Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शहर चमकाने के लिए फिर से शुरू होगी डोर टू डोर कचरा संग्रहण

Patrika news network Posted: 2017-05-12 09:50:53 IST Updated: 2017-05-12 09:50:53 IST
शहर चमकाने के लिए फिर से शुरू होगी डोर टू डोर कचरा संग्रहण
  • स्वच्छ भारत मिशन के तहत सफाई व्यवस्था के मामले में जारी स्वच्छता सर्वेक्षण की रेटिंग में कोटा शहर के 341वें नम्बर पर खिसकने के बाद नगर निगम ने अब अपनी स्थिति में सुधार की कवायद तेज कर दी है।

कोटा.

स्वच्छ भारत मिशन के तहत सफाई व्यवस्था के मामले में जारी स्वच्छता सर्वेक्षण की रेटिंग में कोटा शहर के 341वें नम्बर पर खिसकने के बाद नगर निगम ने अब अपनी स्थिति में सुधार की कवायद तेज कर दी है। सर्वेक्षण में डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण मुख्य बिन्दू था, जिसमें निगम फेल रहा। इसे देखते हुए अब डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण की व्यवस्था शीघ्र लागू करने की तैयारी में है। 


Read More: सेहत से खिलवाड़ : सावधान! सेहत पर भारी जहरीली सब्जियां और फल

पहले दौर में यह व्यवस्था शहर के बाजारों में लागू की जाएगी। बाजारों में दुकानदार कचरा बाहर सड़क पर फेंक देते हैं और जब तक दुकानें खुलती हैं, उससे पहले ही उस बाजार की सफाई हो चुकी होती है। अधिकतर दुकानें सुबह 10 से 11 बजे के बीच खुलती हैं तथा इसी दौरान दुकानों का कचरा सड़क पर आता है। यह कचरा दिनभर यहीं पड़ा रहता है, इससे बाजारों में खरीदारी करने आने वाले लोगों को परेशानी होती है।

Read More:  ऐसा क्या हुआ कि आईजी ने सीसवाली थानाधिकारी व एएसआई को किया सस्पेंड

घंटी बजाकर मांगेंगे कचरा

निगम की ओर से बाजार खुलने के बाद दुकानों से कचरा इक्कट्टा किया जाएगा। हूपर, ई-रिक्शा या टेम्पो में सफाई कर्मचारी दुकानों के बाहर घंटी बजाएंगे। दुकानदार डस्टबिन में पहले से ही कचरा एकत्र कर रखेगा। जैसे ही निगम का वाहन दुकानों के बाहर आकर घंटी बजाएगा, दुकानदार डस्टबिन सफाई कर्मचारी को दिखाएगा। सफाई कर्मचारी ही डस्टबिन को उठाकर कचरा अपने वाहन में डालेगा और खाली डस्टबिन दुकान में रखेगा।

Read More: दुल्हन बालिग, दूल्हा नाबालिग, तोरण से पहले पुलिस ने पकड़ा

दुकानदारों को उपलब्ध कराएंगे डस्टबिन

नगर निगम की ओर से शहर के सभी बाजारों में दुकानदारों को डस्टबिन उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए निगम ने डस्टबिन खरीद लिए हैं। दुकानदारों को यह डस्टबिन उनकी वास्तविक दर से 50 फीसदी दर पर उपलब्ध कराए जाएंगे। डस्टबिन का 35 फीसदी खर्च केन्द्र सरकार की ओर से तथा 15 प्रतिशत खर्च निगम वहन करेगा। यह डस्टबिन दुकानदारों को अनिवार्य रूप से खरीदने होंगे।


Read More:  बिजली के झटके : कोटा पावर हब, 24 घंटे बिजली कब

डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण की व्यवस्था पहले बाजारों में लागू होगी, दुकानदारों को 50 फीसदी खर्च पर डस्टबिन उपलब्ध कराए जाएंगे। धीरे-धीरे इसे पूरे शहर में लागू किया जाएगा। निगम के पास डस्टबिन उपलब्ध है, इनका वितरण जल्दी शुरू करेंगे। 

महेश विजय, महापौर

rajasthanpatrika.com

Bollywood