Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इन शस्त्रों से सरहद की निगेहबान हैं आंखें...

Patrika news network Posted: 2017-07-13 20:53:11 IST Updated: 2017-07-13 20:53:11 IST
इन शस्त्रों से सरहद की निगेहबान हैं आंखें...
  • कोटा में डीआरडीओ ने पहली बार प्रदर्शनी लगाई जिसे पचास स्कूलों के पांच हजार विद्यार्थियों ने देखा।

कोटा.

'उस देश की सरहद को कोई छू नहीं सकता..., जिस देश की सरहद पर निगेहबान हैं आंखें...।' देश की रक्षा के लिए सीमा पर तैनात हमारे जवान दुश्मन की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए मुस्तैद हैं, क्यों कि उनके साथ हैं शक्तिशाली आधुनिक सैन्य उपकरण।

आखिर कैसे मिसाइलों को छोड़ दुश्मन के ठिकानों को नेस्तनाबूद किया जाता है। किस तरह से रासायनिक व जैविक हथियारों से सुरक्षा कवच एनबीएस सूट काम आता है आदि जानकारियों से स्कूली विद्यार्थियों को अवगत कराने के लिए भारतीय रक्षा अनुसंधान संगठन (डीआरडीओ) की प्रदर्शनी लगाई गई। 


जहां देश के विभिन्न हिस्सों से आए 30 रक्षा वैज्ञानिकों ने बच्चों की जिज्ञासाओं को शांत किया। प्रदेश में पहली बार कोटा में रानपुर स्थित निजी कॉलेज में तीन दिवसीय प्रदर्शनी लगी है। दो दिन में यहां करीब 50 स्कूल के पांच हजार से अधिक विद्यार्थी आ चुके हैं। यहां 11 स्टॉलें लगी हैं।


Read More: पुलिस के हत्थे चढ़े शातिर अपराधी, नहीं तो मचा देते कोटा में तबाही

नाइट विजन डिवाइस, एनबीएस सूट

एलआरडीई देहरादून के टेक्निकल ऑफिसर पवन कुमार ने बताया कि नाइट विजन डिवाइस में पांच सेंसर लगे हैं। इसमें आठ किमी तक कोहरे में भी देख सकते हैं। खास बात यह है कि जीपीएस लगा है, जो एंगल दिखाता है। थर्मामीटर लगा है। लेजर एण्ड माइंडर दूरी दर्शाता है।


Read More: अब नहीं होगी बिजली की आंख मिचौली, कोटा में इसी साल स्थापित होंगे 69 नए 33 केवी जीएसएस



वैज्ञानिक वीवी सुब्रम्णयम व अजयकुमार सिंह ने बताया कि मिसाइलें, कैमिक ल, बुलेटप्रूफ जैकेट, लैण्ड माइंस से बचाव के लिए विशेष जूते, एनबीसी सूट, डीटीजी आधारित आईएनएस, जीपीएस सिस्टम, माउन्टेन फुट ब्रिज मॉडल, अग्नि मॉडल, बैलास्टिक हेलमेट, अर्जुन टैंक, सोलर हट, सोरजा मॉडल आदि प्रदर्शित किए। कॉलेज के निदेशक डॉ. बी.एल. गोचर ने बताया कि प्रदर्शनी में वैज्ञानिक अपने साथ 11 लैब लेकर आए हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood