Breaking News
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में मंत्री अब्दुल रहमान वीरी की कार पर पत्‍थर फेंके गए
  • सेंसेक्स 172.37 अंकों की बढ़त के साथ 29,409.52 पर बंद, निफ्टी में 55.60 अंकों का उछाल
  • नागौर: अज्ञात वाहन की टक्कर से बाइक पर जा रहे भाई-बहिन घायल, इंदास की सरहद की घटना
  • करौली: करंट लगने से एक की मौत
  • टोंक: टोडारायसिंह में विवाहिता ने फंदा लगा की आत्महत्या
  • कोटा: बोरखेड़ा इलाके में महिला ने फंदा लगा की आत्महत्या
  • चूरू: पिकअप पलटने से एक की मौत, पांच घायल, राजपुरा गांव की घटना
  • जयपुर: कुएं में गिरने से वृद्धा की मौत, गजाधरपुरा गांव की घटना
  • झुंझुनूं: सूरजगढ़ में कुए में गिरने से युवक की मौत, भूडनपुरा गांव की घटना
  • जोधपुर: गगाड़ी गांव की नहर में कूदकर महिला ने की आत्महत्या
  • कोटा: देईखेड़ा गांव में महिला ने विषाक्त खाया, अस्पताल में भर्ती
  • पाली: कार लूट के आरोपी को भेजा जेल,निम्बली में लूटी थी कार
  • टोंक: पिल्लर गिरने से एक जने की मौत, उनियारा की घटना
  • झुंझुनू: दहेज प्रताडना के मामले में आरोपी पति को किया गिरफ्तार, छापौली का मामला
  • झुंझुनू: लोहार्गल में व्यक्ति की जेब से एक लाख रुपए पार
  • ब्रह्माकुमारी संस्थान संयुक्त मुख्य प्रशासिका दादी हृदयमोहिनी को डॉक्टरेट की उपा​धि से नवाजा जाएगा
  • जयपुरः अशोक मार्ग आैर हवा सड़क को १०० फुट किया जाएगा
  • टोंक: ट्रैक्टर-ट्रॉली से कुचलकर बालक की मौत, हिंगोनिया गांव की घटना
  • कोटपूतली के स्टेट बैंक आॅफ पटियाला में लगी आग,पुलिस व दमकल मौके पर पहुंची
  • जयपुरः 22 गोदाम से महेश नगर फाटक तक ४० फुट होगी सड़क
  • जयपुर: महेश नगर फाटक से गोपालपुरा बायपास तक होगी 60 फुट सड़क
  • जयपुर: महेन्द्र सिंह शेखावत बने भाजयुमो के राष्ट्रीय सचिव
  • जयपुर:दौलतपुरा टोल प्लाजा पर एक लाख के सिक्के पकड़े,एक कार जब्त,एक गिरफ्तार
  • बडगाम एनकाउंटर: पत्थरबाजी के दौरान CRPF के 43 और स्थानीय पुलिस के 20 जवान जख्मी
  • चांद नहीं दिखा,अब बुधवार रात को होगी उर्स की पहली महफ़िल
  • आज से शुरू हुआ नव संवत्सर, नवऱात्र पर घर-घर हुई घट स्थापना
  • 4 को रामनवमी का अवकाश होने के कारण हो सकता है उर्स की छुट्टी में परिवर्तन
  • अलवर :खेरली में ट्रेन की चपेट में आने से अध्यापक की मौत
  • सरकार ने गेहूं, तुअर दाल पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया
  • भीलवाड़ा : पाटन पंचायत क्षेत्र के लाम्बा गांव में बाड़े से 150 पेटी देशी शराब जब्त
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कोटा थर्मल प्लांट पर छाए तालाबंदी के बादल, छह इकाइयों में बंद हुआ काम

Patrika news network Posted: 2017-03-20 21:02:08 IST Updated: 2017-03-20 21:27:06 IST
कोटा थर्मल प्लांट पर छाए तालाबंदी के बादल, छह इकाइयों में बंद हुआ काम
  • राज्य सरकार ने कोटा थर्मल की हालत खस्ता कर दी है। प्लांट को बिजली की मांग कम होने का हवाला देकर लगभग पूरा तरह ठप कर दिया है। 1240 मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता और सात इकाइयों वाले कोटा थर्मल में वर्तमान में मात्र एक इकाई से महज 195 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है।

कोटा.

सूरज की तपन बढ़ रही है। घरों में कूलर-पंखे चल पड़े हैं, लेकिन बिजली की मांग कम हो गई है। यह बात भले ही किसी के गले नहीं उतरे, लेकिन स्टेट लोड डिस्पेच सेंटर (एलडी) के आदेश यही कह रहे हैं। राज्य सरकार ने कोटा थर्मल की हालत खस्ता कर दी है। प्लांट को बिजली की मांग कम होने का हवाला देकर लगभग पूरा तरह ठप कर दिया है।

1240 मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता और सात इकाइयों वाले कोटा थर्मल में वर्तमान में मात्र एक इकाई से महज 195 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है। एक तरफ कोटा थर्मल के श्रमिकों से लेकर कर्मचारियों तक, अभियंताओं से लेकर अधिकारियों तक इस बिजलीघर को बचाने के लिए लम्बे समय से संघर्ष कर रहे हैं। धरने-प्रदर्शन कर रैलियां निकाल रहे हैं, लेकिन इसके बाद भी कोटा थर्मल उपेक्षा का शिकार हो रहा है। थर्मल की 5 इकाइयां करीब 10 मार्च से बंद हैं। अब गर्मी बढऩे से उम्मीद थी कि इकाइयों को चालू करवा दिया जाएगा, लेकिन बंद इकाइयों को चालू करवाने की जगह उत्पादन कर रही 195-195 मेगावाट की छठी व सातवीं इकाई में से छठी इकाई को भी बंद करवा दिया गया।

बिजलीघर के ठप होने का दिखने लगा असर

प्लांट में लम्बे समय से पूरी क्षमता से बिजली उत्पादन नहीं होने तथा अब प्लांट लगभग ठप पड़ा होने का असर भी दिखाई देने लगा है। कर्मचारी, अधिकारी व श्रमिक ठाले बैठे हैं। ठेकेदार फर्मों ने श्रमिकों को रेस्ट दे दिया है, कोयला नहीं जलने से फ्लाईएेश भी नहीं बन रही। सीमेंट कंपनियों के टेंकर खाली खड़े हैं, ब्रिक्स व टाइल्स उद्योगों तक में फ्लाईएेश की कमी पैदा हो गई है।

इस समय रखरखाव की भी नहीं मिलती थी अनुमति

एक दौर था जब कोटा थर्मल की इकाइयों को जरूरत होने के बावजूद मार्च से जून तक की अवधि में रखरखाव की भी अनुमति नहीं मिलती थी। एलडी की ओर से निरंतर बिजली उत्पादन चालू रखने के निर्देश दिए जाते थे। अभियंताओं को इकाई में गड़बड़ी होने के बावजूद उसमें निरंतर बिजली उत्पादन बनाए रखने की चुनौती मिलती थी और यहां के अधिकारी व कर्मचारी इस चुनौती को स्वीकार करते हुए सरकार की उम्मीदों पर खरा उतरते थे। आज हालत यह है कि मार्च के अंत में प्लांट की सात में से छह इकाइयां बंद करवाई हुई है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood