Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

OMG! इनके खौफ से किसान नहीं करते चना, मक्का, मूंगफली और गेहूं की खेती...जानिए कौन हैं वो...

Patrika news network Posted: 2017-06-11 12:19:44 IST Updated: 2017-06-11 12:19:44 IST
OMG! इनके खौफ से किसान नहीं करते चना, मक्का, मूंगफली और गेहूं की खेती...जानिए कौन हैं वो...
  • लोग भले ही यह मानते हो कि लहसुन नकदी फसल है। मुनाफा अच्छा मिलने की आस में किसानों का रुझान लहसुन की खेती की ओर बढ़ रहा है। लेकिन हाड़ौती के कई किसान एेसे हैं, जिनके खेत जंगल, खाळ-नाळ, नदियों की कराइयों से सटे हैं।

कोटा .

लोग भले ही यह मानते हो कि लहसुन नकदी फसल है। मुनाफा अच्छा मिलने की आस में किसानों का रुझान  लहसुन की खेती की ओर बढ़ रहा है। लेकिन हाड़ौती के कई किसान एेसे हैं, जिनके खेत जंगल, खाळ-नाळ, नदियों की कराइयों से सटे हैं। 


Read More: गारंटी! 10 फीट लंबे सांपों की ऐसी प्रणयलीला जिसे देख आप भी हो जाएंगे रोमांचित...देखिए तस्‍वीरें 

इन क्षेत्रों के खेतों में नील गाय, जंगली सुअर, सियार, हरिण  आदि जंगली जानवरों का आतंक रहता है। यह पूरी फसल चौपट कर देते हैं। एेसे क्षेत्रों के किसानों के पास लहसुन की खेती ही एक मात्र अंतिम उपाय रहता है। 


Slides: बच्चों के भविष्य के लिए देश के कोने-कोने से कोटा पहुंचे हजारों अभिभावक 

सांगोद क्षेत्र के बाछीहेड़ा निवासी किसान चौथमल नागर ने बताया कि उनके खेतों के पास ही जंगल है। जमीन तो उपजाऊ है, लेकिन जंगली जानवरों को इतना आतंक है कि चाह कर भी चना, मक्का, मूंगफली, गेहूं, धनिया आदि की खेती नहीं कर सकते। 


चूल्हे में बैठा तीन फीट लंबा मगरमच्छ, चाय बनाने आई महिला पर मारा झपट्टा, गांव में मचा हड़कंप

सुल्तानपुर क्षेत्र के ख्यावदा निवासी किशन गोपाल ने बताया कि क्षेत्र का कोई भी किसान भूल कर भी कंद, मूल, सब्जियों की खेती नहीं करता। और तो और खाद्यान, दलहन भी नहीं करता। अगर किसी ने खाद्यान्न कर दिया तो खेत से एक दाना भी घर नहीं आता। एेसे में लहसुन की खेती करना ही इसका एक मात्र तोड़ है। क्योंकि लहसुन का पौधा, तना तीखा व दुर्र्गंध युक्त होने से जानवर इस पौधे को मुंह भी नहीं लगाते।

rajasthanpatrika.com

Bollywood