बारिश ने मचाई तबाही, फसलें हो गई बर्बाद

Patrika news network Posted: 2017-03-20 00:38:12 IST Updated: 2017-03-20 00:38:12 IST
बारिश ने मचाई तबाही, फसलें हो गई बर्बाद
  • मौसम ने किसानों के अरमानों पर फेर दिया पानी

चेचट. चेचट क्षेत्र में बारिश ये अफीम की फसलब को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।  तेज हवा के साथ आई बरसात अफीम की डोडियां टूटकर खराब हो गई है। चीरे लगाने से डोडो पर उभरी अफीम को वर्षा ने धो डाला। जिससे किसानों को पूरा रकबा खराब होने की चिंता सता रही है। फसल को देखकर किसान खून के आंसू पीने को विवश है। 


इसके अलावा धनिये और चने की फसलें में काफी नुकसान हुआ है। किसानों ने बताया कि पहले जहां एक किलो अफ ीम निकलनी थी अब सौ दो ग्राम भी अफीम हाथ लगना मुश्किल हो गई है। तबाह हो गए हैं। 


पट्टों का डर सता रहा

किसानों को अब डर सता रहा है कि आगामी वर्ष में अफीम की खेती के पट्टे मिलेंगे या नहीं। क्योंकि पहले ही तीन साल बाद अफीम की खेती के पट्टे मिले है। क्षेत्र में बड़ोदिया कला, भोलू एकंवरपुरा, गुडाला, गुमानपुरा, खेडली, सांडियाखेड़ी, सालेड़ा कला आदि गावों में दो सौ ज्यादा अफीम के पट्टों से बुवाई की गई थी। किसान अब अफ ीम में नुकसान को लेकर नारकोटिक्स विभाग का दरवाजा खटखटाएंगे।


प्रकृति ने मार डाला

केबलनगर. मौसम के कहर ने किसानों को मार डाला है। किसानों की चौखट पर आने से पहले ही फसलें बर्बाद हो गई है। पंचायत डोल्या क्षेत्र के किशनपुरा ,चांदबावडी ,गिरधरपुरा केे खेतों में तैयार खडी फ सलें आडी पड गई । 


डोल्या के किसान रमेश सुथार ,चांदबावडी के नंदसिंह ,लक्ष्मीपुरा के हुकमा,किशोर भील, छोटू सिंह ,भवानीशंकर, नाथू सिंह , रामू बारवाल का कहना था कि बडी मुश्किलों से फ सल तैयार हुई थी, लेकिन बर्बाद हो गई है। सरपंच सीताराम चावडा ने खराबे का सर्वे करवाने की मांग की।


तबाही देखकर आ गए आंसू

अरण्डखेड़ा. बरसात से खेतों में कटी धनिये व लहसुन की फसल को व्यापक नुकसान हुआ है। भीगने के कारण धनिये की गुणवत्ता खराब हो गई है। काला पड़ जाएगा, इससे किसानों को उचित दाम नहीं मिलेंगे। लहसुन भी खरबा होने की आश्ंाक हे। दिनभर किसान फसलों को सूखाने में जुटे रहे।


लहसुन में भी नुकसान

पीपल्दाकलां. बारिश व तेज हवा से फ सलों को काफ ी नुकसान पहुंचा। किसान कटी फ सल में नुकसान से बचाने के लिए तिरपाल लेकर भागते नजर आए। तेज हवा के कारण कटी धनिये की फ सल मे काफी नुकसान हो गया। तेज हवाओं से खेतों में खड़ी धनिये व गैहूं की फ सल आड़ी हो गई। पीपल्दा, करवाड़, शहनावदा , डूंगरली, खेड़ली किशनपुरा, मरझाना आदि गांवों में किसानों की सरसों, गेहुं ,धनिये, चना, मेथी की फ सलों में नुकसान हुआ।


मोड़क स्टेशन. क्षेत्र में शनिवार रात हुई बरसात व तेज हवा से खेतों में खड़ी फसलें आड़ी पड़ गई। वहीं, धनियां का रंग बदल गया। जिससे ग्रामीणों को नुकसान की चिंता सताने लगी है। किसानों ने बताया कि 8 हजार के भाव से बिकने वाला घनिया अब 4 हजार का भी नहीं रहा। भीगने से धनिया का रंग बदल गया। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood