कौन करे संचालन, अफसर नहीं हैं राजी

Patrika news network Posted: 2017-04-20 12:30:27 IST Updated: 2017-04-20 12:31:47 IST
कौन करे संचालन, अफसर नहीं हैं राजी
  • चार साल पहले एक करोड़ की लागत से बना यूथ हॉस्टल फुटबॉल बन गया है। इसके संचालन व रख-रखाव को लेकर नेहरू युवा बोर्ड व खेल अधिकारी आमने-सामने हो गए। दोनों विभागों के अधिकारियों ने हाथ खड़े कर दिए हैं।

कोटा.

चार साल पहले एक करोड़ की लागत से बना यूथ हॉस्टल फुटबॉल बन गया है। इसके संचालन व रख-रखाव को लेकर नेहरू युवा बोर्ड व खेल अधिकारी आमने-सामने हो गए। दोनों विभागों के अधिकारियों ने हाथ खड़े कर दिए हैं।

बाद में नेहरू युवा बोर्ड के सचिव ने मामला खेल एवं युवा मामलात के सचिव जेसी मोहंती के पाले में डाल दिया। अब अंतिम निर्णय मोहंती करेंगे। 

दरअसल, राजस्थान नेहरू युवा बोर्ड के सचिव कैलाश पहाडि़या बुधवार को कोटा आए। सर्किट हाउस में जिला खेल अधिकारी अजीज पठान ने पहाडि़या से यूथ हॉस्टल संचालन के लिए कहा। इस पर पहाडि़या ने  कहा कि यह खेल मंत्रालय के अधीन है। जमीन राज्य सरकार की है, लेकिन भवन व अन्य निर्माण कार्य केन्द्रीय खेल मंत्रालय ने करवाया। इसलिए संचालन खेल विभाग करेगा। 

उधर, पठान ने तर्क दिया कि प्रदेश के अन्य जिलों में नेहरू युवा बोर्ड ही यूथ हॉस्टल का संचालन कर रहा है, लेकिन   पहाडि़या ने मामला युवा मामले व खेल मंत्रालय राजस्थान के पाले में डाल दिया।

यह था उद्देश्य 

राष्ट्रीय-अन्तरराष्ट्रीय, संभाग व जिला स्तरीय खिलाड़ी व युवाओं को रियायती दर पर रहने का स्थान उपलब्ध हो सके, इसलिए केन्द्रीय खेल मंत्रालय ने 2009 में   90 लाख का बजट स्वीकृत किया था।  बाद में तत्कालीन सांसद इज्यराज सिंह ने भी भवन व चारदीवारी निर्माण के लिए 10 लाख रुपए जारी किए। चार साल से यह बनकर तैयार है, लेकिन उपयोग नहीं होने से  बदहाल  हो रहा।


यहां नौकायन एकेडमी की घोषणा की थी, लेकिन उसका भी संचालन नहीं हुआ। करीब छह माह पूर्व ही जिला प्रशासन ने एक भवन में नेहरू युवा केन्द्र संचालन की अनुमति दी, जब से ही यहां केन्द्र संचालित हो रहा है। 


यूथ हॉस्टल का संचालन नेहरू युवा बोर्ड के हाथ में नहीं है। यह खेल मंत्रालय के अधीन आता है।  इसके संचालन के लिए खेल मंत्रालय के सचिव जेसी मोहंती को पत्र लिखकर अवगत कराएंगे। 

कैलाश पहाडि़या, सचिव, राजस्थान नेहरू युवा बोर्ड


प्रदेश में अन्य जिलों में नेहरू युवा बोर्ड ही यूथ हॉस्टल का संचालन कर रहा, लेकिन कोटा में बने यूथ हॉस्टल को हाथ में नहीं ले रहा। चार साल से इसका उपयोग नहीं होने से यह खण्डर में तब्दील हो रहा है। 

अजीज पठान, जिला खेल अधिकारी

rajasthanpatrika.com

Bollywood