Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

साइकिल से 9 दिन में नापा कोटा से काठमांडू

Patrika news network Posted: 2017-04-12 21:13:07 IST Updated: 2017-04-12 21:13:50 IST
साइकिल से 9 दिन में नापा कोटा से काठमांडू
  • प्रमोद ने 1307 किलोमीटर का यह सफर 9 दिन में पूरा किया। इसके पीछे उनका उद्देश्य है कि युवा साइकिलिंग के लिए प्रेरित हों ताकि वे स्वस्थ रह सकें।

कोटा.

जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का, फिर देखना फिजूल है कद आसमान का....बस यही सोचकर कुछ लोग इरादा कर लेते हैं और निकल पड़ते हैं अपनी मंजिल के लिए। रास्ते में बाधाएं आती हैं लेकिन ये सफर की सजा नहीं बल्कि मजा बन जाती हैं। कुछ ऐसा ही काम कोटा के युवा व्यवसायी प्रमोद यादव ने कोटा से काठमांडू की दूरी साइकिल से तय कर किया है। प्रमोद ने 1307 किलोमीटर का यह सफर 9 दिन में पूरा किया। इसके पीछे उनका उदेश्य है कि युवा साइकिलिंग के लिए प्रेरित हों ताकि वे स्वस्थ रह सकें।


कोटा से काठमांडू तक अकेले की गई इस यात्रा के दौरान प्रमोद को रास्ते के थाने और टोल नाकों तक पर रात काटनी पड़ी। उन्होंने 28 मार्च को कोटा से यात्रा की शुरुआत की और 5 अप्रेल को काठमांडू पहुंचे। प्रमोद इससे पूर्व मनाली से लेह- खारढूंदला तक की 602 किलोमीटर, कोटा से उदयपुर तक की दूरी साइकिल से नाप चुके हैं।

Read More: फेसबुक-वाट्सअप के नहीं, असल जिंदगी के योद्धा बनो



रास्ते में आए यह शहर

कोटा से शिवपुरी, झांसी, कानपुर, लखनऊ, अयोध्या, बस्ती, केप्रियागंज, सनोली बॉर्डर, वरधाघाट, नारायणगढ़, मुगलिन होते हुए काठमांडू पहुंचे। वहां पशुपतिनाथ मंदिर में दर्शन के बाद वे फ्लाइट से प्रमोद दिल्ली आए और फिर कोटा पहुंचे। प्रमोद ने बताया कि साथ में सिर्फ सेल्फ सपोर्टेड सिस्टम था, जिसमें ट्यूब, टायर, कपड़े और कुछ टूल्स थे। उन्होंने इसके लिए साइकिल ठीक करना भी सीखा, यात्रा के कुछ दिन पहले साइकिल के स्टोर पर जाकर पंचर बनाने से लेकर टायर लगाने तक का काम सीखा।


Read More: हताशा का नहीं खुशियों का ब्रांड है कोटा

रोज 144 किमी चलाई साइकिल

प्रमोद ने पहले दिन सबसे ज्यादा 197 किलोमीटर तो अंतिम दिन सबसे कम 110 किलोमीटर साइकिल चलाई। औसतन एक दिन में 144 किमी साइकिल चलाई। वे रोजाना सुबह 5 से 11 बजे तक तथा दोपहर 3.30 बजे से 7.30 बजे तक साइकिल चलाते थे। इस दौरान 40 डिग्री सेल्सियस का तापमान रहा। दो रातें टोल नाके पर तथा एक रात रास्ते में आए मेंहदावल थाने में गुजारी। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood