पट्टे नहीं बने तो लोगों ने कर दिया हंगामा

Patrika news network Posted: 2017-05-19 07:45:49 IST Updated: 2017-05-19 07:45:49 IST
पट्टे नहीं बने तो लोगों ने कर दिया हंगामा
  • लोगों की जमीन के पट्टे बनाने के लिए शहरी जन कल्याण योजना के तहत नगर विकास न्यास व नगर निगम में कार्यालय में शिविर लगाए जा रहे हैं, लेकिन यह महज खानापूर्ति बनकर रह गए हैं। कभी कर्मचारी जमीनों के दस्तावेज लाना भूल जाते हैं तो कभी जमीनों का विवाद बताकर लोगों को टरका दिया जाता है।

कोटा.

राज्य सरकार की ओर से शहरी जन कल्याण योजना के तहत नगर विकास न्यास व नगर निगम में कार्यालय में शिविर लगाए जा रहे हैं। न्यास कार्यालय में आयोजित शिविर में गुरुवार को घोड़ा और दुर्गा बस्ती के लोग पट्टों के लिए आवेदन करने पहुंच गए। वहां मौजूद अधिकाारियों ने लोगों से बस्ती की भूमि पर पट्टा नहीं मिलने की बात कही। इस पर लोग भड़क गए और हंगामा कर दिया। 



बस्ती के लोग सुबह करीब 11 बजे शिविर में पहुंचे। उस समय वहां पटवारी व उप सचिव आदि बैठे थे। लोगों ने अधिकारियों से जब बस्ती के पट्टे के लिए आवेदन की बात कही तो उन्होंने इनकार कर दिया। कहा कि बस्ती एरोड्राम की जमीन पर है, एेसे में पटे नहीं बन सकते। न्यास के उपसचिव अशोक त्यागी ने भी लोगों को समझाया, लेकिन कुछ लोग भड़क गए और हंगामा कर दिया।



Read More: जायका: 'कोटा कचौरी' की दीवानी है दुनिया


लोगों को शिविर से बाहर निकाला 

नारेबाजी कर रहे लोगों ने जब अफसरों की बात नहीं मानी तो उन्हें सुरक्षा कर्मियों ने शिविर से बाहर निकाल दिया। इसके बाद लोगों ने कुछ देर तक न्यास परिसर में नारेबाजी की और चले गए। नगर विकास न्यास उपसचिव अशोक त्यागी ने बताया कि  घोड़ा व दुर्गा बस्ती की जमीन नक्शे में एरोड्राम की है। इस कारण पट्टे नहीं बनाए जा सकते। लोगों को समझाया लेकिन नहीं माने। 

Read More: भाविश की दुल्हनियां कैसे जाए ससुराल


कांग्रेस ने लगाया खानापूर्ति का आरोप  

वहीं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री पंकज मेहता ने मुख्यमंत्री शहरी जनकल्याण शिविरों में खानापूर्ति का आरोप लगाया। मेहता ने बयान जारी कर कहा कि नगर निगम और नगर विकास न्यास के स्तर पर आम आदमी का कोई काम नहीं हो रहा। लोगों को भूखण्डों के पट्टे नहीं मिल रहें। भूखण्डों के क्रय-विक्रय व निर्माण की  स्वीकृति नहीं दी जा रही। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood