Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

video : 14 साल की उम्र में ही इतने मेडल जीते कि कमरा भर गया

Patrika news network Posted: 2017-04-16 08:06:36 IST Updated: 2017-04-16 19:38:32 IST
video : 14 साल की उम्र में ही इतने मेडल जीते कि कमरा भर गया
  • हुनर की धनी...संगीत की कद्रदान... और कोयल सी बोली...उम्र छोटी, लेकिन खिलाड़ी गजब की...। ये उपमाएं भी छोटी पड़ जाती हैं तलवंडी निवासी शृंगारिका शर्मा के लिए।

शैलेन्द्र तिवारी. कोटा.

कमाल की लाडो : नृत्य-संगीत, पढ़ाई और खेल में अव्वल है शृंगारिका, 200 से अधिक मेडल और प्रमाण-पत्र किए हासिल


हुनर की धनी...संगीत की कद्रदान... और कोयल सी बोली...उम्र छोटी, लेकिन खिलाड़ी गजब की...। ये उपमाएं भी छोटी पड़ जाती हैं तलवंडी निवासी शृंगारिका शर्मा के लिए। 18 साल की शृंगारिका नन्ही सी उम्र से ही भविष्य के सपने बुन रही है। उसकी प्रतिभा का लोहा राज्यपाल तक मान चुके हैं। वह अपने स्कूल से मोस्ट पॉपुलर स्टूडेंट के अवार्ड से लेकर प्रेसीडेंट ऑफ भूटान से भी सम्मान प्राप्त कर चुकी हैं।



Read More: #TotalNoToChildMarriage बच्चों की शादी रोकने के लिए प्रशासन लगा रहा फेरे

प्रशस्ति पत्र व शील्ड के ढेर लगे

पिता दीपक शर्मा बताते हैं कि शृंगारिका ने बचपन से ही गायन, संगीत, नृत्य में महारत हासिल की। उसका कमरा प्रशस्ति पत्र व शील्डों से भरा है। उसने गायन, नृत्य व खेलों में करीब 200 से अधिक प्रमाण पत्र हासिल कर लिए। डीएवी स्कूल ने दसवीं कक्षा में शृंगारिका को मोस्ट पॉपुलर स्टूडेंट 2016 के अवार्ड नवाजा था।


Read More:  #प्यासा_अस्पताल: तड़पते मरीज, भटकते तीमारदार

यह अवार्ड झोली में

1. नेशनल यूथ प्रोजेक्ट लक्ष्यदीप में प्रदेश टीम में भागीदारी।

2. राष्ट्रीय मेला दशहरा में बाल प्रतिभा कार्यक्रम में पांच बार प्रथम स्थान।

3. कोटा टैलेंट शो की विजेता।

4. इंटर स्टेट खोखो में सिल्वर मेडल।

5 साइंस ओलम्पियाड 2010 में प्रथम रैंक।

6 जिला स्तर पर दो बार सम्मानित।

7. इंटर स्कूल लेखन प्रतियोगिता में ऑल इंडिया रैंक। इस पर प्रेसीडेंट ऑफ भूटान से हस्ताक्षर किया हुआ प्रशस्ति पत्र मिला।


Read More: Video: सरसों व धनिए के वेयर हाउस में आग

बाल प्रतिभा में रही अव्वल

वर्तमान में नीट की तैयारी कर रही शृंगारिका ने पढ़ाई के साथ गायन में भी अपनी आवाज का लोहा मनवाया। वह राष्ट्रीय मेला दशहरा के बाल प्रतिभा कार्यक्रम में पांच बार अपने वर्ग में प्रथम विजेता रही। साथ ही, नेशनल यूथ प्रोजेक्ट के तहत लक्ष्यदीप में 21 राज्यों के प्रतिभागियों के बीच राजस्थान की संस्कृति का परचम लहराया।

rajasthanpatrika.com

Bollywood