बजरंग दल नेता की हत्या में शामिल 13 लोगों को उम्रकैद

Patrika news network Posted: 2017-04-19 19:40:36 IST Updated: 2017-04-19 20:28:09 IST
बजरंग दल नेता की हत्या में शामिल 13 लोगों को उम्रकैद
  • कोटा की एससी एसटी कोर्ट ने बजरंगदल नेता की हत्या के मामले में 13 आरोपितों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। नगपुरा निवासी सुनील गुर्जर की पांच साल पहले हत्या कर दी गई थी। कोर्ट ने हत्या के आरोपियों पर 55 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

कोटा.

कोटा की एससी एसटी कोर्ट ने बजरंगदल नेता की हत्या के मामले में 13 आरोपितों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। नगपुरा निवासी धनपाल गुर्जर की पांच साल पहले हत्या कर दी गई थी। कोर्ट ने हत्या के आरोपियों पर 55 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। 



विशिष्ट लोक अभियोजक कमलकांत शर्मा ने बताया कि अभियोजन की ओर से इस मामले में 40 गवाहों के बयान करवाए गए। साथ ही 70 दस्तावेज पेश किए गए थे। एससी एसटी अदालत के न्यायाधीश गिरीश अग्रवाल ने सभी 13 आरोपितों को हत्या का दोषी मानते हुए 106 पेज का फैसला दिया। जिसमें सभी को उम्र कैद की सजा और 55-55 हजार रुपए जुर्माने से दंडित किया गया है।




अवैध धंधे पर रोक लगाने को दी कड़ी सजा 

न्यायाधीश ने फैसले में टिप्पणी करते हुए कहा कि आरोपितों ने खनन के अवैध धंधे को लेकर रंजिशवश यह घटना कारित की है। इस तरह के अपराधों में यदि नरमी का रूख अपनाया गया तो अवैध रूप से किए जा रहे व्यवसाय पर अंकुश नहीं लगेगा। इस तरह के अपराधों में नरमी का रूख अपनाने पर जन सामान्य की न्याय पर विश्वास व निष्ठा प्रभावित होती। इसलिए सख्त सजा सुनाई है। 


Read More: अलविदा आईएलः साइरन की सलामी देकर बंद की फैक्ट्री



यह था मामला 

नगपुरा निवासी सुनील गुर्जर ने 8 मार्च 2012 को कैथून थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि उसका भाई धनपाल, मदनपाल, नारायण, तुलसी व कालू समेत अन्य लोग होली का त्यौहार होने के कारण घर पर बैठे बाते कर रहे थे। उसी समय गणेशपुरा व प्रहलादपुरा निवासी राजेन्द्र, जनक,रामसिंह व विजेन्द्र समेत करीब एक दर्जन लोग हथियारों से लैस होकर उनके घर पर आए। आते ही उन्होंने घर में घुसकर धनपाल के सिर पर तलवार व गंडासे से वार किए। इसके बाद उसे घसीटते हुए गुरुद्वारे के पास ले गए। बीच बचाव करने की कोशिश की तो  हमलावरों ने उन पर भी हथियारों से वार किए। जैसे-तैसे मौके पर मौजूद लोग दोनों घायलों को लेकर अस्पताल पहुंचे जहां  उपचार के दौरान धनपाल की मौत हो गई। 



Read More: अलविदा आईएलः तुम कोटा की यादों में जिंदा रहोगे


पुलिस ने सभी लोगों को दोषी माना 

पुलिस ने सुनील की रिपोर्ट पर 13 लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया था। जांच के बाद पुलिस ने गणेशपुरा निवासी राधेश्याम उर्फ गोलू गुर्जर, राजेद्र उर्फ टंटी गुर्जर, जनक सिंह गुर्जर, रामसिंह गुर्जर, ओम प्रकाश गुर्जर, जीतमल, घनश्याम, राजेन्द्र, राम गोपाल सत्य नारायण, कप्तान व धारा सिंह और प्रहलादपुरा निवासी रणजीत गुर्जर, राजेन्द्र उर्फ टंटी, जनक व राजेन्द्र उर्फ धर्मसिंह को दोषी माना था। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood