इमरजेंसी में गिड़गिड़ाते रहे परिजन, रोगी को नहीं किया भर्ती

Patrika news network Posted: 2016-11-30 23:36:01 IST Updated: 2016-11-30 23:36:01 IST
इमरजेंसी में गिड़गिड़ाते रहे परिजन, रोगी को नहीं किया भर्ती
  • एमबीएस अस्पताल, झालावाड़ से रैफर होकर आया रोगी, प्राचार्य को की शिकायत

कोटा. झालावाड़ से रैफर होकर आए एक मरीज को बुधवार को एमबीएस अस्पताल की इमरजेंसी में बेड नहीं होने की बात कहकर भर्ती से मना कर दिया गया। 


परिजनों के काफी गुहार करने के बावजूद मरीज को भर्ती नहीं किया। बाद में प्राचार्य तक बात पहुंची तब जाकर रोगी को भर्ती किया गया।

झालावाड़ के खेड़ा हरिगढ़ निवासी भैरूलाल नागर (65) को परिजन शाम पांच बजे अस्पताल की इमरजेंसी में लेकर आए थे। उन्होंने रैफर का कागज ड्यूटी पर उपस्थित रेजीडेंट डॉक्टरों को दिखाया। 


उसने परिजनों से कहा कि यह कोई टाइम नहीं है अस्पताल आने का। बेड भी नहीं है, मरीज को कहा रखेंगे। परिजन काफी देर गुहार करते रहे, लेकिन रेजीडेंट डॉक्टरों ने एक नहीं सुनी। 


इसके बाद शाम पौने छह बजे करीब परिजनों ने प्राचार्य डॉ. गिरीश वर्मा को शिकायत की। वर्मा ने इमरजेंसी में फोन किया, तब जाकर रेजीडेंट डॉक्टरों ने मरीज को देखा। 


यहीं नहीं, मरीज के परिजन को फटकारा और जांचें लिख दी। मरीज के बेटे हरिराम का कहना है कि डॉक्टरों ने डेढ़ घंटे बाद मरीज को भर्ती किया।

इधर कार्यवाहक अधीक्षक डॉ. पीके तिवारी ने बताया इस बारे में रेजीडेंट डॉक्टरों व स्टाफ बात की है। रेंजीडेंट ने सीटी स्कैन के लिए बोला था, लेकिन परिजन भर्ती करने की बात पर अड़ गए। फिर भी मामले की पूरी पड़ताल करेंगे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood