश पोटलिया आदि शामिल थे।

बागोट.  किसानों केे साथ हाईवे पर थोड़े समय के लिए जाम लगाया और फिर अपरान्ह साढ़़े बारह बजे मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन परबतसर तहसीलदार गुरुप्रसाद तंवर को सौंपा। इससे  पहले किसान सभा के परबतसर तहसील अध्यक्ष गणपत मुण्डेल नेे कहा कि सरकार ने कभी किसानों का ध्यान नहीं रखा। राजस्थान के किसान अन्न दाता है, लेकिन हर बार सरकार ने किसान का तिरस्कार किया है।  इस अवसर पर किसान  नेता देवाराम मिर्धा सहित कई लोगों ने सम्बोधित किया।

चितावा. अखिल भारतीय किसान सभा के तत्वावधान में सोमवार सुबह कस्बे सहित आस-पास के ग्राम घाटवा, लालास, हुडील व राजपुरा हाईवे पर बड़ी संख्या में किसानों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन करते हुए धरना दिया। ग्राम सुजानपुरा प्याऊ पर कॉमरेड मूला राम कड़वा के नेतृत्व में विरोध करते हुए कुचामन सीकर मुख्य सडक़ मार्ग पर चक्का जाम किया। इस दौरान वाहनों की लम्बी कतारें लग गई। धरनें पर मौजूद किसान नेताओं ने किसानों की मांगे नहीं मानने पर आन्दोलन तेज करने की

चेतावनी दी।

बूड़सू. कस्बे मे सोमवार को अखिल भरतीय किसान सभा कि किसान कफ्र्यू रैली का आयोजन किया गया। इस दौरान राज्य उपाध्यक्ष नारायणराम डूडी ने कहा कि सरकार किसानो के साथ खिलवाड़ कर रही है। किसानों को फसलो का उचित मुल्य नही मिलने किसान वर्ग कर्ज में ड़बा जा रहा है।  किसान सभा के नेताओ ने 12 बजे जाम खोला। जाम के दौरान रामसिंह जूसरीया,राजेन्द्र शर्मा,हेमाराम रूलाणिया सहित कई किसान नेता और किसान वर्ग के लोग मौजूद रहे।


rajasthanpatrika.com

Bollywood