खाटूश्याम, नाथद्वारा, गोविन्ददेव जैसे राज्य के प्रमुख मंदिरों को लेकर आई बड़ी खबर, पढ़ कर मिलेगी खुशी

Patrika news network Posted: 2017-05-20 17:07:19 IST Updated: 2017-05-20 17:07:19 IST
  • कृष्णा सर्किट के 8 मंदिरों की डीपीआर को मंजूरी मिल गई है। सर्किट के तहत तीर्थ यात्रियों की सुविधाओं को विकसित करने लिए 100 करोड़ का बजट मिल चुका है।

जोधपुर

देवस्थान विभाग प्रन्यास बोर्ड के चेयरमैन एसडी शर्मा ने कहा कि कृष्णा सर्किट के तहत गोविन्ददेव, मदनदेव, सांवरिया सेठ, खाटूश्याम, नाथद्वारा, चारभुजा, कैलादेवी सहित 12 मंदिरों की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में आठ को मंजूरी मिल चुकी है। शेष मंदिरों की डीपीआर प्रगति पर है। सर्किट के तहत तीर्थ यात्रियों की सुविधाओं को विकसित करने लिए 100 करोड़ का बजट मिल चुका है। तीर्थ स्थलों को ध्यान में रखते हुए वैष्णों देवी व तिरूपति मंदिर में श्रद्धालुओं को मिलने वाली सुविधाओं की तर्ज पर डीपीआर तैयार करवाई गई है। शनिवार को दो दिवसीय जोधपुर व जैसलमेर जिले के दौरे पर पहुंचे शर्मा ने सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गिर्राज परिक्रमा मार्ग पर सुविधाएं विकसित करने के लिए 300 करोड़ खर्च किए जाएंगे।


READ MORE: स्कूली बच्चों के लिए विशेष खबर: शिक्षा मंत्री ने शुरू की ये योजना, जो करेगी शिक्षा व कौशल विकास

5 हजार को हवाई यात्रा

उन्होंने कहा कि प्रदेश में वरिष्ठ नागरिक निशुल्क तीर्थ यात्रा योजना के तहत बीस हजार यात्रियों को यात्रा करवाने के लिए सरकार ने सुविधा प्रदान की है । इनमें  पांच हजार यात्रियों को हवाई यात्रा और 15 हजार यात्रियों को ट्रेन से तीर्थ यात्रा करवाई जाएगी। यात्रा के लिए इस बार केन्द्र सरकार ने बजट आवंटित किया है। अयोध्या यात्रा की मांग को देखते हुए आगामी बैठक में प्रस्ताव रखा जाएगा। 


READ MORE: मारवाड़ रियासत के लिए एेसा बलिदान दे औरंगजेब को दी पटखनी, गोरा ने पेश की थी वफादारी की मिसाल

डोली जमीनों पर सरकार से बातचीत

देवस्थान विभाग की मंदिर डोली जमीनों के विवाद पर कहा कि मंदिरों की डोली जमीन करीब 30 हजार बीघा में 18 हजार बीघा में कब्जे हो चुका है। ठाकुरजी के नाम जमीन का मालिकाना हक होने कारण पुजारियों को खेती-बाड़ी की समस्या हल के लिए राज्य सरकार से बातचीत जारी है। प्रदेश में कुल 68 हजार मंदिरों में 48 हजार एन्युटी से जुड़े और देवस्थान विभाग प्रबंधित मंदिरों की संख्या 1024 है। देवस्थान प्रबंधित मंदिरों में पुजारियों को मिलने वाला वेतन दुगना कर दिया गया है।

देश के चारों धाम में बनेंगी देवस्थान धर्मशाला

प्रदेश में 12 जगहों पर निर्मित देवस्थान विभाग की ओर से निर्मित धर्मशालाओं को जल्द ही आरंभ कर दिया जाएगा। इनमें जोधपुर की धर्मशाला आरंभ हो चुकी है। देश के चार प्रमुख तीर्थ स्थलों बद्रीनाथ, तिरूपति, रामेश्वरम और जगन्नाथ की यात्रा पर राजस्थान से जाने वाले यात्रियों की सुविधार्थ देवस्थान विभाग के विश्राम गृह निर्मित किए जाएंगे। धर्मशाला के लिए संबंधित राज्य सरकारों को भूमि आवंटन के लिए पत्र लिखे जा चुके है। भूमि आवंटन होते ही कार्य शुरू कर दिया जाएगा। चेयरमैन शर्मा शनिवार दोपहर कुछ देर सर्किट हाउस में रूकने के बाद सड़क मार्ग से निजी कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए जैसलमेर रवाना हुए। 


READ MORE: सीएम तो चाहती हैं, पर अफसर ही शिविरों में नहीं कर रहे काम


राजस्थान ब्राह्मण महासभा के प्रदेश महामंत्री पवन वैष्णव, महासभा देहात जिलाध्यक्ष घनश्याम ओझा, भाजयुमो देहात जिलाध्यक्ष नथमल पालीवाल, नितेश शर्मा आदि ने पुष्पमाला पहनाकर शर्मा का स्वागत किया। सर्किट हाउस में पुष्करणा ट्रस्ट के चुनाव करवाने की मांग को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल ओपी शर्मा के नेतृत्व में मिला और चुनाव प्रक्रिया में विभाग की भूििमका के बारे में बताया।

rajasthanpatrika.com

Bollywood