Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

लापरवाही: Video: मंत्रीजी की जी-हुजूरी में इतने व्यस्त हुए अधिकारी की जनता के लिए मंगवाए लड्डू बांटना भूल गए

Patrika news network Posted: 2017-04-13 09:59:58 IST Updated: 2017-04-13 09:59:58 IST
  • शहरी विकास के लिए बने नगर विकास न्यास के अधिकारी किस तरह काम करते हैं, इसकी बानगी हैं ये लड्डू। जी हां। चौंकने की जरूरत नहीं है। ये लड्डू हैं तो आम जनता के लिए ही, लेकिन उन्हें मिलते नहीं हैं।

कोटा.

5 दिन तक कमरे में सड़ते रहे 300 किलो लड्डू, बस्ती में बांटे तो बच्चों ने फेंके


शहरी विकास के लिए बने नगर विकास न्यास के अधिकारी किस तरह काम करते हैं, इसकी बानगी हैं ये लड्डू। जी हां। चौंकने की जरूरत नहीं है। ये लड्डू हैं तो आम जनता के लिए ही, लेकिन उन्हें मिलते नहीं हैं। बिल्कुल सरकारी विकास योजनाओं के लाभ की तरह। उन्हें तब तक छिपाकर रखा जाता है, जब तक वे जनता के लिए फिजूल न हो जाएं। 



Read more:  खुलासा: जेल प्रशासन ने ही गायब किए थे बंदियों के मोबाइल


इसकी ताजा मिसाल हैं ये लड्डू। गत 9 अप्रेल को नगर विकास न्यास कार्यालय के विस्तार के शिलान्यास  समारोह में नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी ने शिरकत की थी। आयोजन को भव्य बनाने में न्यास अधिकारियों ने कोई कसर नहीं छोड़ी।

 


Read more: कोटा: जेलर और कुख्यात अपराधी का थाने में ऐसे हुआ आमना-सामना

जनता को विकास की भेंट देने के साथ मुंह मीठा करने का भी तय हुआ। इसके लिए करीब 80 किलो लड्डू मंगवाए गए। ये लड्डू समारोह में आए लोगों को बांटे जाने थे, लेकिन मंत्रीजी को चेहरा दिखाने के चक्कर में अधिकारी-कर्मचारी इन लड्डूओं का चेहरा देखना ही भूल गए। लड्डू वहीं कमरे में पड़े रह गए। बुधवार को कर्मचारी उस कमरे में गया तो लड्डू देखकर कर चौंक गया। 


बस्ती में बांटे, बच्चों ने फेंके

शायद कर्मचारी अफसरों को शर्मिंदा नहीं करना चाहता होगा, इसलिए करीब 50 किलो लड्डू लेकर पास की कच्ची बस्ती में बांटने चला गया। बच्चों को बुलाकर लड्डू दिए, लेकिन चार दिन पुराने लड्डू 'पेपरवेट' को मात कर रहे थे। लिहाजा बच्चों ने फेंक दिए। यह खुशी के लड्डू अब एेसे हो गए हैं कि फूट भी नहीं रहे। बाकी लड्डू न्यास कार्यालय के पुल अनुभाग में हिफाजत से रखे हैं। 

300 किलो लड्डू तैयार कराए थे

लड्डू बनाने वाले दुकानदार कुलदीप जैन ने बताया कि उन्हें 300 किलो लड्डे बनाने ऑर्डर मिला था। इन्हें मंत्री के चार कार्यक्रमों में बांटा जाना था। सभी जगह लड्डू बांटे गए, लेकिन न्यास के कार्यक्रम में कुछ लड्डू बच गए होंगे।


Read more:  कोटा: जेलर बत्तीलाल जाएगा बीकानेर जेल और अनूप अजमेर

समारोह में लोग काफी कम आए थे। एेसे में जितने वहां बंट सके, बांट दिए। जो बचे थे, उन्हें अगले दिन बस्तियों में बंटवा दिया गया था। फिर भी यदि बचे हैं तो जानकारी लेंगे। 

आरके मेहता, अध्यक्ष यूआईटी

rajasthanpatrika.com

Bollywood